रात की रानी लगाने का तरीका, फायदे, केयर टिप्स | Raat ki Rani

Raat ki Rani – इसे रात की रानी इसलिए कहा गया क्योंकि इसके फूल रात में खिलते हैं और दिन में बंद रहते हैं। रात की रानी के फूल की महक काफी दूर तक फैलती हैं और माहौल को खुशनुमा बनाती है। आगे हम रात की रानी और सांप के भ्रम, रात की रानी के फायदे और प्रयोग, रात की रानी लगाने का तरीका व केयर टिप्स की जानकारी बतायेंगे। 

रात की रानी – about Raat ki Rani plant in hindi 

गजब की लाजवाब खुशुबू वाले फूल रात की रानी को English में Night blooming jasmine कहते हैं। रात की रानी का बोटैनिकल नाम Cestrum Nocturnum है। मूलतः वेस्ट इंडीज का यह पौधा हर तरह के मौसम और देश में लगाया जा सकता है। रातरानी चमेली कुल का पौधा है। 

इसके पौधे ऊंचाई में 10-12 फीट तक जा सकते हैं और 6 फीट तक फैलाव हो सकता है। वैसे सामान्यतः यह 5-6 फीट ऊँचे ही देखे जाते हैं। आप छंटाई करके इसके आकार को कण्ट्रोल कर सकते हैं. छंटाई फूल निकलने के सीजन के बाद ही करें। 

रात की रानी का फूल (Raat ki rani flower) 5 पंखुड़ी वाले स्टार जैसे दिखते हैं व पत्तियाँ छोटी, चिकनी होती हैं। ये पौधे साल में करीब 4 बार फूल देते हैं और उसके बाद इस पर छोटे-छोटे सफ़ेद बेरी जैसे फल निकलते हैं जोकि बीजों से भरे होते हैं।

Raat ki rani ka paudha
Raat ki Rani Fruit, Flower & Plant

ये फल इन्सान या जानवरों के खाने के लिए नहीं हैं. अगर आपको इन फल से नए पौधे नहीं तैयार करने हैं तो इन्हें तोड़कर कचरे में फेंक दें. इनका सेवन नुकसानदायक हो सकता है.

ये पौधे स्व-परागण (self-pollinating) करते हैं, इसके लिए इन्हें किसी अन्य पौधे की जरूरत नहीं होती. इसके पौधे रात में खिलते हैं इसलिए छोटे पतंगे इसका परागण करते हैं.

पढ़ें> लगायें पैसों का पौधा नोबची घास

क्या रातरानी से सांप आते हैं ? Ratrani tree attract snakes in hindi :

लोगों में यह एक प्रचलित भ्रम है कि रात की रानी लगाने से सांप आते हैं. इस बात में कोई भी सच्चाई नहीं है. मैंने कितने ही लोगों के घरों में रातरानी लगा हुआ देखा है, जिन्हें कभी भी ऐसी कोई समस्या नहीं हुई.

ऐसा कोई भी प्रमाण नहीं मिला है कि रातरानी फ्लावर सांप को आकर्षित करती है. किसी भी पेड़ के पास अक्सर सूखी-पत्तियाँ, घास आदि जमा हो जाना स्वाभाविक है. ऐसे खर-पतवार में कहीं से आकर सांप छिप सकता है. इसलिए केवल रात की रानी को सांप से जोड़ना एकदम गलत और अतार्किक है.

रात की रानी केवल छोटे पतंगों, मधुमक्खी और चिड़ियों को अपनी ओर आकर्षित करती है जोकि ज्यादातर फूल वाले पौधों के लिए सामान्य बात है. इसलिए बेफिक्र होकर रात की रानी लगायें और आनन्द लें.

पढ़ें> घर में श्यामा तुलसी लगायें, इसके फायदे कमाल हैं

रात की रानी के फायदे – Raat ki rani plant benefits in hindi | Ratrani ka Paudha

1) रात की रानी का तेल या इत्र (Essential oil) स्किन समस्याओं जैसे मुहांसे, चोट के निशान, दाग-धब्बे, पिम्पल में लगाने पर फायदा करता है. कॉस्मेटिक इंडस्ट्री के कई प्रोडक्ट्स, शैम्पू, लोशन आदि बनाने में इसका प्रयोग किया जाता है.

2) अरोमाथेरेपी के अनुसार रातरानी का इत्र (Raat ki rani attar) प्रयोग करने से डर, दुःख और निराशा के भाव दूर होते हैं. रातरानी का अत्तर, परफ्यूम आत्मविश्वास, आशा और उत्साह के भाव को जगाते हैं.

3) इसके एसेंशियल आयल या तेल की खुशबु माहौल में प्रेम और रोमांस का मूड बनाते हैं. रात की रानी की खुशबू शरीर की ऊर्जा को जाग्रत करने, संरक्षित करने और बैलेंस करने का काम करती है.

4) रातरानी (Raatrani) की पत्तियों में मच्छर भगाने का गुण होता है. इसके फूल और पत्तियों को पीसकर आंगन में छिड़काव करने से शाम को मच्छर नहीं आते. (पढ़ेंमच्छर काटने का इलाज)

5) रातरानी की पत्ती को पीसकर सूजन वाली जगह पर पुल्टिस बांधने से सूजन कम होती है.

6) मुंह में छाले होने पर रात की रानी की एक पत्ती का टुकड़ा मुंह में डाल कर कूंचे. रस को छाले वाली जगह पर फिराएं फिर सब थूक दें. 1 दिन में 2-3 बार ऐसा करें, छाले ठीक होंगे.

7) आयुर्वेद में रात की रानी का प्रयोग चोट, त्वचा समस्या, सरदर्द, मसूढ़े की सूजन, नपुंसकता, नेत्र रोग के इलाज में होता है. इससे डिप्रेशन, तनाव, तंत्रिका-तन्त्र, प्रसूति सम्बन्धी समस्याओं का समाधान किया जाता है.

पढ़ें> घर की हवा शुद्ध करने वाले ये पौधे जरुर लगाना चाहिए

रात की रानी का पौधा कैसे लगायें – How to plant Raat ki rani in hindi 

इस पौधे को लगाना और देखभाल करना आसान है. वैसे तो रातरानी का पौधा किसी भी मिट्टी में लग जाता है, पर इसे सामान्य मिट्टी या कुछ नम, बलुई मिट्टी पसंद है.

रात की रानी की कलम लगाना, बीज लगाने से ज्यादा आसान तरीका है. आप इसकी 6-7 इंच की कलम को लेकर मिट्टी और खाद से भरे किसी गमले में लगा दे. इसे नियमित पानी देते रहें और किसी कम धूप वाली जगह पर रखें.

इसकी कलम लेकर पानी से भरे किसी जग, बोतल में डाल कर रख देंगे तो भी जड़ निकलने लगेंगी. ध्यान रखें कि जो कलम आप लें उसमें 1 या 2 पत्ती हों लेकिन फूल या कली न हों.

पानी इतना दें कि मिट्टी सूखने न पाये और कुछ नमी बनी रहे. 1-2 हफ्ते में नयी पत्तियाँ आने लगेंगी जोकि इस बात का लक्षण होता है कि कलम लगाना सफल हुआ.

अगर आप 1 से अधिक रात की रानी के पौधे लगा रहे हैं तो इनमें 3 फीट का अंतर रखें.

पढ़ें> गमले में धनिया लगाने का तरीका सीखें और धनिया उगायें

रात की रानी प्लांट केयर – Raat ki Rani plant care tips in hindi :

रातरानी (Night jasmine) ऐसी जगह लगायें, जहाँ दिन के कुछ घंटे धूप आती हो. एकदम तेज धूप की जरुरत नहीं है. गर्मियों में इसे नियमित पानी दें और ठंड के मौसम में 2-3 दिन के अन्तराल पर पानी दें.

अगर इसे गमले में लगाया है तो ध्यान रखें कि पानी इसमें रुका न रहे. मिट्टी में नमी तो रहे लेकिन एक्स्ट्रा पानी नीचे से बाहर निकल जाये. ज्यादा पानी देने या पानी रुकने से पत्तियाँ पीली पड़ने लगती हैं और जड़ ख़राब होती है.

बहुत ठंडी या बर्फबारी से इसके पेड़ नष्ट हो जाते हैं लेकिन सीजन आने पर फिर से तैयार हो जाते हैं और पत्तियां आ जाती हैं. इसके फूल भी गर्म मौसम में आते हैं.

अगर रात की रानी गमले में लगाया गया है तो साल भर में इसकी मिट्टी+खाद बदल दें या बीच-बीच में कोई खाद डाल दिया करें.

रात की रानी के पौधे की अच्छी बढ़त के लिए 2 हफ्ते में एक बार इसे समुद्री घास की खाद (Seaweed) या मछली की खाद (fish emulsion fertilizer) का पतला घोल डाला करें.

ये न मिले तो कोई भी जैविक खाद डाल सकते हैं. फूल न आ रहें तो महीने में एक बार थोड़ा सा Low nitrogen NPK fertilizer डालें.

रात की रानी की जानकारी को Whatsapp, Facebook पर शेयर और फॉरवर्ड करें, जिससे और लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें. इस विषय से जुड़ा कोई सवाल या सुझाव के लिए नीचे कमेंट करें.

ये लेख दोस्तों को Share करे

Arvind

अरविन्द शब्दबीज.कॉम के एडिटर हैं और पिछले 6 वर्षों में आपने इस वेबसाईट के लिए कई बेहतरीन लेख लिखे हैं जोकि बहुत लोकप्रिय हुए हैं। अगर आप इनसे संपर्क करना चाहें तो मेल करें - shabdbeej@gmail.com

36 thoughts on “रात की रानी लगाने का तरीका, फायदे, केयर टिप्स | Raat ki Rani”

  1. बहुत अछि लगी रात की रानी पर के आज ही एक पौधा गमले में लगाते ।
    धन्यवाद

    Reply
  2. इसके पत्तों का काढ़ा भी उपयोग किया जाता है क्या??..

    Reply
  3. रात रानी का पौधा घर के दीवाल के पास है तो क्या यह घर की दीवार को नुक्सान पहुंचा येगा ?

    Reply
    • Rat ki rani me pani kam dene ya jarurat se jyada dene par aisa hota hai. Dhyan rakhe ki pani tabhi de jab mitti chhune me sookhi lage. jab pani dale to 1 mug se jyada pani na de. Agar paudha gamle me hai to jameen me lagaye. Paudhe me NPK fertilizer dale.

      Reply
  4. Kya ye ghar k bahr lgane k liye achha h?? Kyuki mai ek pedh lgana chahti thi ghr k bahar but sb khte h ki iski height jada ni hoti isliye ye gamle me lgana better h bahar ni,,, plz suggest me…

    Reply
    • Maine to hamesha Ratrani ko jameen me hi lage dekha hai. Iski average height 6-8 feet hoti hai, isliye ye Gamle ke bajay jameen me lagana hi sahi hai. ghar ke bahar, Aangan ya lawn me aram se laga sakte hain. Jab iske phool mahkenge to aap Thanks bolege. Gamle me lagao to kai paudhe ek limit ke bad grow nahi karte, Raat ki rani ki Asli growth jameen me hi hoti hai.

      Reply
  5. रातरानी लगाये 4 माह हो गये है फिर भी फुल नही आ रहे है क्या करे कुछ उपाय बताऐ

    Reply
    • Ratrani ko bahut kadi dhup nahi chahiye, 6 hours ki dhoop kafi hai. Aisi jagah paudha ho jaha thodi shade bhi ho. Pani jado me rukna nahi chahiye. Week me 2 baar NPK fertilizer 1/2 spoon lekar 1 litre pani me milakar dale.

      Reply
  6. मेरे घर में रात की रानी का पौधा गमले में लगा हुआ है जो अब बड़ा हो चुका है क्या मैं इस पौधे को घर के गेट के सामने मिट्टी में लगा सकता हूं बस यही जानना था मुझे कृपया मुझे अवश्य रिप्लाई करें धन्यवाद

    Reply
    • जी हाँ, बिल्कुल ! यह एक अच्छा उपाय है क्योंकि रातरानी का पौधा जमीन में लगाने पर ही अपनी पूरी बढ़त पाता है।

      Reply
  7. Sir me last year september me is plant ko layi thi..but koi flowering nhi hui. Kuch suggest kijiye ki is season me ye flower de ..plant ki growth to acchi horahi h..but flowering ho iske liye bataye ap.

    Reply
  8. कृपया रात रानी के बीज को बोनी की विधि बताएं

    Reply
    • बीज को मिट्टी में करीब 1 इंच दबाकर पानी डाल दें और किसी छाँव वाली जगह रख दें। जब मिट्टी सूखने लगे तो बस इतना पानी डालें कि मिट्टी में नमी बनी रहे। बोने की मिट्टी में 50% गोबर खाद होनी चाहिए। करीब 1 हफ्ते में बीज अंकुरित हो जाएंगे। जब तक पौधे 5-6 इंच ऊंचे न हो जायें सीधे धूप न रखें।

      Reply
  9. रातरानी के पौधे में एनपीके फर्टिलाइजर 19 19 19 डालना सही रहेगा क्या उचित उपाय बताएं

    Reply
    • डाल सकते हैं। ये एक बैलेन्स्ड फर्टलाइज़र है। 1/2 चम्मच 1 लीटर पानी में मिलाकर, जड़ के पास महीने में 1 बार डालें। पौधा 4-5 फुट ऊंचा है तो महीने में 2 बार भी डाल सकते हैं।

      Reply
        • 7:7:7 ya 11:11:11 इस प्रकार के फर्टिलाइजर जिसमें तीनों चीजें एक बराबर अनुपात में होती हैं, बैलेन्स्ड खाद कही जाती है। ये अनुपात Nitrogen : Phosphorus : Potassium का होता है। रातरानी चमेली कुल का पौधा है और इसके बढ़ते हुए पौधे को बैलेन्स्ड खाद पसंद है। अगर पौधा पर्याप्त बढ़ चुका है और केवल फूल लाने के लिए खाद डालना है तो 7:9:5 अनुपात अच्छा है, जिसमें फूल खिलाने के लिए जरूरी फॉसफोरस, अन्य 2 तत्वों की तुलना में अधिक मात्रा में हैं।

          Reply
    • Mealybug hatane ka best tarika hai koi detergent ko pani me milakar, bottle me bharkar 2-3 din spray kijiye. Agr neem oil mil jaye to use bhi pani me mix karke spray kar sakte hain. Poore plant par spray karna hai. You can spray sanitizer on mealybugs too, because it has Alcohol.

      Reply
  10. Hii mere pass night blooming h mene jab s is ka gamla change Kiya h jab s murjha gaya h or iski pattiya bhi gir rahi h or one time bhi flowers nahi aay h M Kya kru.

    Reply
    • Kya naye gamle me pani to nahi rukta hai ? agar han to gamle se extra pani nikalne ka upay kare. Mitti me sand mix kare, gamle ke niche hole par small stones rakhe. Paudhe ko bahut jyada pani na de, jab mitti sukhi dikhe tabhi pani de. Gobar ki khad dale ya 1 spoon npk fertilizer 1 litre pani me mix krke dale. Sookhi pattiyon, dalon ki chhantai kar de jisse paudhe ki energy waste na ho. jab tak paudhe me sudhar na ho jaye, ise aisi jagah rakhe jaha se din me 4-5 hours se jyada dhoop na lage.

      Reply

Leave a Comment