तांबे के बर्तन का पानी पीने के 21 फायदे | Tambe ke bartan mein pani peene ke fayde

आइए जानें तांबे के बर्तन में पानी पीने के फायदे क्या हैं और ये पानी किन रोगों में फायदेमंद है। आजकल तांबे की बोतल, गिलास, जग, लोटा का उपयोग सेहत के प्रति जागरूक लोग खूब कर रहे हैं। भारत में हमेशा से तांबा पानी पीने के बर्तन बनाने में प्रयोग किया जाता रहा है। 

तांबे के बर्तन में पानी पीने के फायदे, गुण – Benefits of Copper water in hindi 

  1. यह हमारे रोग प्रतिरोधक क्षमता और पाचन तंत्र को मजबूत करता है। 
  2. वजन कम करने में मदद करता है। 
  3. स्किन में चमक लाता है और दाग-धब्बे कम हटाता है। 
  4. खून की कमी (anemia) दूर करता है। 
  5. घावों को जल्दी भरता है। 
  6. बुढ़ापे की दर को कम करता है। 
  7. हमारे हृदय (cardiovascular) को मजबूत करता है और हाइपरटेंशन (hypertension) में लाभदायक है। 
  8. कैंसर होने की संभावना कम करता है। 
  9. बैक्टीरिया को मारता है। 
  10. दिमाग को तेज करता है। 
  11. थायराइड ग्लैन्ड को कंट्रोल करता है। 
  12. गठिया (Arthritis) और जोड़ों की सूजन कम करता है। 
  13. कोलेस्ट्रोल कम करता है। 
  14. लीवर, स्प्लीन और लिंफ सिस्टम (Lymph system) के लिए टॉनिक का काम करता है। 
  15. शरीर को लौह तत्व (Iron) एब्सॉर्ब करने में मददगार है। 
  16. किडनियों को साफ करता है। 
tambe ke bartan ke fayde
ताम्बे के पात्र – Copper – Tamba in english 

तांबे के बर्तन के फायदे – Tambe ke bartan ke fayde in hindi

भारत में प्राचीन समय से ही बर्तनों को उनके कार्य और उपयोग के हिसाब से अलग अलग धातुओं से बनाया जाता था क्योकि कुछ धातुओं के बर्तन उनमे रखे जाने वाले भोजन से (Chemical reaction) रासायनिक प्रतिक्रिया करने लगते थे। इसलिए इस बात का ध्यान रखा जाता था कि बर्तनों को धातु के गुण के हिसाब से सही उपयोग में ही लाया जाये। 

1) अगर तांबे के बरतन में रखा पानी कुछ अशुद्ध है तो कुछ ही घंटो में पानी शुद्ध हो जाता है। तांबा के बर्तन (Copper utensils) में रखा पानी रासायनिक प्रतिक्रिया करके जीवाणुनाशक बन जाता है। यह ताम्बे का पानी स्वास्थ्य के अत्यंत लाभकारी होता है।  यह पानी रक्त को शुद्ध करता है, पाचन तंत्र मजबूत करता है। 

2) तांबे के बर्तन रखे पानी (Copper water) में जीवाणुरोधी (antimicrobial), एंटीऑक्सीडेट (antioxidant), कैंसररोधी (anti-cancer) और एंटीइन्फ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण आ जाते हैं।     

3) वर्ष 2012 में हुई एक स्टडी में पता चला था कि सामान्य तापमान पर तांबे के बर्तन में 16 घंटे तक रखने पर दूषित (contaminated) पानी में मौजूद हानिकारक जीवाणुओं की संख्या में कमी आ गई थी। 

वैज्ञानिको ने प्रयोग के तौर पर ऐसे पानी को लिया कि जिसमे पेट के पेचिश रोग को पैदा करने वाले वायरस, अमीबा ई-कोली थे। कुछ घंटो के पर्यवेक्षण के बाद वैज्ञानिको ने देखा कि हानिकारक बैक्टीरिया पूरी तरह से समाप्त हो चुके थे। 

4) भारत में तो लोग सदियों से इस बात को जानते हैं कि (Copper ware) तांबे के लोटा में रखे पानी में औषधीय गुण आ जाते हैं। 

5) एक रिसर्च में पता चला कि अस्पतालों में तांबे की सतहों की मौजूदगी से ICU में पाए जानेवाले 97 प्रतिशत बैक्टीरिया नष्ट हो गए, जिनसे होनेवाले इन्फेक्शंस में 40 प्रतिशत की कमी आई। 

इन्ही खूबियों को जानकर पहले समय के लोग तांबे के पात्र पानी रखने और पीने के काम लेते थे। तांबे का लोटा सूर्य भगवान को जल देने में प्रयोग किया जाता रहा है। 

tambe ke bartan ka pani
ताम्बे का जग

6) भारतीय योगी सद्गुरु जग्गी वासुदेव कहते हैं – तांबे के पात्र में रात भर या कम से कम 4 घंटे तक रखे गए पानी में तांबा धातु के वे गुण आ जाते हैं जिनसे शरीर, विशेषकर हमारे लीवर को बहुत लाभ पहुंचता है। यह शरीर को स्वस्थ और ऊर्जावान रखता है। 

– हमें ऐसे लगता है कि बड़े बड़े अमीर लोग, हीरो-हिरोइन वगैरह किसी दूसरी दुनिया के बने खान-पान का प्रयोग करते हैं, ऐसा बिलकुल भी नहीं है। एक इंटरव्यू में करीना कपूर, मलाइका अरोरा ने बताया कि सुबह उठने पर सबसे पहले वो रात भर तांबे के जग में रखा हुआ पानी (Copper water) पीते है। 

ताम्बे के बर्तन की सफाई कैसे करे – Tambe ke bartan kaise saaf kare

जिस तांबे के बर्तन से आप पानी पीते हैं वह बर्तन 1-2  दिन में धुलना जरूर चाहिए। इसका कारण यह है कि तांबा पानी के साथ प्रतिक्रिया करके कॉपर ऑक्साइड बना देता है जोकि जंग जैसा बर्तन की दीवारों पर जम जाता है। इसे साफ करना आवश्यक है अन्यथा यह पानी तांबा धातु के लाभदायक फायदे नहीं दे पायेगा। 

तांबा का बर्तन साफ करे – घरेलू तरीका

नींबू, खटाई, टोमेटो केचप, नमक और सफ़ेद सिरका आदि से ताम्बे के बर्तन रगड़ें और दाग छुड़ा लें। इसके बाद किसी डिटरजेंट से धुल दें। बर्तन एकदम नए चमकने लगेंगे। 

तांबा का बर्तन की सफाई – केमिकल प्रोडक्ट 

तांबे के बर्तन चमकाने के लिए पीतांबरी पाउडर से साफ करना भी अच्छा तरीका है। पीतांबरी पाउडर तांबे के अलावा पीतल, चांदी, एल्युमिनियम, लोहा के बर्तन साफ करके चमका देता है। पीतांबरी पाउडर को ऑनलाइन खरीदने के लिए ये लिंक देखें > PitambariTambe ke lota ke fayde

तांबे के बर्तन, Copper Jug, Copper Bottle, गिलास, लोटा आदि आपको किसी भी बरतन की दुकान से मिल सकते है। इंटरनेट से खरीदना हो तो यह लिंक देख सकते हैं > Buy now

एक समझदार आदमी को चाहिए कि वह अपने पूर्वजो की परम्परा का पालन करे/न करे पर कम से कम तांबे के फायदे जानकर ही सही तांबे के बरतनों का प्रयोग पानी पीने में करें। 

ताम्बे के बर्तन के फायदे, पानी पीने के फायदे (Copper water benefits in hindi) पर यह लेख अच्छा लगा तो शेयर और फॉरवर्ड अवश्य करें, जिससे अन्य लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें। अपने सवाल, सुझाव नीचे कमेंट करें। 

यह भी पढ़ें :

शरीर में पानी की कमी से होते हैं ये 13 बीमारियाँ

मीठा लाल तरबूज खरीदने के 4 सही तरीके जानें

रूह अफ़ज़ा पीने के फायदे, रूह अफज़ा कैसे बनायें

खस क्या है, खस का शरबत पीने के फायदे

क्या सारे बोतलबंद पानी मिनेरल वाटर होते हैं ? जानें सच्चाई

देसी घी खाने के 6 फायदे, देसी घी वजन बढ़ाता नहीं कम करता है

Sources : https://www.healthline.com/health/heavy-metal-good-for-you-copper

https://www.webmd.com/vitamins-and-supplements/copper-your-health#1

https://www.verywellhealth.com/copper-benefits-4178854

ये लेख दोस्तों को Share करे

शब्दबीज संपादक पिछले 5 वर्षों से हिन्दी में विभिन्न विषयों पर अच्छे लेखों का प्रकाशन कर रही है। हमारा उद्देश्य है कि सही जानकारी, अनुसंधान और गुणवत्ता पूर्ण लेख से हमारे पाठकों का ज्ञानवर्धन हो।

1 thought on “तांबे के बर्तन का पानी पीने के 21 फायदे | Tambe ke bartan mein pani peene ke fayde”

  1. आज हम अपने पूर्वजों के ज्ञान और संस्कार को भूलकर पश्चिमी सभ्यता के पीछे भाग रहे हैं, हिन्दुओं का ज्ञान हमेशा से ही वैज्ञानिक रहा है| लेकिन आज लोग केवल पैसा बनाने के लिए विज्ञापनों के माध्यम से नई पीडी को गुमराह कर रहे हैं| कॉपर और पीतल को हमेशा से ही एक शुद्ध धातु माना गया है| इसलिए मंदिरों में कभी भी स्टील के पात्र प्रयोग नहीं किये जाते हैं. केवल कॉपर के ही वर्तन से शिवजी को जल चढ़ाया जाता है| आपने अपने आर्टिकल के माध्यम से कॉपर के गुण बताने की अच्छी कोशिश की है| लेकिन जब तक जन जागरण नहीं होगा तब तक इसे व्यवहार में लाना बहुत मुश्किल है| कुछ कोशिश आप करेंग और कुछ हम

    Reply

Leave a Comment