खस क्या होता है व खस शर्बत के 10 फायदे | Khus sharbat benefits in hindi

Vetiver in hindi – खस क्या है | Khus in hindi 

खस एक खुशबूदार घास होती है। खस को इंग्लिश में Vetiver Grass कहते हैं, जोकि खस का तमिल शब्द है। पुराने ज़माने में गर्मी से बचाव के लिए खस के पर्दे बनवाए जाते थे, जिसे पानी से तर रखते थे। जब गर्मियों की गरम लू जैसी हवा इनसे गुजरकर कमरे में आती तो ठंडी हो जाती, साथ ही इसकी तरावट वाली बढ़िया खुशबु से कमरा महक जाता था। 

आज भी खस की घास गर्मियों में कूलर की दुकान पर मिलती है। जब आप अपने कूलर की घास भरवाएं तो साथ में थोड़ा खस की घास भी मिक्स करवा लें। गज़ब की खुशबू और ठंडक मिलेगी आपको। 

– गुच्छों में उगने वाले खस के पौधे की ऊंचाई 5-6 फीट तक हो सकती है। पौधे देखने में सरकंडे या सरपत के पौधे जैसे लगते हैं। 

खस की जड़ – Vetiver Roots in hindi

खस की जड़ों (Khus Roots) से तेल निकाला जाता है। खुशबूदार खस के तेल से खस इत्र, अत्तर, Vetiver Perfume, शर्बत, सुगन्धित तेल, दवाइयाँ, साबुन और कॉस्मेटिक्स बनाये जाते हैं। 

– खस का तेल 50,000 रुपये लीटर या इससे ज्यादा भी महंगा हो सकता है। खस का अत्तर अरब व अन्य देशों में बहुत पसंद किया जाता है. यह तेल कई देशों में निर्यात भी किया जाता है। 

Vetiver Grass in hindi

खस का पौधा (Khus grass) पानी वाली जगह जैसे झील, तालाब, नदी आदि के किनारे अपने आप उग आता है. उत्तर भारत के राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार व दक्षिण भारत में केरल, कर्नाटक आदि राज्यों में खस की खेती की जाती है.

पढ़ें > खस की खेती से मोटी कमाई करें

खस का शरबत पीने के फायदे – Khus Sharbat benefits in hindi : 

1) खस की तासीर ठंडी होती है इसलिए खस का शरबत गर्मियों में पीने के लिए एक फायदेमंद और बेहतरीन ड्रिंक है।

2) यह शर्बत पीने से प्यास बुझती है, शरीर की जलन मिटती है, दिमाग और शरीर में तरावट आती है व गर्मियों के स्किन प्रॉब्लम भी ठीक होते हैं.

3) खस में आयरन, विटामिन B6, जिंक, मैंगनीस जैसे मिनेरल्स होते हैं। खस शरबत Blood Circulation सही करता है और ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल करता है। 

4) कड़ी धूप में निकलने पर गरमी लगने के प्रभाव से कई बार आँखें लाल होने की दिक्कत होती है। खस का शर्बत पीने से यह ठीक हो जाता है। 

5) गर्मियों में कभी ऐसा होता है कि बहुत ज्यादा प्यास लगती है और पानी पीते रहो तो भी प्यास नहीं बुझती। ऐसे में खस का शर्बत पीने से प्यास शांत होती है और राहत मिलती है। 

6) खस ढेरों एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है जोकि Immunity बढ़ाते हैं और Free radical damage से बचाते हैं। 

अगर आप खस का शर्बत ऑनलाइन खरीदना चाहते हैं तो ये लिंक देख सकते हैं > Khus Sharbat

खस के फायदे, खस की जड़ के फायदे – Vetiver benefits in hindi :

7) खस (Vetiver) का उपयोग हार्ट रोग, उलटी, स्किन रोग, बुखार, धातुदोष, सिरदर्द, रक्त विकार, पेशाब की जलन, सांस के रोग, पित्त रोग, मांसपेशियों की ऐंठन, हार्मोनल समस्याओं में भी फायदेमंद है.

8) खस के तेल की मालिश करने से कमरदर्द, मोच में आराम मिलता है. खस के तेल का अरोमाथेरेपी में भी प्रयोग किया जाता है.

9) खस की खुशबु से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, नर्वस सिस्टम शांत होता हैं और डर, असुरक्षा की भावनायें दूर  होती है. खस के तेल की महक स्ट्रेस दूर करने, नींद लाने में सहायक होती है.

पढ़ें > खुशबू से इलाज करने वाली अरोमाथेरपी के 7 फायदे

10) खस के पौधे (Vetiver Plant) लगाने का सबसे बड़ा फायदा तो पर्यावरण को होता है. सदियों से जानकार भारतीय किसान खस के पौधे लगाकर भूमि के कटाव रोकने यानी मृदा संरक्षण (Soil conservation), पानी साफ़ करने व जल संरक्षण (Water conservation) करते आ रहे हैं.

Khus ki tatti Vetiver Curtains

– खस (Vetiver) का प्रयोग गर्मियों में चलने वाले कूलर फैन में महकने वाली घास के रूप में किया जाता है. लकड़ी की छीलन के बीच में इसे लगाने से कूलर से बढ़िया भीनी भीनी तरावट वाली खुशबू आती है.

– खस की ऊपरी घास काटकर नीचे की घास से खस के पर्दे बनाये जाते हैं, जिसे खस की टट्टी कहा जाता था. पहले लोग गर्मियों में घर की खिडकियों में खस के पर्दे लगाकर उन्हें पानी से भिगोये रखते थे, जिससे गर्मियों की लू भी ठंडी, महकदार हवा में बदल जाती थी.

खस के बारे में इस जानकारी को अपने मित्रों को भी Whatsapp, facebook पर शेयर करें.

खस का उपयोग हमारे इतिहास की परम्परा रही है. आप भी खस के शरबत और तेल का उपयोग करके लाभ उठायें. क्या आप खस की खुशबु पहचानते हैं ? खस के बारे में अपने कोई भी अनुभव और सुझाव नीचे कमेंट करें.

ये भी पढ़ें :

ये लेख दोस्तों को Share करे

शब्दबीज संपादक पिछले 5 वर्षों से हिन्दी में विभिन्न विषयों पर अच्छे लेखों का प्रकाशन कर रही है। हमारा उद्देश्य है कि सही जानकारी, अनुसंधान और गुणवत्ता पूर्ण लेख से हमारे पाठकों का ज्ञानवर्धन हो।