सेंधा नमक काला नमक के 21 फायदे | Kala Namak fayde Kala Namak benefits

सेंधा नमक और काला नमक – Sendha Namak & Black Salt in hindi :

बाज़ार में मुख्यतः 2 प्रकार के नमक मिलते हैं. सफेद नमक (White Salt) या फिर सेंधा नमक (Rock salt) और काला नमक  (Black salt) क्रिस्टल व पाउडर रूप में. आयुर्वेद के अनुसार सफ़ेद नमक में सोडियम, अन्य केमिकल मात्रा ज्यादा होती है, जो स्वास्थ्य के लिए अच्छा नही है.

इस लेख में सेंधा नमक और काले नमक के गुण और लाभ बताये गये हैं. पढ़िए काले नमक सेंधा नमक को कैसे उपयोग करें. 

सेंधा नमक क्या है, कहाँ पाया जाता है – Rock Salt in hindi :

सेंधा नमक हल्का सफ़ेद-गुलाबी सा नमक Crystal और Powder रूप में बाज़ार में मिलता है, जो ज्यादातर व्रत के खाने में प्रयोग किया जाता है. शुद्ध नमक होने की वजह से सेंधा नमक व्रत में प्रयोग होता है.

सेंधा नमक खाने के लिए सबसे अच्छा नमक माना गया है. समुद्री नमक (Sea salt in hindi) की तरह इसमें विषैले तत्व नहीं पाए जाते हैं.

यह नमक पंजाब के पाकिस्तानी भाग, हिमालय के कुछ नमक की खान, सूखी हुई झील के नमक की खानों से निकाला जाता है.

सेंधा नमक (Sendha salt) में सामान्य नमक से कम मात्रा में सोडियम होता है. सेंधा नमक में Calcium, Iron, पोटैशियम, मैगनिशियम, कॉपर जैसे लगभग 94 तरह के खनिज तत्व पाए जाते है जबकि साधारण नमक में केवल 3 तरह के खनिज होते है.

सफ़ेद और रंगहीन प्रकार का सेंधा नमक सबसे अच्छा माना गया है. सामान्यतः प्रयोग होने वाला हल्के गुलाबी रंग का सेंधा नमक हिमालयन नमक (Himalayan rock salt in hindi) कहा जाता है, यह नमक भी अच्छा होता है.

सेंधा नमक के फायदे – Sendha Namak in hindi :

1) सेंधा नमक आयुर्वेद में त्रिदोषों के वजह से उपजे रोग के उपचार में प्रयोग होता है. सेंधा नमक पित्त दोष दूर करता है. 

2) सेंधा नमक ह्रदय के लिए अच्छा होता है. सेंधा नमक का सेवन डायबिटीज और ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) से बचाता है.

3) सेंधा नमक डिप्रेशन (Depression), तनाव (Stress) कम करने में मदद करता है. मांसपेशियों के खिचाव और जकड़न से राहत देता है.

4) सेंधा नमक खाने से ब्लड प्रेशर सामान्य रखता है, यह रक्त वाहिकाओं को लचीली बनाए रखता है.

5) चूँकि यह नमक एसिड-एल्कलाईन को बैलेंस करता है अतः सेंधा नमक पाचन में सहायता करता है.

6) सेंधा नमक (Rock salt) कई तरह के त्वचा रोगों से मुक्ति दिलाता है. सेंधा नमक हाथ-पैर सुन्न होने की समस्या का भी निदान करता है.

7) जिन्हें आर्थराइटिस (Arthritis) की समस्या हो, उन्हें साधारण नमक के बजाय सेंधा नमक ही प्रयोग करना चाहिए, इससे उन्हें काफी राहत मिलेगी.

8) सेंधा नमक हड्डियों और उनसे जुड़े तंतुओं को मजबूत बनाता है. जो लोग किडनी की बिमारियों (Kidney diseases) से ग्रस्त है उनके लिए भी सेंधा नमक फायदेमंद है.

काला नमक के फायदे और लाभ – Black Salt in Hindi :

काला नमक पाउडर रूप में गहरा गुलाबी रंग और क्रिस्टल रूप में काले-भूरे से रंग का होता है. इस नमक की उबले अंडे जैसी महक इसमें पाए जाने वाले सल्फर तत्व की वजह से होती है.

काला नमक लौह तत्व से भरपूर होता है, इसी वजह से इसका रंग काला सा होता है. आयुर्वेद के अनुसार यह नमक ठंडी और रेचक प्रकृति का होता है. 

Kala Namak भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, हिमालयन नमक की खानों की प्राकृतिक नमक की खानों से निकाला जाता है. भारत में सांभर झील से भी काला नमक (Black salt) निकाला जाता है.

 Kala Namak Black Salt in hindi काला नमक

9) आयुर्वेद में काला नमक कब्ज (Constipation), पाचन समस्या, गैस ठीक करता है. इसीलिए सभी आयुर्वेदिक पाचक गोलियों व चूरन जैसे हिंग्वाष्टक चूर्ण, हाजमोला आदि में काला नमक अवश्य मिलाया जाता है. 

10) पेट में गैस की समस्या ठीक करने के लिए ताम्बे के बर्तन में थोड़ा सा काला नमक धीमी आंच पर गर्म करे. जब नमक रंग बदलने लगे तो गैस बंद कर दें. एक छोटा चम्मच यह नमक 1 ग्लास गुनगुने पानी में मिलाकर पी लें. गैस की दिक्कत से तुरंत आराम मिलेगा. 

11) पैर में सूजन, फटी एड़ियों, गोखरू (warts), पैर में मोच आने पर काला नमक गर्म पानी में मिलाकर बाल्टी या टब में पैर डालकर बैठें. 

12) काला नमक का सेवन बाल झड़ने-टूटने, दोमुंहे बाल की समस्या दूर करके बालों की ग्रोथ और मोटाई बढ़ाता है. बाल लम्बे, चमकदार बनते हैं. काला नमक खाने से आयरन और 80 लाभदायक खनिज शरीर को मिलते हैं, जो बालों की बढ़त के लिए लाभदायक होते हैं. 

13) बालों में रूसी (Dandruff) दूर करने के लिए टमाटर के रस में काला नमक मिलाकर बालों की जड़ों में लगायें. दिन में एक बार यह मिक्स लगाने से डैंड्रफ की समस्या ठीक हो जाएगी. 

14) वजन कम करने, मंद दृष्टि, हाई ब्लड प्रेशर, खून की कमी, सीने की जलन (एसिडिटी से), Goiter, Hysteria व अन्य कई बिमारियों के इलाज में काला नमक प्रयोग होता है. इस नमक में भी सोडियम की मात्रा सामान्य सफेद नमक से कम होती है. 

15) सांस सम्बन्धी बीमारियों जैसे ब्रोंकाइटिस, साइनस, एलर्जी, अस्थमा, सर्दी में काला नमक पानी में मिलाकर इनहेलर से लेने पर फायदा होता है. आयुर्वेद की नेति क्रिया में भी काला नमक प्रयोग होता है. 

Black salt in indian cooking

काले नमक का चटपटा स्वाद सबको पसंद आता है

स्वाद में तेज, चटपटा और पाचक होने की वजह से काला नमक चाट मसाला, रायते, चटनी, Salad, चाट, दही-बड़े और नमकीनो में काफी प्रयोग होता है.

सेंधा नमक और काला नमक कैसे खाएं – Uses of Kala Namak and Rock Salt in hindi :

सेंधा नमक सबसे शुद्ध नमक है जोकि भारत में कम मात्रा में पाया जाता है. इस वजह से यह महंगा भी होता है. सेंधा नमक स्वाद में थोड़ा फीका होता है, इसलिए ज्यादा डालना पड़ता है.

चूंकि सेंधा नमक किफायती नहीं है अतः उपयोग का तरीका ये है कि सेंधा नमक और सफ़ेद नमक (White Salt) को बराबर मात्रा में लेकर मिला लें और भोजन में प्रयोग करें. 

16) सेंधा नमक पानी गरारा करने से गले में दर्द, सूजन, सूखी खांसी, मुंह की दुर्गन्ध की समस्या ठीक होती है.

17) खाली पेट सुबह काला नमक गरम पानी में मिलाकर पीने से मोटापा कंट्रोल होता है, कोलेस्ट्रॉल लेवल कम होता है. लो ब्लड प्रेशर की समस्या में आधा चम्मच सेंधा नमक 1 गिलास पानी में मिलाकर दिन में 2 बार पियें. 

18) काला नमक और पानी शरीर को डिटॉक्स करता है, स्किन को साफ़, सुन्दर बनाता है. काले नमक का पानी पीने से एक्ने, एक्जिमा, रैशेस ठीक होता है.

19) एक चुटकी सेंधा या काला नमक, एक चम्मच अदरक के रस में मिलाकर लेने से भूख बढती है और पाचन क्रिया तेज होती है. आप चाहें तो अदरक घिस कर उसमें काला नमक, नींबू रस मिलाकर कर खाने के साथ चटनी जैसे खा सकते हैं.

दही में काला नमक, भुना जीरा पीस के मिलाकर खाने से भूख और स्वाद दोनों बढ़ता है, पाचन तन्त्र भी ठीक रहता है. दही में  काला नमक, पिसी काली मिर्च डालकर खाने से शरीर की चर्बी कम होती है.  

20) सेंधा नमक, नींबू रस के साथ लेने से पेट के कीड़े (Stomach worms) मरते है और उलटी भी बंद होती है.

21) मांशपेशियों की जकड़न के उपचार में 1 चम्मच सेंधा नमक एक गिलास पानी में डाल कर पियें, तुरंत लाभ होगा.

अगर आपको काला नमक (Black salt in hindi) और सेंधा नमक (Rock salt in hindi) के बारे में जानकारी अच्छी लगी  तो Share और Forward अवश्य करें, जिससे अन्य लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें. अपने सवाल, सुझाव नीचे कमेंट करें.

यह भी पढ़ें :

नमक, अजीनोमोटो ज्यादा खाने के नुकसान | Side effects of salt in hindi

साल्ट लैंप क्या है, साल्ट लैंप जलाने के फायदे | Salt lamp in hindi

हाई ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने वाले 7 नैचुरल उपाय | Blood pressure in hindi

चावल के प्रकार | ब्राउन राइस और सफेद चावल के फायदे | Rice in hindi

देसी घी के 6 फायदे, देसी घी वजन बढ़ाता नहीं कम करता है | Desi Ghee in hindi

One Response

  1. ramsharan

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.