दही खाने के 30 फायदे | दही बालों, पेट, स्किन के लिए | Curd in hindi

दही के फायदे क्या है – Yogurt in hindi :

मनुष्य के भोजन में पिछले 4,500 सालों से दही का प्रयोग हो रहा है. दही (Curd) के स्वास्थ्य लाभ और खाने के फायदे की जानकारी. दही बालों व स्किन को कैसे सुन्दर बनाता है एवं दही कैसे जमायें, आइये जानते हैं.

1) दही में दूध से अधिक कैल्शियम होता है. दही आसानी से पच भी जाता है, इसलिए शरीर में कैल्शियम की कमी हो तो दही खायें. कैल्सियम शरीर में हड्डी, दांत, नाखून आदि का विकास और संरक्षण करता है.

2) आयुर्वेद में दही के कई फायदे बताये गये हैं. दही शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता और ताकत बढ़ाता है. दही पेट की पाचन शक्ति, यौन शक्ति में वृद्धि करता है. दही शरीर में वात को संतुलित करता है और दुर्बलता दूर करता है.

3) आयुर्वेद के अनुसार गाय के दूध से बना दही बलवर्धक, शीतल, पौष्टिक, पाचक और कफनाशक होता है. भैंस के दूध से बना दही रक्त, पित्त, बल-वीर्यवर्धक, स्निग्ध, कफकारक और भारी होता है. मख्खन निकाला हुआ दही शीतल, हल्का, भूख बढानेवाला, वातकारक और दस्त रोकने वाला होता है.

4) दही में प्रोटीन, कैल्सियम, विटामिन A, विटामिन B6, विटामिन B12, विटामिन D, जिंक, मैग्नीशियम, सेलेनियम, राइबोफ्लेविन पोषक तत्व होते हैं.

बालों के लिए दही के फायदे – Dahi benefits for hair in hindi :

5) दही बालों के लिए एक बेहतरीन कंडीशनर है. दही बालों में जड़ से लगायें और 15-20 मिनट लगे रहने दें, फिर बाल धुल लें. यह उपाय बालों की रूसी, रूखापन दूर कर बालों को चमकदार और मुलायम बनाता है.

6) बालो में अगर रूसी ज्यादा है तो दही में काली मिर्च पाउडर मिलाकर बालों की जड़ो में लगायें, थोड़ी देर लगे रहने के बाद धो लें.

Dahi for hair Curd for hair in hindi

बालों में दही लगायें और रूसी से छुटकारा पायें

7) दही में बेसन मिलाकर बालों में लगायें. इस प्रकार बालों में दही लगाने से बालों का झड़ना रुकता है. दही में काली मुल्तानी मिटटी मिलाकर बालों में लगायें, यह शैम्पू का काम करता है और बालों का झड़ना भी कम करता है. 

दही के फायदे स्किन के लिए Skin benefits of Curd in hindi :

8) दही में बेसन, चन्दन पाउडर, थोडा सा हल्दी मिलाकर बना उबटन चेहरे और शरीर पर लगायें, सूखने पर छुड़ा लें. आप की त्वचा पर बेहतरीन चमक, निखार और स्निग्धता आएगी.

9) अगर आपकी त्वचा तैलीय (Oily) है तो दही शहद मिलाकर चेहरे पर लगायें. यह उपाय चेहरे के अतिरिक्त तैलीय तत्व को दूर करता है. स्किन पर बढ़ती उम्र के निशान और झुर्रियों को कम करने के लिए दही में नींबू का रस मिलाकर लगायें. 

10) चेहरे पर होने वाले दानों-मुहांसों के उपचार के लिए खट्टी दही का लेप चेहरे पर लगायें. सूखने पर धो लें, फायदा होगा.

11) दही में शहद, बादाम का तेल मिलाकर चेहरे और त्वचा पर 15-20 मिनट तक सूखने दें. बाद में गुनगुने पानी से धो लें. इससे चेहरे की मृत कोशिकाएं (dead cells) निकल जाएँगी और एक नया निखार चेहरे पर आयेगा.

12) संतरे के छिलके सुखाकर, पीस कर दही में मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरे का रंग साफ़, गोरा होता है. दही में गुलाबजल और हल्दी मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरा मुलायम होता है और निखार आता है. 

13) गर्मियों में तेज धूप में निकलने से त्वचा झुलस (Sunburn) जाती है. सनबर्न हो जाने पर दही मलने से आराम मिलता है. 

दही के गुण, लाभ और उपचार – Curd benefits for health in hindi :

14) दही पेट के लिए अमृत समान माना गया है. दही आंतों और पेट की गर्मी दूर करता है और पाचन तंत्र को सबल बनाता है. दही के सेवन से पेट की परेशानियाँ कब्ज, गैस, अपच आदि से मुक्ति मिलती है. 

15) दही में पाये जाने वाले लाभदायक बैक्टीरिया आंतों को स्वस्थ रखते हैं. इससे पाचन शक्ति बढ़ती है और खुलकर भूख लगती है. दही का सेवन पेट के कैंसर होने से बचाव करता है.

16) दही खाने से पुरुषों की यौन शक्ति बढ़ती है. दही से यौन इच्छा और शुक्राणुओं की संख्या में बढ़ोत्तरी होती है, नपुंसकता दूर होती है. 

17) दही का प्रयोग ह्रदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, किडनी की बिमारियों में अच्छा माना गया है. इसके लिए कम फैट वाले दूध की दही खाएं.

18) कोलेस्ट्रोल बढ़ने से रक्त-वाहिकाओं के रक्त प्रवाह में अवरोध पैदा होता है. दही कोलेस्ट्रोल बढ़ने से रोकता है.

19) कब्ज, बवासीर के उपचार के लिए छाछ में अजवायन मिला कर पिए, फायदा होगा. इसके अलावा नियमित रूप से भोजन के साथ काला नमक डला मठ्ठा पीने से कब्ज सम्बन्धी रोग, बवासीर होने की समस्या नहीं होती. 

20) सर्दी, खांसी और अस्थमा के रोगियों को दही के सेवन से बचना चाहिए.

21) दही के ऊपर का पानी भी फायदेमंद माना जाता है. दही के पानी से दस्त, कब्ज, पीलिया, दमा के रोगियों को लाभ होता है.

22) दही शरीर में श्वेत-रक्त कणिकाओं (White Blood Corpuscles) की संख्या बढाता है, जिससे रोग-प्रतिरोधक क्षमता का तेजी से विकास होता है. एंटीबायोटिक दवाइयों के सेवन के दुष्प्रभाव से बचने के लिए डॉक्टर भी दही खाने की सलाह देते हैं.

23) मुंह के छालों के उपचार के लिए दिन में 3-4 बार छालों पर दही-शहद लगायें या दही को भोजन के साथ लें. 

Dahi se bana raita

दही से बने रायते स्वाद के साथ स्वास्थ्य के लिए भी उत्तम होते हैं

24) दही के नुकसान से बचने के लिए, दही का सेवन करते समय दही में काला नमक, सोंठ, पुदीना, जीरा पाउडर मिलाकर खाएं.

25) बहुत से लोगों को दूध आसानी से नहीं पचता है. वो लोग दही के सेवन से दूध के सभी पोषक तत्व (Nutrition) प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि दही सुपाच्य होता है.

26) दही हमेशा ताज़ा ही खाना चाहिए. दही के सेवन से बढ़िया नींद भी आती है. दही रात में खाने से बचें और अगर खाना ही पड़े तो दही में चीनी डालकर खाएं. इससे पित्त दोष नहीं होगा. 

27) दही (Curd in hindi) से बहुत प्रकार के बेहतरीन भोज्य पदार्थ बनते हैं, जैसे लस्सी, छाछ, रायता, दही के कबाब आदि. दही से बहुत तरह के रायता बनाये जाते है, जैसे ककड़ी, प्याज-खीरा-टमाटर का रायता, बूंदी का रायता, अनानास का रायता आदि. इन रायते और दही-छाछ का सेवन गर्मियों में लू और Dehydration से बचाता है.

28) दही खाना दिमाग के स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है. नई रिसर्च में पता चला है कि दही में पाए जाने वाला Lactobacillus प्रोबायोटिक बैक्टीरिया डिप्रेशन, उलझन-बेचैनी(Anxiety), स्ट्रेस कम करता है. 

दही कैसे जमायें – How to make Curd in hindi :

29) दही ज़माने का तरीका – दही ज़माने का सबसे आसान तरीका यह है कि दूध उबालकर ठंडा होने रख दें. जब दूध थोड़ा गुनगुना रह जाये तो इसमें 3-4 चम्मच दही मिलाकर अच्छे से चला दें, जिससे कि पूरे दूध में दही घुल जाये. अब इसे ढककर किसी गर्म जगह रख दें. 5-6 घंटे में दही जम जायेगा.

अगर दही का जामन न हो तो यह दूसरा उपाय आजमायें. दूध उबालकर ठंडा होने रख दें. जब दूध थोड़ा गुनगुना रह जाये तो 2-3 साबुत लाल मिर्च (डंठल सहित) दूध के बीच में डाल दें.

सूखी मिर्च में पाए जाने वाला Lactobacillus बैक्टीरिया दूध का दही बना देता है. ध्यान रखें कि दही जमाने के लिए दूध बहुत ठंडा या बहुत गर्म नहीं होना चाहिए. गाढ़ी दही के लिए फुल क्रीम मिल्क लें. 

30) दही और योगर्ट में अंतर – दही (Curd) दूध में नींबू का रस या सिरका आदि मिलाकर घर में बनाया जाता है. जबकि योगर्ट (Yogurt in hindi) को बनाने के लिए दूध में बैक्टीरिया (Yogurt cultures) डालकर बड़े औद्योगिक स्तर पर तैयार किया जाता है. बाजार में बहुत प्रकार के flavored yogurt मिलते है. 

दही के फायदे (Curd in hindi) पर यह लेख अच्छा लगा तो Share और Forward अवश्य करें, जिससे अन्य लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें. अपने सवाल और सुझाव नीचे कमेंट करें. 

यह भी पढ़ें :

2 Comments

  1. Shahzad

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.