देसी घी के उपयोग के 12 लाभदायक तरीके और फायदे | Ghee in hindi

देसी घी के फायदे – Desi ghee benefits in hindi :

देसी घी अच्छी सेहत बनाने में फायदेमंद साबित हुआ है. अब तो विदेशों में भी इसे खूब प्रचारित किया जा रहा है. वहाँ की दुकानों में इसे Clarified butter या Ghee के नाम से बेचा जा रहा है.

देसी घी विटामिन A, विटामिन D, विटामिन E, विटामिन K का अच्छा स्रोत है.

  • विटामिन A किडनी, लिवर, फेफड़े आदि अंगों की working सही रखता है.
  • विटामिन E शरीर में रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है, बाल, स्किन, दिमाग के लिए फायदेमंद है.
  • विटामिन D और विटामिन K2 हड्डी मजबूत बनाता है, कैंसर और मधुमेह से बचाता है.

आगे हम देसी घी को 12 अलग-अलग चीजों ( बादाम, दूध, गर्म पानी, लहसुन, सेंधा नमक, हल्दी, लौंग, हींग, शहद, काली मिर्च, केला, गुड़) के साथ सेवन करने और प्रयोग के फायदे बतायेंगे.

Desi Ghee

Desi Ghee in hindi

देसी घी और बादाम – Desi ghee and almond in hindi :

बादाम के साथ देसी घी का उपयोग पुरुषों की सेहत और यौन उर्जा बढ़ाने, बाल झड़ने के उपचार में प्रयोग होता है.

1. बाल झड़ने की समस्या : यह उपाय बहुत कारगर माना गया है. इससे बाल झड़ना रुकता है, बाल लम्बे, चमकदार और स्वस्थ बने हैं. इसके लिए 3-4 चम्मच देसी घी ले लीजिये. घी इतना हो कि आपके पूरे सर की स्किन में लग जाये.

अब 4-8 बादाम लेकर छोटा-छोटा काट लें. बाल छोटे हो तो 4 बादाम, बाल बड़े हो तो 8 बादाम. गैस को मीडियम गर्म करें और घी में बादाम के टुकड़े डाल दें. जब घी गर्म होने लगे तो गैस को धीमा कर दें और बादाम के टुकड़े काले होने तक गर्म करें फिर गैस बंद कर दें.

इस घी से बादाम के टुकड़े छान कर अलग कर लें. इस घी को सर की स्किन पर धीरे-धीरे रुई के टुकड़े या उंगलियों के पोरों से लगायें. घी इतना गर्म हो कि आप जले नहीं.

सर की स्किन पर हल्की मालिश करें, जिससे घी स्किन में सोखने लगे. 3-5 घंटे इसे बालों में लगा रहना दें फिर हल्के गर्म पानी से बाल धो लें. हफ्ते में 2 बार ऐसे बालों में लगायें. 2 हफ्ते लगाने के बाद आपको फर्क दिखने लगेगा.

2. घी और बादाम पुरुषों के लिए : इस तरह खाने से पुरुषों में बल और वीर्य की वृद्धि होती है. इससे दिमाग तेज और याददाश्त अच्छी होती है, शरीर में शक्ति आती है, कमजोरी दूर होती है.

इसके कई तरीके हैं, कोई सा भी प्रयोग कर सकते हैं.

(a) बादाम को देसी घी में तलकर खाएं और फिर हल्का मीठा दूध पियें.

(b) बादाम को गर्म पानी में भिगो दें. बादाम फूल जाएँ तो छिलका उतारकर बादाम को महीन पीस लें. इसे पेस्ट को दूध में मिलाकर उबालें और खीर जैसा बना बना लें. फिर इसमें चीनी और देसी घी मिलाएं और खायें.

(c) 10 बादाम रात में भिगो दें. सुबह बादाम का छिलका निकालकर महीन पीस लें. इस पेस्ट को कड़ाही में देसी घी डालकर भून लें. बादाम का पेस्ट लाल होने से पहले 1 गिलास के थोड़ा ज्यादा दूध मिलाकर 2-3 मिनट गर्म करें. फिर गैस बंद कर दें और जब दूध कुनकुना गर्म रह जाए तो पियें.

(d) शरीर की कमजोरी को जल्दी दूर करने के लिए 4 बादाम, 2 छुआरा, 8 मुनक्का रात में भिगो दें. सुबह बादाम का छिलका, छुआरा और मुनक्का के बीज अलग कर लें. अब बादाम, मुनक्का, छुआरा को महीन पीस कर देसी घी मिलाकर रोजाना खाएं.

इसी तरह बादाम का देसी घी में बना हलुआ, देसी घी और बादाम के लड्डू का सेवन भी पुरुषों की यौन शक्ति बढ़ाने में असरदार है.

देसी घी और दूध पीने के फायदे – Desi ghee and milk in hindi :

दूध और घी साथ पीना शरीर की स्टैमिना, यौन शक्ति और यौनेच्छा बढ़ाने, अच्छी नींद लाने, दिमाग तेज करने, स्किन को नर्म और चमकदार बनाने, वजन बढ़ाने, रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और गर्भवती औरतों के लिए बहुत फायदेमंद है.

घी और दूध को साथ मिलाकर पीना कब्ज की समस्या (Constipation), हाथ-पैर के जोड़ों में अकड़न, दर्द और सूजन ठीक करने, तनाव (Stress) दूर करने में असरदार है.

घी और दूध पीने से मेटाबोलिज्म तेज होता है और शरीर के हानिकारक टाक्सिन बाहर निकलते हैं. रोज पीने के लिए 1 गिलास दूध में 1 चम्मच घी मिलाना उचित है.

आगे हम घी और दूध पीने के कुछ उपाय और उससे होने वाले उपचार बतायेंगे.

(a) वीर्य बढ़ाने के लिए : सुबह नाश्ते में 1 केला को 2 चम्मच घी के साथ खायें और 1 गिलास दूध पियें. दोपहर बाद 2 केले, 4-5 खजूर, 1 चम्मच देसी घी खाकर एक गिलास दूध पियें. इससे वीर्य बढ़ता है और शक्ति आती है.

(b) कब्ज और बवासीर में : रात को सोने से पहले हल्के गर्म दूध में 1-2 चम्मच देशी घी मिलाकर पीने से कब्ज, बवासीर ठीक होता है और पेट की पाचन क्षमता बढ़ती है. देसी घी और पिसी काली मिर्च को गर्म दूध में मिलाकर पीने से आंते साफ़ हो जाती हैं और कब्ज नहीं होता.

(c) गाय के दूध में घी, सोंठ, मुनक्का डालकर उबालकर पीने से हल्का बुखार उतर जाता है.

(d) रात में दिखाई न देना (रतौंधी) : रोजाना 1 पाव दूध में 4 चम्मच घी मिलाकर पियें. या फिर 250 मिलीलीटर दूध में 4 छुहारे उबालें. छुहारे खाकर फिर वह दूध पी जाएँ.

(e) नींद न आती हो लेटने से पहले 1 गिलास दूध में 1 चम्मच घी और 1 चम्मच चीनी मिलाकर पीने से नीद जल्दी आती है.

(f) गर्म दूध में घी, शहद, मिश्री मिलाकर पीने से शरीर की ताकत और मजबूती बढ़ती है.

(g) देसी घी में बनी ताजी जलेबी खाकर गर्म दूध पीने से सिरदर्द और आधासीसी का दर्द (माईग्रेन) ठीक होता है.

पढ़ें > फुल क्रीम दूध पीने के गजब फायदे जानें 

देसी घी और गुड़ खाने के फायदे – Desi ghee and jaggery in hindi :

इंडिया की टॉप डायटीशियन रुजुता दिवेकर कहती हैं कि रोटी में घी और गुड़ लगाकर खाना स्वाद में बढ़िया तो लगता है साथ ही यह सेहत के लिए भी बहुत अच्छा है. अगर आपको शाम को भूख लगे या बच्चों को बेसमय भूख लग जाये तो उन्हें रोटी में घी और गुड़ लगाकर खाने को दें. जब बच्चे स्कूल से वापस आयें तब भी आप उन्हें यह खाने को दे सकती हैं.

(a) रोजाना घी और गुड़ खाने से हड्डी मजबूत होती है, दिमाग तेज होता है, खून साफ होता है, मूड अच्छा होता है, स्किन अच्छी होती है और शरीर में एनर्जी बनी रहती है.

(b) देसी घी और गुड़ साथ खाना सिरदर्द, माईग्रेन की समस्या में आराम दिलाता है, मूड सही करता है और एनीमिया यानि खून की कमी दूर करता है. माइग्रेन के उपचार में रोज रात को सोते वक्त और सुबह सूर्योदय से पहले खाली पेट 10 ग्राम गुड़ 5 ग्राम घी के साथ खाएं.

(c) पीरियड के दर्द में 1 चम्मच गर्म देसी Ghee 1 चम्मच गुड़ में मिलाकर दोनों टाइम खाएं.

(d) दोपहर के खाने और डिनर के बाद 1 चम्मच गुड़ और घी मिलाकर खाना हमारे पेट के सिस्टम की सफाई करता है. देसी घी और गुड़ साथ खाने से पाचन अच्छा होता है साथ ही पौरुषत्व, शरीर की क्षमता व ताकत बढ़ती है.

(e) ठंडियों के मौसम में होने वाले जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए हर रोज 1 टुकड़ा गुड़, 1 चम्मच घी और 1 टुकड़ा अदरक साथ में खाएं. इससे जोड़ों का दर्द ठीक होगा. जाड़ों (Winters) में घी गुड़ का सेवन शरीर को गर्म रखता है.

पढ़ें > रुजुता दिवेकर के 11 अद्भुत फ़ूड टिप्स जरुर पढ़ें 

देसी घी और हल्दी – Desi ghee and turmeric in hindi :

अच्छी स्किन के लिए : हल्दी मिले हुए देसी घी का सेवन करना स्किन के लिए बहुत अच्छा होता है. यह घी शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है, लीवर की सफाई करता हेयर और शरीर के टॉक्सिन बाहर करता है.

हल्दी वाला घी बनाने के लिए 2 चम्मच घी गर्म करें. जब घी पिघल जाए और गर्म होकर पारदर्शी (Transparent) हो जाये तो इसमें आधा चम्मच हल्दी डाल दें और मिक्स कर लें.

अब तुरंत गैस बंद कर दें और इसे 5 मिनट ठंडा होने दें. इससे घी में पड़ी हल्दी महकने लगेगी और उसका रंग भी थोडा डार्क हो जायेगा. हल्दी वाला घी तैयार है.

(a) सुंदर चेहरे के लिए हल्दी और देसी घी का फेस मास्क : चेहरे पर घी और हल्दी का फेस मास्क लगाना रंग और टोन में सुधार लाता है. यह चेहरे के दाग-धब्बे ठीक करता है, बढ़ती उम्र के असर कम करता और चमक (Glow) लाता है.

इसके लिए सबसे आसान तरीका ये है कि देसी घी और हल्दी पाउडर, पानी मिलाकर पेस्ट बनाएं और इसे चेहरे पर 15 मिनट के लिए लगायें. सूख जाने पर हल्के गर्म पानी से धो लें.

अगर कोई खास मौका है तो यह फेस मास्क लगायें. 2 चम्मच चंदन पाउडर, 2 चम्मच हल्दी पाउडर, आधा कप बेसन और 1 छोटा चम्मच घी, पानी मिलाकर पेस्ट बनाएँ और चेहरे पर लगायें. सूख जाने पर पानी से धो लें.

(b) खांसी : अगर आपको अक्सर ही बदलते मौसम में खांसी हो जाती है तो जब आपको लगे कि खांसी शुरू होने लगी है तो ये उपाय करें. 2-3 ग्राम हल्दी को 1 चम्मच घी या शहद के साथ दिन में दो बार चाटने से खांसी रुक जाएगी. इसके साथ ही गर्म दूध में गुड़ डालकर पियें.

(c) चोट लगने पर 2 चम्मच हल्दी, 1 चम्मच घी में गर्म करें, थोड़ा ठंडा होने पर चोट साफ़ करके लगा दें. इससे खून बहना बंद होगा, घाव जल्दी भर जायेगा, इन्फेक्शन नहीं होगा और सूजन कम होगी.

(d) डायबिटीज : हल्दी की गांठ पीसकर इसे देसी घी में गर्म करें. फिर इसमें चीनी मिलाकर रोज खाएं. इससे मधुमेह में आराम मिलता है और शुगर कण्ट्रोल रहता है.

(e) आधा चम्मच पिसी हल्दी में 1 चम्मच शुद्ध देसी घी मिलाकर बवासीर पर लगाने से आराम मिलता है. ऐसा 2-3 दिन करने से ही आपको फायदा होने लगेगा.

(f) त्रिदोष : देसी गाय के गर्म दूध में 1 चम्मच घी और 1 छोटा चम्मच हल्दी मिलाकर पीने से त्रिदोष शांत होते हैं, जिससे कई स्वास्थ्य सम्बन्धी रोग दूर होते हैं.

(g) कमजोर हड्डी और हड्डियों का दर्द : यह उपचार 15 दिन करके देखें, बहुत लाभ होगा. 1 चम्मच पिसी हल्दी, 2 चम्मच घी, 1 चम्मच पुराना गुड़ लें. इसे 1 कप पानी में उबालें. जब पानी आधा हो जाये तो थोड़ा ठंडा करके चाय जैसे पी लें.

(h) पित्ती : पित्त का असर होने पर ये उपाय कारगर है. 1 चम्मच हल्दी, 1 चम्मच घी, 2 चम्मच चीनी, 2 चम्मच गेंहू का आटा लें. ये सब आधे कप पानी में मिलाकर पेस्ट बनायें और इसे गैस पर चढ़ाकर हलुआ जैसा बना लें. ठंड होने पर इसे खाएं और 1 गिलास दूध पियें. ऐसा रोज सुबह करें.

(i) ब्रोंकाइटिस : 1 गिलास दूध में 1 चम्मच हल्दी डालकर उबाल लें. थोड़ा ठंडा होने पर 1 चम्मच देसी डालकर पी लें. ऐसा 2-3 करने से आराम मिल जायेगा.

देसी घी और लहसुन के फायदे – Desi ghee and garlic in hindi :

देसी घी और लहसुन का खाली पेट सेवन करने से वजन कम होता है, यौनशक्ति बढ़ती है, स्किन में चमक आती है, बाल झड़ना रुकता है, जोड़ों का दर्द ठीक होता है, दिमाग तेज होता है, ब्लड प्रेशर कम होता है, कोलेस्ट्रॉल कण्ट्रोल होता है और कैंसर से बचाव होता है.

यह उपाय 1 महीना तक करके देखे, असर दिखेगा. रोज सिर्फ 1-2 लहसुन खाना है. लहसुन कूटकर या पीसकर घी मिलाकर खायें. अगर आपको खाने से सीने में जलन जैसी कोई समस्या हो तो सेवन रोक दें, कुछ कमजोर या रोगी लोगों को ऐसी समस्या हो सकती है.

(a) घी में भुना लहसुन खाने के फायदे : इसे खाने से सर्दी, जुकाम से बचाव होता है और आराम मिलता है, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, कब्ज ठीक होता है, ब्लड सर्कुलेशन सही होता है, मोटापा कम होता है, पेट और शरीर के इन्फेक्शन से बचाव होता है.

पढ़ें > देसी घी खाने के फायदे और देसी घी वजन कम कैसे करता है, जानें

(b) पुरुषों के लिए घी और लहसुन : घी में भुना लहसुन खाना पुरुषों के लिए बहुत असरदार है. 7-8 लहसुन को देसी घी में तलकर रोज खाने से नपुंसकता और कमजोरी दूर होती है, शरीर में ताकत आती है.

कामोत्तेजना बढ़ाने के लिए 7-8 लहसुन को देसी घी में तलकर शहद के साथ सेवन करें. इसके बाद बिना चीनी का दूध पियें.

(c) लहसुन और घी पेट के लिए : पिसी हुई लहसुन और देसी घी को 2:3 के अनुपात में मिलाकर करीब 1 चम्मच जितना सेवन करने से पेट की गैस निकल जाती है.

Ghee में भुना लहसुन खाने से बवासीर ठीक होता है. 1 चम्मच लहसुन का रस और घी मिलाकर पीने से पेट के घाव ठीक होते हैं.

(d) लहसुन का रस 1-2 चम्मच देसी घी के साथ या दूध में उबालकर पीने से दिल को आराम मिलता है और दिल का दर्द (Heart pain) ठीक होता है.

(e) 10 ग्राम गाय के घी में 10 ग्राम लहसुन का रस मिलाकर गर्म करके गठिया (Arthritis) रोगी के घुटने पर मालिश करने से आराम और फायदा होता है.

(f) पीरियड का दर्द : अगर औरतों को पीरियड में दर्द होता है तो उन्हें भी 5-6 लहसुन घी में तलकर शहद के साथ सेवन करना चाहिए.

(g) सायटिका : देसी घी में लहसुन भूनकर पीस लें, इसमें पिसी सोंठ और पीपली का चूर्ण मिला लें. इसे सुबह शाम 1 चम्मच दूध के साथ लें. लाभ और आराम मिलेगा.

(h) एक लहसुन को पानी में पीसकर देसी घी मिलाकर मुंह के छाले पर लगाने से वो ठीक हो जाते हैं.

देसी घी और गर्म पानी के फायदे – Desi ghee and hot water in hindi :

(a) सुबह-सुबह खाली पेट 1 गिलास गर्म पानी में 1 चम्मच देसी घी मिलाकर पीना सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है. इसे पीने से बाद 30 मिनट तक कुछ न खायें-पियें.

– इससे स्किन में चमक (Glow) आती है, स्किन नर्म-मुलायम बनती है, दिमाग और याददाश्त तेज होती है, बाल स्वस्थ और मजबूत बनते हैं, हड्डियाँ मजबूत होती हैं, रोग प्रतिरोधकता (Immunity) बढती है, बुरे कोलेस्ट्रॉल शरीर से निकल जाते हैं.

– इसके अलावा गर्म पानी और घी पीने से जोड़ों का दर्द, गठिया (Arthritis), सोरायसिस रोग ठीक होता है.

(b) अगर हिचकी रुक न रही हो तो 1 गिलास गर्म पानी में 1/2 चम्मच देसी घी डालकर पियें, हिचकी रुक जाएगी.

देसी घी और काली मिर्च – Desi ghee and black pepper in hindi :

खांसी के लिए रामबाण है काली मिर्च और घी :

(a) सूखी खांसी के इलाज में : 8-10 काली मिर्च देसी घी में गर्म करें. जब काली मिर्च कड़कड़ाने लगे तो गैस से उतार लें. थोड़ा ठंडा होने पर काली मिर्च चबाकर खायें और देसी घी पियें. इस उपाय को करने के बाद पानी न पियें. यह उपाय रात को सोने से पहले करें. इससे सूखी खांसी एकदम ठीक हो जाती है.

गीली खांसी के लिए : देसी घी में पिसी काली मिर्च, पिसी मिश्री मिलाकर बड़ी-बड़ी गोलियाँ बना लें. इसे दिन में 3-4 बार चूसें. इससे कफ और खांसी से आराम मिल जायेगा.

आधा चम्मच पिसी काली मिर्च, थोड़ा सा शहद, शहद से दुगुना घी के साथ मिलाकर सुबह-शाम चाटने से सभी खांसी ठीक होती है.

(b) आँखों की रोशनी तेज करना : सुबह और शाम को 2 चम्मच जितना पिसी काली मिर्च, घी, मिश्री या चीनी मिलाकर खाने से नेत्र ज्योति बढ़ती है. इससे रात में दिखाई न देना (रतौंधी) की समस्या और नेत्र रोग भी ठीक होते है.

(c) स्किन समस्या में : पिसी हुई काली मिर्च और देसी घी का लेप करने से कई स्किन रोग जैसे खुजली, फोड़े-फुंसी, मुहांसे, दाद-खाज, स्किन एलर्जी, एक्जीमा ठीक होते हैं.

(d) रोज सुबह खाली पेट आधा चम्मच से कम पिसी काली मिर्च, 1 चम्मच घी के साथ लेने से स्किन में चमक आती है, रूखापन दूर होकर स्किन मुलायम बनती है. इस उपाय से कई स्किन रोग, खुजली, पेट के कीड़े (Ring worms) दूर होते हैं. यह उपाय 2 महीने करना है.

(e) आधे सर के दर्द में : 10 काली चबाकर खायें और 2 चम्मच देसी घी पियें. इससे माईग्रेन से जल्दी राहत मिलती है.

(f) पेट की गैस : अगर आपको अक्सर पेट में गैस की समस्या होती है तो ये उपाय करें. खाना खाने से पहले रोजाना पिसी काली मिर्च, देसी घी, पिसी लहसून का सेवन करे. कुछ दिन तक यह उपाय करने से गैस बनने की दिक्कत ठीक हो जाती है.

(g) गला बैठना या गला बंद होना, आवाज बैठना : काली मिर्च का चूर्ण, घी, पिसी चीनी के साथ मिलाकर लेने से इन दिक्कतों से आराम मिलता है. यह उपाय दिन में 2-3 बार करें.

पढ़ें > काली मिर्च खाने के 11 फायदे जानें

देसी घी और हींग के फायदे – Desi ghee and asafoetida in hindi :

(a) पेट की समस्या में घी और हिंग : खाना न पच रहा हो (अजीर्ण), पेट भरा-भरा लगे और पेट दर्द की समस्या में चने जितना हिंग को घी के साथ निगलने से आराम मिलता है.

डकार आने, कब्ज और गैस की समस्या में आधा चम्मच से कम हिंग घी में भून लें. इसे आधा चम्मच पिसी अजवाइन और 2 चुटकी काला नमक के साथ पानी में मिलाकर पीने से तुरंत आराम मिलता है.

छोटे बच्चों के पेट दर्द, गैस होने पर 1 चुटकी हींग को घी या पानी में घोलकर पेट पर और नाभि के आस-पास लगायें. बच्चे को आराम मिल जायेगा. दिन में 2-3 बार ऐसा कर सकते हैं.

(b) लो ब्लड प्रेशर ठीक करने के लिए लोहे की कड़ाही में घी गर्म करके हिंग को लाल भून लें. इस हिंग को रोज सुबह-शाम चौथाई चम्मच लेने से लो ब्लडप्रेशर सामान्य होता है.

(c) पुरुषों के लिए कामोत्तेजक : नपुंसकता दूर करने और कामोत्तेजना बढ़ाने के लिए एक चुटकी हिंग को घी में भून लें. इसे शहद और 1 चम्मच बरगद के ताजे दूध के साथ मिलाकर 1 महीने तक सुबह-सुबह लें.

अगर ये सम्भव न हो तो सुबह खाली पेट 1 गिलास गर्म पानी में 1 चुटकी हिंग पाउडर मिलाकर पियें. इसके अलावा खाना बनाने में और तड़का लगाने में भी हींग का प्रयोग करके सेवन करें.

(d) स्किन पर पित्ती की समस्या होने पर देसी घी में हिंग गर्म करके प्रभावित जगह पर हल्की मालिश करें.

देसी घी और केला खाने के फायदे – Desi ghee and banana in hindi :

(a) रोजाना देसी घी, केला खाकर दूध पीने से वजन बढ़ता है और शरीर सुडौल होता है.

(b) पका केला के साथ घी खाने से पित्त शांत होता है.

(c) 1 सप्ताह तक रोज सुबह-शाम 1 केला के साथ 1 चम्मच घी खाने से वीर्यदोष ठीक हो जाता है. इसे खाने से स्त्रियों का श्वेत प्रदर रोग (Leukorrhea) रोग भी ठीक होता है.

पढ़ें > केला खाने के 41 अनोखे फायदे 

देसी घी और लौंग के फायदे – Desi ghee and clove in hindi :

(a) सूखी खांसी : देसी घी में लौंग भूनकर रख लें. इसे दिन भर में 3-4 बार चूसें. खांसी ठीक होगी और आराम मिलेगा.

(b) सांस लेने में दिक्कत और फेफड़ों में दर्द हो तो 1 चुटकी पिसी लौंग, थोड़ा सा देसी घी और दुगुना शहद मिलाकर चाटें. लाभ मिलेगा.

देसी घी और शहद खाने के फायदे – Desi ghee and honey in hindi :

घी और शहद कभी भी बराबर मात्रा में नहीं खाना चाहिए. ऐसा करना नुकसानदायक है और इससे सिरदर्द, पेटदर्द हो सकता है.

(a) खाने के बाद 3 चम्मच शहद, 2 चम्मच घी के साथ खाने से स्मरणशक्ति (Memory) तेज होती है.

पढ़ें > शहद खाने के 51 फायदे और उपयोग जानें

देसी घी और सेंधा नमक – Desi ghee and rock salt in hindi :

2 साल से बड़े बच्चों की खांसी और कफ की समस्या में हल्के गर्म घी में सेंधा नमक मिलाकर बच्चे के गले, सीने, पीठ और तलवे पर मालिश करें. इससे जमा हुआ कफ ढीला होगा और बच्चे को आराम मिलेगा.

इसके अलावा हल्दी, मुलेठी, लौंग, काली मिर्च, अजवाइन पानी में गर्म करके काढ़ा बनाएँ. थोड़ा ठंडा होने पर इसमें 1 चम्मच घी और थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर पियें. यह सर्दी-जुकाम, कफ और खांसी से आराम दिलाता है.

पढ़ें > सेंधा नमक खाने के 9 फायदे जानें

देसी घी के फायदे को Whatsapp, Facebook पर शेयर करें, जिससे और लोग भी इस जानकारी को पढ़ सकें.

ये भी पढ़ें : 

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.