जानिए कपूर के बारे में कुछ खास बातें

By | 16/09/2015

कपूर कैसे बनता है ? कपूर के फायदे, प्रयोग, देसी और कृत्रिम कपूर 

मुख्यतः कपूर हमारे घर और मंदिर में भगवान् की आरती में प्रयोग होता है, इसके अतिरिक्त कपूर आयुर्वेदिक दवाओ, तेलों, सुगंध ,कीड़े-मकोडो को दूर रखने में भी प्रयोग किया जाता है. कपूर दो प्रकार के होते है एक प्राकृतिक जो कि कपूर के पेड़ से मिलता है और दूसरा कृत्रिम केमिकल कपूर जोकि सामान्यतः बाज़ार में मिलता है.

प्राकृतिक कपूर देसी कपूर, भीमसेनी कपूर, जापानी कपूर के नाम से जाना जाता है. भीमसेनी कपूर की यह खासियत होती है कि पानी में डालने पर यह नीचे बैठ जाता है. यह कपूर वृक्ष के पत्ती, छाल और लकड़ी से आसवन विधि द्वारा सफ़ेद रंग के क्रिस्टल के रूप में प्राप्त किया जाता है.

ये भी पढ़ें   ब्लड प्रेशर (Blood pressure) को कंट्रोल में रखनेवाले 7 नैचुरल उपाय
कपूर वृक्ष

कपूर वृक्ष

कपूर के वृक्ष का वानस्पतिक नाम Cinnamomum camphora (सिनामोमम कैम्फोरा) है. यह सदाबहार वृक्ष मुख्यतः चीन में पाया जाता था जहाँ से यह ताइवान, जापान, कोरिया, वियतनाम और दुनिया के बाकी देशों में पहुंचा. इस वृक्ष पर चमकदार, चिकने पत्ते पाए जाते हैं जिनको मसलने पर कपूर की खुशबु आती है. वसंत मौसम में इस वृक्ष पर सफ़ेद रंग के छोटे-छोटे फूल गुच्छों में लगते है.

Prakritik Kapoor

आयुर्वेद के अनुसार कपूर कफ-दोष नाशक और कोलेस्ट्रोल लेवल को कम करने मददगार होती हैआयुर्वेद के अनुसार प्राकृतिक कपूर डला तेल बालों के लिए अच्छा माना गया है बाल मजबूत और घने होते हैं. चने के बराबर कपूर केले के बीच में रखकर खाने से बवासीर रोग में लाभ होता है.

ये भी पढ़ें   मेडिकल सर्जरी से पहले कुछ भी खाने से मना क्यों किया जाता है, जानिए कारण

कपूर युक्त तेल सीने पर मालिश करने बंद नाक और कफ और जकड़न से रहत दिलाता है . यह तेल आर्थराइटिस और मांसपेशियों के दर्द में मालिश करने से राहत देता है. इसके अतिरिक्त मुख की दुर्गन्ध दूर करने, दांत-दर्द में, पेट के कृमि का नाश करने में लाभदायक है.

दवाइयां जिनमे कपूर प्रयोग होता है

दवाइयां जिनमे कपूर प्रयोग होता है

कपूर का अधिक मात्रा में सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है अतः इसके लिए किसी अनुभवी आयुर्वेदाचार्य के निर्देश में ही करें.

भारत में कपूर देहरादून ,मैसूर ,सहारनपुर , नीलगिरी में पैदा होता है, भारत में कपूर केवल पत्तियों के आसवन से ही प्राप्त किया जाता है. दक्षिण भारत के कुछ भोज्य पदार्थों में कपूर का उपयोग किया जाता है .

कपूर का फूल और पत्ती

कपूर का फूल और पत्ती

कृत्रिम कपूर तारपीन के तेल को बहुत सी केमिकल प्रक्रियाएं करने के बाद प्राप्त होता है. इसका रासायनिक फार्मूला है C10H16O. यह पानी में अघुलनशील और अल्कोहल में घुलनशील  होता है. यह कपूर बहुत से कारखानों में प्रयोग किया जाता है , यह पालीविनायल क्लोराइड, सेलूलोस नाइट्रेट, पेंट, धुवां-रहित बारूद और कुछ खास प्रकार के प्लास्टिक, कफ-सीरप आदि के उत्पादन में प्रयोग किया जाता है .

ये भी पढ़ें   चावल से जुड़े कुछ इंटरेस्टिंग फैक्ट्स जानिए

यह भी देखें :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *