कोचिया का पौधा कैसे लगाए व केयर करें | Kochia plant in hindi

गर्मियों के मौसम के लिए कोचिया प्लांट एक बढ़िया पौधा है क्योंकि ये कड़ी धूप के दिनों में भी खूब हरा-भरा बना रहता है। कोचिया का पौधा लगाना और देखभाल करना भी आसान है। ये एक अच्छा Decorative plant है जो आपके घर की खिड़की, बालकनी, लॉन, गार्डन की शोभा बढ़ाता है।

कोचिया का पौधा | Kochia plant in hindi

कोचिया हल्के हरे रंग की पतली, लंबी, नर्म पत्तियों का पौधा है। कोचिया के अन्य नाम समर साइप्रस, बर्निंग बुश, रैगवीड, बेलवेडेयर भी है। इसका बोटैनिकल नाम Bassia scoparia है। यह मूलतः जापान, फ्रांस का पौधा है लेकिन भारत में लोग इसे गर्मियों में लगाना खूब पसंद करते हैं। गरमी का मौसम शुरू होते ही कोचिया का पौधा लगाया जा सकता है। गरमी के मौसम में जब फूलों और हरियाली की कमी हो जाती है, कोचिया प्लांट की हरियाली आँखों को अच्छी लगती है।

kochia ka paudha kaise lagaye
कोचिया प्लांट के बारे में जानकारी

इसे क्यारी, गमले, रास्ते के दोनों तरफ या बाड़ (boundary or hedge) की तरह लगाने पर सुंदर लुक देता है। कोचिया की 2 प्रजातियाँ सामान्यतः दिखती हैं, जिसमें एक बड़े साइज़ की प्रजाति और दूसरी छोटे साइज़ की प्रजाति होती है। कोचिया की छोटी प्रजाति के पौधे सदाबहार होता है यानि यह साल भर हरा-भरा रहता है। इसके पौधे की ऊंचाई 1.5-2 फुट और फैलाव 1-1.5 फुट तक होती है। इसमें हल्के पीले रंग के छोटे फूल आते हैं।

बड़ी प्रजाति के पौधे की ऊंचाई करीब 1-3 फुट तक और फैलाव 1-2 फुट तक हो सकता है। इस जाति के पौधे अपने जीवनकाल में अलग-अलग रंग बदलता है। इसके छोटे पौधे का रंग धानी हरा, बड़े पौधे का रंग डार्क हरा और पुराने पौधे का रंग लाल-हरा सा हो जाता है।

बरसात के अंत तक कोचिया प्लांट पर बहुत छोटे-छोटे लाल रंग के फूल निकलते हैं। कोचिया के फूल सूखने पर उनसे कोचिया के बीज प्राप्त किये जा सकते है जिसे बोकर कोचिया के पौधे तैयार किये जा सकते हैं। ये प्रजाति सीज़नल होती है, यानि ठंडी का मौसम शुरू होते तक इस पौधे का जीवनकाल पूरा होने लगता है।

पढ़ें> गर्मियों में जरूर लगाएं सुंदर फूल का पौधा पोर्टूलाका प्लांट

कोचिया का पौधा कैसे लगाए – How to grow Kochia plant in hindi

कोचिया का पौधा 2 तरीकों से 1) बीज बोकर 2) कटिंग लगाकर तैयार किया जा सकता है। कोचिया के पौधे किसी नर्सरी से खरीद सकते हैं। गमले में कोचिया लगाने के लिए मिट्टी+कोकोपीट या बालू +गोबर खाद या जैविक खाद, इन तीनों चीजों को बराबर मात्रा में मिलाकर भर लें।

कोचिया के बीज फरवरी के अंतिम सप्ताह से मार्च तक बो देना चाहिए जिससे तेज गरमी पड़ने तक कोचिया का पौधा बड़ा हो जाए। कोचिया के बीज करीब 1-2 सेंटीमीटर गहरा गड्ढा करके किसी छोटे गमले, मिट्टी के बर्तन या प्लास्टिक के गिलास में मिट्टी व खाद भरकर बो सकते हैं। 

दूसरा तरीका ये है कि गमले में मिट्टी पर पानी डालकर छोड़ दें, थोड़ी देर में जब पानी समा जाए तो कोचिया के बीज फैला दें और ऊपर से 1-2 सेंटीमीटर मिट्टी की परत फैला दें। बीज लगाकर थोड़ा पानी दें। गमले को ऐसी जगह रखें जहाँ सीधी धूप न आती हो।

1-2 दिन में थोड़ा सा पानी देते रहें जिससे गमले में मिट्टी न सूखे, नमी बनी रहे। कोचिया के बीज बोने के करीब 7-10 दिन बाद छोटा पौधा निकल आता है। करीब 1 महीने मे यह पौधे 5-6 सेंटीमीटर के हो जाते हैं। इसके बाद आप कोचिया को किसी बड़े गमले या क्यारियों में लगा सकते हैं। कम से कम 9-12 इंच साइज़ के गमलों में कोचिया प्लांट लगाएं। एक गमले में एक ही पौधा लगाएं व जमीन में लगाएं तो पौधों के बीच 1.5-2 फुट का अंतर रखे।

पढ़ें> सुंदर कोलियस प्लांट कैसे लगाए

कोचिया की कटिंग कैसे लगाए – Grow Kochia from cutting in hindi

कोचिया की कटिंग लगाकर भी नया पौधा तैयार कर सकते है। कोचिया के पुराने पौधे से 4-5 इंच लंबी शाखा काट लीजिए। इस कलम में नीचे के 1 इंच लंबाई की सारी पत्तियाँ तोड़ लीजिए, यह भाग मिट्टी के अंदर रहेगा। कोचिया की कलम को किसी छोटे गमले या पतली प्लास्टिक के गिलास में मिट्टी और गोबर खाद भरकर लगा दें। इसमें थोड़ा सा पानी डाल दें और 1-2 दिन में जब भी मिट्टी सूखी लगे, थोड़ा पानी देते रहें। करीब 7-10 दिन में कोचिया की कलम से जड़ें निकलने लगेंगी।

कोचिया प्लांट की केयर कैसे करे – Kochia plant care in hindi

कोचिया के पौधे को बहुत केयर या मेंटीनेंस की जरूरत नहीं होती है। यह नियमित पानी देने और मामूली देखभाल से भी चल जाता है।

पानी – कोचिया में बराबर पानी देने की जरूरत होती है। 1 दिन के गैप पर पानी डालते रहें। गमले की मिट्टी में एक्स्ट्रा पानी रुका नहीं रहना चाहिए।

धूप – इसे सीधे धूप में रख सकते हैं या कम से कम ऐसी जगह रखें जहाँ 5-6 घंटे धूप आए। कोचिया प्लांट खुली धूप में भी अच्छा चलता है।

खाद – कोचिया प्लांट में बहुत खाद डालने की आवश्यकता नहीं है, ये मिट्टी से जरूरी पोषक तत्व प्राप्त कर लेते हैं। अगर मिट्टी में पोषक तत्वों की कमी है तो महीने में 1 बार 1 चम्मच नाइट्रोजन युक्त खाद जैसे NPK खाद डाल सकते हैं।

रोग और कीट – इस पौधे में शायद ही कभी कोई रोग होता है या कीट-कीड़े लगते हैं।

तो गर्मी के मौसम में हरियाली लाने के लिए कोचिया का पौधा (Kochia plant) जरूर लगाए और अपने घर की सुंदरता बढ़ाए। आप यह पोस्ट अपने बागवानी प्रेमी दोस्त, परिचितों को व्हाट्सप्प शेयर जरूर करें, जिससे अन्य लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें।

ये भी पढ़ें >

ZZ प्लांट लगाने के फायदे और कैसे लगाए

जेड प्लांट के फायदे और कैसे लगाए 

सिंगोनियम प्लांट के फायदे और कैसे लगाए 

source : https://en.wikipedia.org/wiki/Bassia_scoparia

ये लेख दोस्तों को Share करे

शब्दबीज संपादक पिछले 5 वर्षों से हिन्दी में विभिन्न विषयों पर अच्छे लेखों का प्रकाशन कर रही है। हमारा उद्देश्य है कि सही जानकारी, अनुसंधान और गुणवत्ता पूर्ण लेख से हमारे पाठकों का ज्ञानवर्धन हो।

Leave a Comment