विटामिन ई कैप्सूल खाने का तरीका और इसके फायदे | Vitamin E in hindi

विटामिन ई कैप्सूल खाना स्किन, बाल और आँख के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं. विटामिन E कैप्सूल खाने का तरीका और विटामिन ई कैप्सूल खाने के फायदों की जानकारी पढ़ें। विटामिन ई के स्रोत भी जानें जिससे विटामिन ई की कमी पूरी की जा सके। 

विटामिन ई कैप्सूल के फायदे – Evion 400 benefits in hindi 

14 साल से अधिक उम्र के हर व्यक्ति और प्रेगनेंट महिला को प्रतिदिन 15mg विटामिन ई की आवश्यकता होती है. दूध पिलाने वाली माँ को हर दिन 19mg Vitamin E की मात्रा मिलनी चाहिए. नवजात शिशु और छोटे बच्चों को इससे कम विटामिन ई की जरूरत होती है। 

– ये विटामिन बाल, स्किन, हड्डियों, ह्रदय और मांशपेशियों को स्वस्थ बनाये रखने और इन अंगों को सही तरीके से काम करने के लिए जरुरी हैं. विटामिन E कैप्सूल के कई ब्रांडस बाजार में मिलते हैं, जिसका सेवन आप डॉक्टर की सलाह से कर सकते हैं। 

– खून की लाल रक्त कोशिकाएं (Red blood cells) बनाने में विटामिन ई आवश्यक है.

– विटामिन E हमारी बॉडी में विटामिन ए, विटामिन के, आयरन, सेलेनियम का सही स्तर बनाये रखता है.

– विटामिन ई रोग शरीर के प्रतिरोधक तंत्र को मजबूत बनाता है, जिससे कई बड़ी बीमारियाँ पनपने नहीं पाती.

– विटामिन ई कैप्सूल खाने से नाखून स्वस्थ रहते हैं और नाखून की जड़ पर Dry या Cracked क्यूटिकल नहीं होते।  

विटामिन ई कैप्सूल खाने का तरीका :

प्रश्न – विटामिन E कैप्सूल कैसे खाएं और कब खाएं ?

उत्तर – सामान्यतः रात को खाने के बाद 1 विटामिन E कैप्सूल ली जा सकती है, इसे खाली पेट न खाएं.

1) Evion 400 कैप्सूल खाना विटामिन E पाने का एक सस्ता और अच्छा स्रोत है, जोकि मेडिकल स्टोर्स से खरीदा जा सकता है. अगर आप कोई दवा खा रहे हों तो यह कैप्सूल खाने से पहले डॉक्टर की सलाह ले लें.

2) विटामिन ई कैप्सूल और आयल दोनों ही बाज़ार में मिलते हैं, आप अपने उपयोग अनुसार इन्हें काम में ले सकते हैं.

3) किसी भी चीज़ की अधिकता से समस्या हो सकती है, इसलिए Vitamin E capsules लम्बे समय तक बिना डॉक्टरी सलाह के न खाएं.

विटामिन ई की कमी के लक्षण – Vitamin E deficiency symptoms in hindi 

विटामिन E की कमी से शरीर में ये लक्षण दिखते हैं –

  • बाल झड़ना, ड्राई स्किन 
  • नर्वस सिस्टम के रोग (अंगों में पिन चुभना, जलन, सुन्न होना, झुनझुनी महसूस होना)
  • थकावट सी लगना
  • स्किन रोग
  • मांशपेशियों में दर्द और कमजोरी
  • बाल झड़ना
  • कमजोर हड्डियाँ
  • घाव जल्दी न भरना
  • बार बार डायरिया होना
  • मसूढ़ों से खून आना
  • गर्मियों में नाक से खून आना
  • चिकना मल होना
  • कमजोर इम्यूनिटी 
  • चलने और शरीर संचालन में समस्या होना
  • आँखों के रोग (देखने में समस्या)
  • हार्मोन लेवल में असंतुलन 

विटामिन ई की कमी से रोग – Vitamin E deficiency diseases in hindi 

  • खून की कमी (एनीमिया)
  • प्रजनन क्षमता (Fertility) में कमी
  • आँखों के रेटिना सम्बन्धित रोग
  • रेटिनोपैथी
  • न्यूरोलॉजिकल बीमारियाँ
  • बच्चों का सिस्टिक फ़ायब्रोसिस
  • मसल वीकनेस
  • हेमोलिटिक एनीमिया
  • अल्झाइमर
  • पार्किन्सन डिजीज
  • डेमेंशिया आदि

2) अगर आपको रात में कम दिखाई देता है तो इसका कारण विटामिन e की कमी हो सकता है. विटामिन ई की कमी से विटामिन ए भी कम होने लगता है. क्योंकि विटामिन A नेत्र दृष्टि बनाये रखता है, लेकिन Vitamin E शरीर में विटामिन ए का सही लेवल मेन्टेन करने के लिए जरुरी है.

3) समय से पहले पैदा होने वाले बच्चे (Premature Baby) में अक्सर विटामिन ई की कमी से खून की कमी होने की समस्या देखी जाती है.

विटामिन ई बालों के लिए – Vitamin E for hair in hindi 

1) बालों के लिए विटामिन E बहुत फायदेमंद है. यह बालों की लम्बाई बढ़ाता है, बाल चिकने और मुलायम होते हैं. बालों का सफ़ेद होना और दोमुंहे बालों की समस्या दूर होती है.

2) बाल झड़ने की समस्या (Hair fall) में विटामिन E कैप्सूल खाने और विटामिन E आयल सर की त्वचा (Scalp) में लगाना फायदेमंद होता है.

3) सर पर लगाने के लिए अरंडी का तेल (Castor oil) या बादाम के तेल में विटामिन E कैप्सूल का आयल मिलाकर सिर की स्किन पर मसाज करें. इससे बाल मजबूत बनते हैं और झड़ना बंद होता है.

पढ़ें> बालों में करी पत्ता लगाने के फायदे जानें

विटामिन E आयल के फायदे स्किन के लिए 

1) विटामिन E आयल चेहरे पर लगाने से दाग-धब्बे कम होते हैं. इस आयल से प्रेगनेंसी के स्ट्रेच मार्क्स मिटते है. अगर आयल न हो तो विटामिन E के capsules से तेल निकालकर बादाम या नारियल के तेल में मिलाकर भी लगा सकते हैं। 

2) आँखों के नीचे काले घेरे (Dark circles) हटाने के लिए विटामिन ई के कैप्सूल का आयल लेकर रात को सोने से पहले लगायें. कुछ ही दिनों में इसका फायदा दिखने लगेगा.

3) इसी तरह फटी एड़ियाँ ठीक करने के लिए Vitamin E capsule का तेल वैसलीन या किसी क्रीम में मिलाकर कुछ दिनों तक लगायें.

4) विटामिन ई आयल बाजार में Bio oil, नेचुरल बादाम तेल व अन्य ब्रांड्स के नाम से मिलता है. अगर ये आयल न मिले तो विटामिन ई कैप्सूल एविऑन 400 से भी तेल निकालकर प्रयोग किया जा सकता है.

विटामिन ई के स्रोत क्या हैं – Source of Vitamin E in hindi 

1. विटामिन E पूर्णतः पेड़-पौधों, शाकाहारी स्रोत से मिल जाते हैं. पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, ब्रोकोली, शकरकंद, सरसों, लाल या हरे शिमला मिर्च, एस्पेरेगस, शतावर आदि.

2. सूर्यमुखी के बीज, अलसी के बीज, सूखे मेवे जैसे बादाम, अखरोट, हेज़लनट, काजू, मूंगफली, पीनट बटर (Peanut butter), खड़े अनाज, गेंहू के अंकुर, ऑरेगैनो (Oregano).

Vitamin E foods in hindi

Vitamin E foods in hindi

3. वनस्पतियों से मिलने वाले तेल ओलिव आयल (Olive oil), पाम आयल, केनोला आयल (Canola oil) आदि.

4. आम, एवोकाडो, पपीता, खुबानी, शकरकंद, टमाटर, कीवी फ्रूट, फ्रूट जूस.

पढ़ें> कॉमन स्किन प्रॉब्लम का घरेलू इलाज 

विटामिन E के फायदे – Vitamin E benefits in hindi 

– यह विटामिन स्वास्थ्य तो सुधारता ही है, साथ ही इससे बालों, चेहरे और स्किन पर बहुत अच्छा असर दिखता है. Vitamin E मॉइस्चराइजर का काम करता है. यह स्किन पर बढती उम्र के असर को कम करता है, सनबर्न ठीक करता है.

– विटामिन E का एंटीओक्सिडेंट गुण हार्ट रोग, कैंसर से बचाता है और डायबिटीज, अल्झाइमर के दुष्प्रभावों को कम करता है. यह विटामिन शरीर में कोलेस्ट्रॉल का सही स्तर बनाये रखता है.

विटामिन ई क्या है – Vitamin E in hindi 

विटामिन ई एक ऐसा पोषक तत्व है, जो कई प्रकार से अच्छे स्वास्थ्य के लिए जरुरी है. विटामिन E केवल शाकाहारी खाने की चीजों में पाया जाता है. इसके अलावा विटामिन ई के कैप्सूल खाना और स्किन पर लगाना भी कई तरह से फायदेमंद है.

विटामिन ई की जानकारी पर यह लेख अच्छा लगा तो उन्हें Whatsapp, Facebook पर शेयर और फ़ॉरवर्ड जरुर करें, जिसे इस जानकारी की आवश्यकता है.