पर्पल हार्ट प्लांट कैसे लगाए व केयर करें | Purple Heart plant in hindi 

डार्क बैंगनी रंग की पत्तियों और शाखाओं वाला पर्पल हार्ट प्लांट एक सदाबहार (Perennial) पौधा है। यह घर की क्यारियों, गमले और लटकने वाले बास्केट (Hanging basket) में लगाने के लिए अच्छा Ornamental plant है। पर्पल हार्ट प्लांट एक लो-मेंटीनेन्स वाला पौधा है जिसे कोई खास केयर की जरूरत भी नहीं पड़ती है। पर्पल हार्ट प्लांट का बोटैनिकल नाम Tradescantia pallida है। हरियाली के बीच में यह पौधा अपने बैंगनी रंग से अच्छा Contrast look देता है।

पर्पल हार्ट प्लांट
पर्पल हार्ट प्लांट

पर्पल हार्ट प्लांट – about Purple Heart plant in hindi 

पर्पल हार्ट प्लांट को लॉन, पार्क, रास्ते के किनारे पर झाड़ी (Bush), बाड़ के रूप में बहुत लगाया जाता है। पर्पल हार्ट पौधे की ऊंचाई करीब 8-12 इंच और फैलाव 1 से 1.5 फुट तक हो सकता है। इसकी पत्तियां 5-7 इंच लंबी और तने मांसल होते हैं।

गर्मियों के मौसम में इस पौधे पर हल्के बैंगनी-गुलाबी रंग के 1/2 इंच छोटे फूल आते हैं, लेकिन मुख्यतः यह पौधा अपने यूनिक कलर की पत्तियों की वजह से पसंद किया जाता है। जमीन में लगाने पर यह पौधा तेजी से बढ़ता और घना हो जाता है। आप एक बड़े गमले में इसके 2-3 पौधे लगा सकते हैं या 4-6 इंच साइज़ के गमले में 1 पौधा लगा सकते हैं।

पर्पल हार्ट का पौधा कैसे लगाए – Grow Purple Heart Plant in hindi

पर्पल हार्ट प्लांट को लगाना बहुत आसान है। आप इसकी कलम काटकर नया पौधा तैयार कर सकते हैं। आप कलम को मिट्टी या पानी दोनों में लगाकर कलम ने नयी जड़ें पैदा कर सकते हैं। पर्पल हार्ट के किसी पुराने पौधे से कोई ऊपर की शाखा को 4-5 इंच काट लीजिए। इसे किसी गमले में लगाएं और पानी दें। 1-2 दिन में थोड़ा पानी दें जिससे कि मिट्टी सूख न जाए। मिट्टी में लगाने पर करीब 18-20 दिन में कलम से नई जड़ें और एक-दो पत्तियां निकलती दिखने लगती हैं।

गमले में लगाने के लिए कोई खास मिट्टी की जरूरत नहीं है। बस इस बात का ध्यान रखे कि गमले में फालतू पानी न रुके, क्योंकि इससे पौधे की जड़ खराब होती है। इसके लिए गमले के नीचे छेद हो और मिट्टी में 1/3 भाग बालू या कोकोपीट मिला सकते हैं। खाद की बहुत आवश्यकता नहीं है लेकिन गोबर खाद डालने से पौधे में शुरुआती ग्रोथ जल्दी होती है।

Purple Heart Plant India

पानी में कलम बढ़ाना है तो बर्तन में इतना पानी डालें कि कलम का निचला 1-1.5 इंच सिरा पानी में रहे, 1-2 दिन में पानी बदलते रहें। 2-3 हफ्ते में कलम से नई जड़ निकल आयेंगी। आप चाहे तो पानी में ही इसे लगा रहने दे सकते हैं लेकिन पौधा बढ़ने पर नए बड़े बर्तन की जरूरत पड़ेगी।

पढ़ें> सिंगोनियम प्लांट लगाने के फायदे, कैसे लगाए

पर्पल हार्ट प्लांट की केयर कैसे करें – Purple heart plant care in hindi

इस पौधे को घना लुक देने के लिए ऊपर बढ़ती हुई शाखाओं को तोड़ (pinching) दिया करें, जिससे कि पौधा चौड़ाई में फैले।

पर्पल हार्ट प्लांट में फूल निकलने के कुछ दिन बाद फूल वाली शाखा को तोड़ने से भी पौधे को नई पत्तियां निकालने की शक्ति मिलती है।

धूप – पर्पल हार्ट प्लांट को खुली धूप पसंद है। दिन में कुछ घंटे इसे धूप मिलती रहे तो इसकी पत्तियों में अच्छा बैगनी रंग आता है और ग्रोथ भी बढ़िया होती है। अगर यह पौधा छाँव में रखा हो तो भी चल जाता है, मगर इससे तने, पत्तियों में हरा शेड आने लगता है।

सिंचाई – इस पौधे के तने के अंदर एलोवेरा प्लांट जैसा जेल होता है इसलिए पर्पल हार्ट प्लांट को ज्यादा सिंचाई की जरूरत नही होती है। बढ़ते हुए पर्पल हार्ट प्लांट को नियमित रूप से थोड़े पानी की जरूरत होती है, इसे बस 3-4 दिन में इतना पानी देते रहें जिससे कि मिट्टी में कुछ नमी बनी रहे तो यह अच्छा चलता है। एक बार बढ़ जाने के बाद हर रोज सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती है, इसे पानी तभी दें जब मिट्टी की ऊपरी परत छूने में सूखी लगने लगे।

खाद – आमतौर पर बिना खाद के भी यह पौधा ग्रोथ कर लेता है। नया पौधा लगाते समय और बढ़ने के दौरान पौधे में महीने में 1 बार कोई भी ऑर्गैनिक खाद डाल सकते हैं।

अगर आपको पर्पल हार्ट प्लांट (Purple heart plant in hindi) के बारे में जानकारी पसंद आई तो इसे अपने मित्र, परिचितों को भी व्हाट्सप्प शेयर जरूर करें। इस पौधे के विषय में कोई सवाल पूंछने या अनुभव शेयर करने के लिए नीचे कमेन्ट करें।

ये भी पढ़ें >

ZZ प्लांट कैसे लगायें व लगाने के फायदे

कोलियस प्लांट कैसे लगाए व केयर करे

साइप्रस वाइन की बेल लगाने के फायदे व कैसे केयर करे

कोचिया प्लांट से गर्मी में हरियाली फैलाएं

source : https://hort.extension.wisc.edu/articles/purple-heart-tradescantia-pallida/

ये लेख दोस्तों को Share करे

शब्दबीज संपादक पिछले 5 वर्षों से हिन्दी में विभिन्न विषयों पर अच्छे लेखों का प्रकाशन कर रही है। हमारा उद्देश्य है कि सही जानकारी, अनुसंधान और गुणवत्ता पूर्ण लेख से हमारे पाठकों का ज्ञानवर्धन हो।

Leave a Comment