टेस्ला गीगाफैक्ट्री 11 फैक्ट्स : ये दुनिया की सबसे बड़ी बिल्डिंग होगी  

टेस्ला गीगाफैक्ट्री :

1) इलेक्ट्रिक कारें ही भविष्य है, Tesla car कम्पनी के मालिक एलोन मस्क का यह विज़न सच साबित हो रहा है. हाल ही में कई भारतीय कार कम्पनियों ने भी अगले एक-दो साल में अपने मॉडल्स के Electric version लांच करने की घोषणा की है. टेस्ला अभी सालाना 50,000 इलेक्ट्रिक कार का निर्माण करती है, पर उसका लक्ष्य 2020 तक 5,00,000 कार प्रतिवर्ष बनाने का है.

2) अपने इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए टेस्ला ने Nevada (USA) में Car Battery बनाने वाली इकाई Gigafactory लगाने की शुरुआत 2014 में कर दी थी, जिसके 2018 तक पूरा होने की सम्भावना है. पूरी तरह बन जाने के बाद यह दुनिया की सबसे बड़ी इमारत होगी.

Tesla Gigafactory Nevada
source : Tesla Gigafactory

3) 19,000,00 लाख स्क्वायर फीट क्षेत्रफल में बनने वाली इस बहुमंजिला बिल्डिंग में कुल 60,000,00 स्क्वायर फीट का वर्किंग स्पेस बनकर तैयार होगा. ये फैक्ट्री न्यूयॉर्क सेंट्रल पार्क के क्षेत्रफल का तीन गुना से अधिक बड़ी होगी.

4) गीगाफैक्ट्री इतनी बड़ी है कि 95 फुटबॉल के मैदान समा जाएँ या कहें तो 100 बोइंग 747 जेट विमान खड़े किये जा सकते हैं.

5) टेस्ला गीगाफैक्ट्री बनाने में टेस्ला व उसके पार्टनर्स कुल 5 बिलियन डॉलर (32,000 करोड़ रुपये) खर्च करेंगे. इस लागत में 2 बिलियन डॉलर (13,000 करोड़ रूपये) टेस्ला वहन करेगा, 1.6 बिलियन डॉलर (10,222 करोड़ रुपये) Panasonic खर्च करेगी व बाकी रकम टेस्ला के अन्य पार्टनर कम्पनियाँ देंगी.

6) Gigafactory को पूरी तरह से भूकम्परोधी बनाने के लिए टेस्ला खास तरह की नींव बनवाई है, जिससे इसपर भूकम्प का असर नहीं होगा. केवल इस खास फाउंडेशन को बनाने में ही 16 मिलियन डॉलर (102.25 करोड़ रूपये) खर्च किये गये.

Tesla Car Battery factory
source : Tesla Car battery

7) इतनी बड़ी कम्पनी को चलाने के लिए पूरी तरह से गैर पारम्परिक ऊर्जा स्रोत (सोलर एनर्जी, पवन चक्की आदि) का प्रयोग किया जायेगा. इतने बड़े स्तर पर पूरी तरह से गैर पारम्परिक ऊर्जा स्रोत से चलने वाली यह सबसे बड़ी कम्पनी होगी.

8) इतनी बड़ी कम्पनी को चलाने के लिए करीब 6500 कर्मचारियों की जरुरत होगी. इसके अतिरिक्त सामान को इधर उधर करने के लिए अपने आप रास्ता खोजने वाले Robots होंगे.

9) जब टेस्ला अपने कारों के लिए स्वयं ही बैटरी का निर्माण करेगा तो उसके Car models की कीमत घटेगी. एलोन मस्क के अनुसार इससे उनकी कारों के दाम करीब 30% तक कम हो जायेंगे. इससे ज्यादा से ज्यादा लोगों का इलेक्ट्रिक कार खरीदने का सपना पूरा होगा.

Tesla Model S buy India
Source : Tesla Model S

10) टेस्ला इस समय दुनिया में लिथियम-आयन का सबसे बड़ा ग्राहक है. इस फैक्ट्री के बन जाने से टेस्ला की चाइना जैसे बाजारों पर निर्भरता खत्म हो जाएगी और टेस्ला गीगाफैक्ट्री दुनिया की सबसे बड़ी Lithium-ion Battery बनाने वाली कम्पनी बन जाएगी. ये गीगाफैक्ट्री पुरानी बैटरियों को पूर्णतः रीसायकल करने का काम भी करेगी, जिससे पर्यावरण संरक्षण में मदद मिलेगी.

11) टेस्ला कार के संस्थापक एलोन मस्क के अनुसार करीब ऐसी 100 गीगाफैक्ट्री दुनिया भर की कारों के लिए बैटरी बनाने को पर्याप्त होंगी. Elon Musk जल्द ही कुछ और देशों में भी Gigafactory लगाने की मंशा जता चुके हैं.

ये भी पढ़ें :

इलेक्ट्रिक कार टेस्ला की 20 अविश्वसनीय खूबियाँ – Tesla car facts

अन्तरिक्ष में अन्तरिक्षयात्री अक्सर हाथ बांधे क्यों नज़र आते हैं ? | Astronauts Hands

Double Slit Experiment: भगवान के अस्तित्व को सिद्ध करने वाला वैज्ञानिक प्रयोग

Boston Dynamics के 2 नए रोबोट Handle और Spotmini के कमाल देखिये

EnChroma चश्मे लगाकर कलर ब्लाइंड लोग भी अब रंगों को देख सकेंगे

कौन है Boston Dynamics जिसके रोबोट Atlas ने YouTube पर तहलका मचा दिया

Comments