पेशाब में झाग आने के 7 कारण, लक्षण, घरेलू उपचार

Peshab mein jhag aanaक्या आपके पेशाब (यूरिन) में झाग आता है ? आपने देखा होगा कि कभी-कभी पेशाब करने से झाग (Foamy Urine) बनने लगती है। पेशाब में झाग या बुलबुले आने के कारण सामान्य या किसी बीमारी के लक्षण भी हो सकते हैं। हम आपको पेशाब से झाग बनने का कारण और पेशाब में झाग का घरेलू उपचार भी बतायेंगे।  

गर पेशाब में झाग आने की समस्या का इलाज न किया जाए तो कई तरह के रोग, खतरे पैदा हो सकते हैं जैसे हृदय रोग, डायबीटीज रोग बढ़ जाना, किडनी खराब हो जाना, किडनी के रोग, बॉडी में प्रोटीन कम हो जाना आदि।

नोट : अगर आपको कभी-कभार पेशाब में झाग (Foam in Urine) दिखता है तो बहुत टेंशन लेने की ज़रूरत नहीं है। ज्यादातर ये शरीर में पानी की कमी (Dehydration) की वजह से होता है। लेकिन अगर पेशाब में बुलबुले बनना लगातार कई दिनों तक हो रहा है तो ये किसी रोग की वजह से हो सकता है। 

पेशाब में झाग बनने के 7 कारण, लक्षण | Causes of Foamy urine in hindi, Urine me jhag aana

कई बार पेशाब में झाग बनने के कारण सामान्य होते हैं। ऐसे कारण कोई रोग नहीं है और अपने आप ठीक भी हो जाते हैं। लेकिन कुछ ऐसी बीमारियाँ होती हैं जिसकी वजह से पेशाब में फ़ोम बनने लगता है। आगे हम दोनों तरह के लक्षणों के बारे में जानेंगे। 

1) तेजी से पेशाब करना

कई बार बहुत प्रेशर से या तेजी से पेशाब करने से टॉयलेट में झाग बन जाता है। यह झाग तुरंत ही खत्म हो जाता है, ये कोई चिंता की बात नहीं है। कभी-कभी साबुन या टॉयलेट की सफाई में प्रयोग हुआ लिक्विड (Cleaning chemical) पड़ा रह जाता है जोकि पेशाब करने पर झाग सा बना देता है। यह झाग फ्लश करने के बाद खत्म हो जाता है।

2) गर्भावस्था (Pregnancy)

गर्भावस्था में किसी-किसी महिला की किडनी बढ़ जाती है जिससे Urine में बुलबुले आने लगते हैं. गर्भावस्था में महिलाओं की किडनियों को अधिक मात्रा में अमीनो एसिड फिल्टर करने पड़ते हैं. जब Amino Acid की मात्रा रीनल ट्यूब्यूल्स की क्षमता से अधिक हो जाती है तो वे पेशाब के रास्ते बाहर आ जाते हैं और पेशाब में Foam दिखने लगता है.

3) हल्का डिहाईड्रेशन (Dehydration)

डिहाईड्रेशन यानि बॉडी में पानी कम होने से भी पेशाब में झाग उठने लगता है. शरीर में पानी की कमी हो जाने से पेशाब गाढ़ा और बुलबुलेदार हो जाता है.

किसी बीमारी के कारण पेशाब में झाग आना | Bubbles in urine causes in hindi 

अब हम कुछ ऐसी रोग और कन्डिशन के बारे में जानेंगे जिसमें अगर पेशाब में बुलबुले या झाग बनते हैं तो आपको लापरवाही नहीं करनी चाहिए। 

4) डायबिटीज (मधुमेह) होना

डायबिटीज के रोगी की किडनी (गुर्दे) कमजोर हो जाते हैं, जिससे उनके पेशाब में प्रोटीन जाने लगता है और पेशाब से झाग बनता है। इसके अलावा Diabetes के मरीज में Dehydration का रिस्क अधिक होता है इसलिए उन्हें सामान्य लोगों की तुलना में पेशाब में झाग अधिक दिख सकता है। इसके लिए हर 2-3 घंटे में पानी पियें, प्यासे न रहें। जब शरीर में पानी की कमी दूर हो जाएगी तो यह दिक्कत ठीक हो जाती है। 

5) किडनी रोग की वजह से

मूत्र में लगातार झाग बनना किडनी की किसी खराबी या बीमारी का लक्षण भी हो सकता है इसलिए डॉक्टर से मिलकर सलाह लेनी चाहिए और बताए गए जरूरी टेस्ट भी करवा लेने चाहिए।

Peshab mein jhag ka aana

6) पेशाब में प्रोटीन आना | What is Proteinuria in hindi

इस बीमारी में भी पेशाब में झाग बनने लगता है। पेशाब में Albumin जैसे प्रोटीन निकलने पर यह प्रोटीन हवा से रिएक्शन करके मूत्र में झाग बना देता है। अगर पेशाब में लगातार झाग आने के साथ ही आपको ये 7 लक्षण भी दिख रहे हो तो तुरंत Doctor से सलाह लें :-  

  • हाथ, पैर, पेट और चेहरे में सूजन आना 
  • थकान लगना 
  • भूख न लगना 
  • जी मिचलाना, उलटी आना 
  • सोने में दिक्कत होना 
  • गाढ़ा या धुंधला रंग का पेशाब होना 
  • पेशाब में बदबू आना

आमतौर पर जब खून किडनियों से होकर गुज़रता है तो स्वस्थ किडनियां सभी प्रकार के Waste product को बॉडी से बाहर कर देती हैं और केवल उसी प्रोडक्ट को खून में रहने देती हैं जो शरीर के लिए ज़रूरी हैं

लेकिन किडनी की बीमारी के शिकार लोगों में किडनी का एक भाग ग्लोमेरूलाई (Glomeruli) काम करना बंद कर देता है जिससे पेशाब में प्रोटीन का आना बढ़ जाता है

प्रोटीन की वजह से मूत्र में झाग आने का इलाज

इस प्रॉब्लम में ऐसे आदमी को भोजन से प्रोटीन की खुराक लेना तत्काल बंद कर देना चाहिए और पेशाब में प्रोटीन के होने का इलाज डॉक्टर (Urologist) से करवाना चाहिए

इसके अलावा जब स्वस्थ शरीर को बहुत अधिक मात्रा में प्रोटीन की खुराक मिलती है तो वह उसे पेशाब के रास्ते बाहर निकालने लगता है. किडनियों को यह काम करने में बहुत समस्या हो सकती है और पेशाब में झाग दिखने का यह भी असामान्य लक्षण है.

बहुत ज्यादा मछली या प्रोटीन युक्त भोजन लेने से भी शरीर में प्रोटीन की मात्रा बढ़ सकती है. प्रोटीन ड्रिंक्स और बॉडी बिल्डिंग के लिए पिए जानेवाले ड्रिंक्स में प्रोटीन की बहुत अधिक मात्रा होती है. 

7) पेशाब के रास्ते में इन्फेक्शन | Urinary Tract Infections in hindi

अगर किसी व्यक्ति को पेशाब के रास्ते का इन्फेक्शन यानि Urine Infection है तो उसे पेशाब करते समय दर्द या जलन के साथ पेशाब से झाग बनने जैसे लक्षण दिखते हैं।

यूरिन इन्फेक्शन रोग के बैक्टीरिया पेशाब के रास्ते में गैस रिलीज़ करते हैं जिससे बुलबुले उठने लगते हैं. पेशाब की जांच के बाद यूरीन इन्फेक्शन के लिए Antibiotic दवाएं लेने पर इस रोग का इलाज हो जाता है.

8) वेसीकोकोलिक फिश्चुला | What is Vesicocolic Fistula in Hindi

फिश्चुला एक ऐसी मेडिकल कंडीशन है जिसमें दो अंगों के बीच किसी गड़बड़ी के कारण खून की नसों का कनेक्शन बन जाता है. यूरीन के ब्लैडर और आंत के बीच बने कनेक्शन को वेसीकोकोलिक फिश्चुला कहते हैं.

यह रोग पुरुषों में महिलाओं की अपेक्षा 3 गुना अधिक देखने में आती है. इसके कारण से पेशाब में झाग आने की समस्या का पता Doctor जांच के द्वारा कर सकते हैं.

FAQ

Q: पेशाब में झाग का घरेलू उपचार, आयुर्वेदिक उपचार क्या है ?

Ans : रोजाना कम से कम 2 लीटर पानी पीने से आमतौर पर पेशाब गाढ़ा होने की वजह से झाग बनने की समस्या ठीक हो जाती है। इसके अलावा खाने-पीने की ये चीजें भी पेशाब इन्फेक्शन की वजह से झाग बनने की प्रॉब्लम ठीक करती हैं – दिन में एक बार 1 ग्लास पानी में एक छोटा चम्मच बेकिंग सोडा मिक्स करके तुरंत पी जाएं। विटामिन सी देने वाले फल जैसे संतरा, मुसम्मी, पाइन एप्पल, अमरूद, आंवला आदि खायें। दही-छाछ का सेवन करें। धनिया का रस पियें या चटनी खायें। धनिया के बीज कूटकर पानी में उबालकर पियें। पानी में अदरक उबालकर छानकर शहद मिलाकर चाय जैसे पियें। Cranberry Juice, Blueberry juice पियें। आयुर्वेद में पुनर्नवा, दूब घास पेशाब झाग ठीक करने में प्रयोग की जाती है।
अगर किडनी प्रॉब्लम की वजह से झाग बनता है तो डॉक्टर से सलाह लें। इसमें डॉक्टर दवाई के साथ ही नियमित एक्सरसाइज़ करने, संतुलित भोजन की सलाह देते हैं। हाई ब्लड शुगर और हाई ब्लड प्रेशर भी किडनी के लिए अच्छा नहीं है, इन्हे कंट्रोल करें। खाने में नमक, प्रोटीन की मात्रा कम करें। स्मोकिंग न करें।

इस जानकारी को Whatsapp, Facebook पर अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें जिससे वो भी इसे पढ़ सकें. 

source – Foamy Urine : causes & treatment

किडनी का काम है ? किडनी खराब करने वाली ये 10 आदतें छोड़ दें

हमारे बॉडी में लिवर इतना जरूरी क्यों है ?

पानी कम पीने से होने वाली 13 बीमारियाँ जरूर जाने

सर्जरी से पहले रोगी को खाने-पीने से मना क्यों करते हैं

तांबे के बर्तन से पानी पीने के जबर्दस्त 21 फायदे

ज्यादा नमक खाने से बॉडी को क्या नुकसान होता है

ये आर्टिकल दोस्तों को भेजें

4 thoughts on “पेशाब में झाग आने के 7 कारण, लक्षण, घरेलू उपचार”

    • अश्वगंधा, गोक्षुर, आंवला, शतावरी, मूसली का सेवन करे। साथ में हल्का खाना खाएं, दूध-घी का सेवन करे। डेली योगासन, एक्सर्साइज़ करें।

      Reply
  1. Urine Mei Jhaag a raha hai 3,4 dino se kya ho sakta hai koi darane wlai bt to ni hai kya karu bulbulae banate hai

    Reply

Leave a Comment