आयल पुलिंग के फायदे : शरीर से टॉक्सिन निकालने वाली आयुर्वेद की तकनीक | Oil pulling health benefits

आयल पुल्लिंग क्या है ? आयल पुलिंग के फायदे :

आयल पुलिंग आयुर्वेद की करीब 3000 वर्ष प्राचीन तकनीक है जिसे संस्कृत में कवल ग्रह, स्निग्ध गंडूष कहा गया है. आयल पुलिंग तकनीक करने से शरीर के विषैले तत्व निकल जाते हैं जिससे सिरदर्द, माईग्रेन, साइनस, दांत-मसूढ़ों की समस्या, साँस की दुर्गन्ध, अनिद्रा, त्वचा रोग, लीवर रोग, हार्मोन अस्थिरता जैसी समस्याएँ दूर होती हैं. पश्चिमी देशों में आयल पुलिंग काफी प्रचलन में आ रहा है और विदेशी लोग भी इसके गुणगान कर रहे हैं.

आयल पुल्लिंग की विधि :

Oil pulling for teeth and mouth

आयल पुलिंग करने के लिए हम कोई भी वेजिटेबल आयल ले सकते हैं जैसे नारियल, तिल, सरसों, मूंगफली, सूर्यमुखी, जैतून आदि. आयुर्वेद के अनुसार तिल के तेल का प्रयोग सबसे अच्छा माना गया है.

– सुबह उठने पर बिना ब्रश किये, बिना कुछ खाए-पिए सबसे पहले अपने मुंह में 1-2 चम्मच कोई भी उपर्युक्त तेल डाल लें. अब इस तेल को आपको जीभ की सहायता से पूरे मुंह में, दांतों और मसूढ़ों के चारों ओर फिराना है. इसके बाद मुंह में बने तेल और लार के मिश्रण को 10-20 मिनट तक धीरे-धीरे कुल्ला करने जैसी क्रिया करना है. 10-20 मिनट बाद आपको यह मिश्रण थूक देना है.

ध्यान रखें कि आपको यह मिश्रण निगलना बिलकुल नहीं है.

– आयल पुल्लिंग में तेल का कुल्ला आपको धीरे-धीरे करना है, जिससे 10-20 मिनट तक करने से आपका मुंह न दर्द करने लगे. बीच-बीच में जीभ की मदद से मुंह में इसे घुमाते भी रहें. इसके बाद साफ पानी से कुल्ला करिये, पानी हल्का गर्म हो तो और बेहतर होगा.

– कुल्ला करने के बाद आप ब्रश कर सकते हैं, जैसा आप रोज ही करते हैं. बस इतना आसान है आयल पुलिंग करना. अच्छे परिणाम के लिए हफ्ते में इसे 4-5 दिन करें. फर्क आप स्वयं महसूस करेंगे.

जब आप मुंह में तेल-लार के मिश्रण को कुल्ला करते हुए दांतों, मसूढ़ों, मुंह के अंदर की त्वचा पर घुमाते हैं तो आमा नामक विषैला तत्व आपके मुंह व त्वचा से निकल जाता है. आयुर्वेद के अनुसार आमा शरीर में बहुत से रोगों को जन्म देता है. इसके साथ ही तिल, नारियल तेल में उपस्थित एंटीबैक्टीरियल, एंटीसेप्टिक गुणों की वजह से दांतों व मुख की समस्याओं का निदान होता है.

बाज़ार में मिलने वाले केमिकल माउथवाश मुंह के कीटाणु कम करते हैं, परन्तु साथ ही शरीर के लिए लाभदायक कई अच्छे बैक्टीरिया भी नष्ट कर देते हैं. आयल पुल्लिंग तकनीक में यह दोष नहीं होता है. आयल पुलिंग में तेल अच्छी क्वालिटी का ही प्रयोग करें जिससे आपको पूरा फायदा मिल सके.

यह भी पढ़िए :

देसी घी खाने के 6 फायदे, देसी घी वजन बढ़ाता नहीं कम करता है

जीभ जल जाये या दांत से कट जाये तो ये आसान घरेलू उपाय आजमायें

कोल्ड प्रेस्ड ऑयल के 8 फायदे जानकर आप भी इन्हें प्रयोग करेंगे

अरोमाथेरेपी क्या है व अरोमा थेरपी में प्रयुक्त 5 खुशबु के फायदे

9 बातों का ध्यान रखेंगे तो आपकी हर सुबह तरोताज़ा होगी

Comments