Mobile Apps बनाइए और करोड़ो कमाइये, 3 successful apps के सफलता की कहानी

मोबाइल एप्स की दुनिया 

मोबाइल क्रांति आने से बहुत से लोग Android और ios Mobile apps बनाने की रेस में लगे हैं. मोबाइल पर बार बार किसी वेबसाइट को खोलने की बजाय उसके apps download करना बढ़िया विकल्प हैं. ये छोटे छोटे एप्स मोबाइल स्क्रीन के अनुरूप होते हैं और तेजी से काम करते हैं. कितनी ही e-commerce कम्पनियाँ अपने एप्स को promote करने के लिए एप्स से शॉपिंग करने पर ज्यादा बढ़िया offers देती हैं.

इसके अलावा गेम्स और कार्यक्षमता बढ़ाने वाले कितने ही एप्स हर रोज़ लांच किये जाते हैं. समय और मेहनत की बचत के साथ ही मनोरंजन  करने वाले ये एप्स न सिर्फ हमारे लिए काम आसान करते हैं साथ ही इन्हें बनाने वाले भी अच्छी कमाई करते हैं. इस पोस्ट में हम आपको 3 सफल और कमाऊ apps के बारे में बतायेंगे और यह भी कि किस प्रकार आप भी एप्स बना सकते हैं.

कैंडी क्रश सागा Candy Crush Saga :

मोबाइल गेम्स में हर उम्र के लोगों की पहली पसंद बने इस एप्प को बनाने वाले London के गेम स्टूडियो King Digital Entertainment PLC  को Activision Blizzard ने 23 फरवरी 2016 को 5.9 बिलियन डॉलर में खरीद लिया.

Candy crush daily earning
कैंडी क्रश सागा

लन्दन के गेम स्टूडियो King Digital Entertainment PLC ने कैंडी क्रश सागा सन 2012  में पहली बार लांच किया था. इस एप्प की इतनी भारी कीमत अदा करने की वजह ? आंकड़ों पर गौर करे तो यह माना जाता है कि कैंडी क्रश सागा गेम हर रोज $1,000,000 (6.6 करोड़ रुपये ) की कमाई करता है.

मुफ्त में डाउनलोड होने वाला यह गेम खेल के दौरान किसी कठिन लेवल को पार करने या Game boost करने के लिए कुछ in-app purchase के लिए 1-2$ डॉलर लेता है. अनुमान है कि मात्र 2-5 % app users ही in-app purchase करते हैं,  पर एक ऐसा गेम जिसे हर रोज़ 9 करोड़ से ज्यादा लोग खेलते है और 1 करोड़ से अधिक नए लोग डाउनलोड करते हैं, इतनी कमाई करे तो कोई आश्चर्य की बात क्या.

डेलीहंट Dailyhunt :

एक ऐसा app जिसने 3 साल में सफलता के झंडे गाड़ दिए, वह है Dailyhunt. शुद्ध रूप से भारतीय यह app एक न्यूज़ पोर्टल है, जहाँ पर आप 12 भारतीय भाषाओँ में 200 से अधिक Newspaper, magazines और ebooks मुफ्त में पढ़ सकते हैं. इस एप्प पर हर रोज़ 1 लाख से अधिक news articles पब्लिश किये जाते हैं. 9 करोड़ से अधिक लोगों ने इसे install किया है और Dailyhunt app पर एक महीने में करीब 3 billion ( 3 अरब ) से अधिक pageviews दर्ज किये जाते हैं.

Virendra gupta Dailyhunt news app
‘वीरेन्द्र गुप्ता’ का ‘डेलीहंट’ न्यूज़ एप्प

Dailyhunt का नाम पहले Newshunt था और सन 2009 में उमेश कुलकर्णी और चन्द्रशेखर सोहोनी ने मिलकर बनाया था. सन 2011 में बिजनेसमैन वीरेंद्र गुप्ता की नजर इस एप्प पर पड़ी और उन्होंने इसे खरीद लिया. ‘वीरेंद्र गुप्ता’ बिजनेसमैन बनने से पहले 13 सालों तक एक Telecom industry में एग्जीक्यूटिव के पद पर कार्यरत थे.

वीरेन्द्र ने भांप लिया था कि मोबाइल क्रांति आने वाली है और उन्होंने NewsHunt पर सही दांव लगाया. वीरेंद्र गुप्ता ने app को नया लुक दिया, कमियों को दूर किया और बड़े स्तर पर प्रोमोट किया. नतीजा यह कि आज Dailyhunt दुनिया के 19 देशों के news apps की श्रेणी में Number 1 app है.

फ्लैपी बर्ड Flappy Bird :

 सन 2013 में वियतनाम के एक app developer Dong Nguyen ने यह गेम बनाया था. देखने में सरल, साधारण पर खेलने में कठिन यह गेम मई 2013 में लांच किया गया और जनवरी 2014 में सफलता के शीर्ष पर पहुँच गया. Dong Nguyen के अनुसार इस गेम से उन्हें हर रोज़ $50,000 (33 लाख रूपए) की कमाई Ads के माध्यम से हो रही थी.

इतनी सफलता और कमाई के बावजूद भी Dong Nguyen ने 10 फरवरी 2014 को Flappy Bird को games store से इसलिए हटा लिया क्योंकि उन्हें लगा लोग इसे खेलने में कुछ ज्यादा ही समय व्यर्थ कर रहे हैं.

मोबाइल गेम flappy बर्ड
Dong Nguyen का Flappy Bird गेम एप्प

बहरहाल Flappy Bird के हटने के बाद सैकड़ों ऐसे गेम्स बाज़ार में आये जोकि Flappy Bird की हुबहू कॉपी से थे. इनमे से कुछ गेम्स ने Flappy Bird की अनुपस्थिति का फायदा उठा करके कमाई तो की पर ‘फ्लैपी बर्ड‘ की लोकप्रियता के बराबर नहीं पहुँच पाए.

एप्स कैसे बनाये How to make apps :

इन 3 उदाहरण से आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि किस प्रकार एक सफल एप्प कमाई का एक बेहतरीन स्रोत बन सकता है. एक अच्छा एप्प बनाने के लिए एक fresh idea होना चाहिए या किसी पुराने आईडिया को सुधारने का कोई उपाय आपके पास हो. आप किसी एप्प डेवलपर से मिलकर अपने इच्छानुसार एप्प बनवा सकते हैं.

एप्प बनाने का तरीका सीखने के लिए कई ऑनलाइन कोर्स Udemy, Udacity, Coursera जैसी वेबसाइट्स पर उपलब्ध हैं. इसके अतिरिक्त YouTube पर भी सैकड़ों ऐसे विडियो हैं जिन्हें देखकर आप apps बनाना सीख सकते हैं.

कुछ ऐसी वेबसाइट्स भी हैं जिसकी मदद से आप free में, सिर्फ कुछ steps follow करके अपना App बना सकते हैं, बदले में आपकी होने वाली कमाई से कुछ हिस्सा उस वेबसाइट को मिलता रहेगा. सबसे अच्छा तरीका तो यह है कि आप खुद प्रोग्रामिंग सीख कर एप्प बनाना सीखें. 

आपका यह हुनर व्यर्थ नहीं जायेगा क्यूंकि लाखों ऐसी वेबसाइट्स हैं जोकि अपना एप्प बनवाना चाहती है. Upwork, Fiverr, Freelancer जैसी वेबसाइट पर अपना प्रोफाइल बनाकर आप एप्प डिजाईन, निर्माण से जुड़े ढेरों काम कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें :

वेबसाइट में बग खोजकर हैकर आनंद प्रकाश कमाते हैं करोड़ों

BookMyShow के Founder आशीष हेमराजानी की लाइफ स्टोरी | Ashish Hemrajani story

विजय शेखर शर्मा की जीवनी और Paytm की शुरुआत कैसे हुई

टेक्निकल गुरूजी और शर्माजी टेक्निकल – हिंदी के टॉप टेक रिव्यु यूट्यूब चैनल

Be My Eyes app से नेत्रहीन व्यक्ति भी देख सकते हैं | Be My Eyes app for Blinds

Comments

11 Replies to “Mobile Apps बनाइए और करोड़ो कमाइये, 3 successful apps के सफलता की कहानी

    1. Thanks Ma’am for your response
      its true but there is no such thing as easy money
      पर Passion होतो hard work भी easy हो जाता है

  1. तकनिकी जानकारी वालों के लिए उपयोगी जानकारी।

  2. Sir m bhi app developer banna chahta hu
    Aapne bhaut achhi jankari di h iske liye thanks

  3. Mobile aap toh achi chiz hai.. lakin isse banane mai bohot mehnat lagti hai.. or hamare indian colgs mai app banana ko motivate nhi kia jata ahi.. unhe toh bas ek chote se job se hi matlb hota hia.. kisi mnc company mai job kro.. or sari umar support ki role mai jivan barbaad kr do..

  4. but it’s not much easy as it appears…. too much patience and hard work is needed लेकिन किसी भी काम में सफल होने के लिए मेहनत तो लगती ही है, काफी अच्छी जानकारी

  5. आपने जो उदाहरण दिये है वो बहुत बढ़िया है लेकिन आपने यह नही बताया की एप्प्स बनातें कैसे है ? हालाँकि में एक Beginner Developer हूँ । क्या आप कोई ऐसा Tutorial बता सकते है क्या की मेरे पास Android Studio 2.2.1 है तो में इसे इस्तेमाल करके एप्प्स बना सकु कृपया मुझे Android Studio के बारे में अधिक जानकारी बताये । धन्यवाद ।।

Comments are closed.