BTW यानि बिट्टू टिक्की वाला के सतीराम यादव : ठेले से रिटेल चेन का सफ़र

दिल्ली के पीतमपुरा में चाट, टिकिया के एक ठेले से शुरुआत करके बिट्टू टिक्की वाला अब BTW नाम का ब्रांड बन चुका है. आज दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में BTW के 14 से अधिक रेस्टोरेंट्स और स्टोर हैं. उत्तर प्रदेश के अयोध्या शहर में एक ट्यूटर ‘सतीराम यादव’ कैसे इस बिज़नस में आये और इस मुकाम पर पहुंचे, आइये जानते हैं.

BTW के चेयरमैन S R Yadav यानि सतीराम यादव :

अयोध्या शहर में गरीब बच्चों को ट्यूशन देने वाले सतीराम यादव ‘मास्टरजी’ के नाम से प्रसिद्ध थे और लोग उनका सम्मान करते थे. अपना बिज़नस शुरू करने और कुछ बड़ा करने की उम्मीद लेकर सतीराम दिल्ली आये. सतीराम किसी बिज़नस फैमिली से नहीं थे, पर वो आत्मविश्वास और हिम्मत से भरपूर थे.

Satiram Yadav BTW

सतीराम के मन में उत्तर भारतीय स्ट्रीट फ़ूड चाट, टिकिया, दही-भल्ले आदि की दुकान खोलने आईडिया था. सतीराम यादव के सगे भांजे आर. के. यादव को टिक्की बनाने का तरीका आता था. सो सतीराम ने चाट, समोसे आदि का बिट्टू टिक्की वाला नाम से ठेला लगाना शुरू किया. लाजवाब स्वाद, बढ़िया क्वालिटी और ग्राहकों से बढिया व्यवहार की वजह से जल्द ही बिट्टू टिक्की वाला का नाम प्रसिद्ध होने लगा और लोग दूर दूर से उनकी दुकान पर आने लगे.

BTW Namkeen and sweets

अपनी बढ़ती लोकप्रियता को देखकर दूरदर्शी सतीराम यादव ने BTW ब्रांड नाम रजिस्टर्ड करवा लिया और वो रेस्टोरेंट फ्रैंचाइज़ी देने लगे. सन 1991 में उनका पहला रेस्टोरेंट दिल्ली के रानीबाग मार्किट में खुला. आज BTW के रिटेल चेन में 1200 से अधिक लोग रोजगार पा रहे हैं.

पिछले 3 साल से BTW पैकेज्ड फ़ूड और कैटरिंग सेगमेंट में भी आ चुके हैं. BTW के नमकीन, रेडी टू ईट आइटम, मिठाइयाँ, मिनरल वाटर, गिफ्ट पैक, कुकीज़ के निर्माण के लिए सतीराम ने 50,000 स्क्वायर फीट क्षेत्रफल की एक मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाई है.

दिल्ली के सुभाषनगर में BTW का शानदार मार्केटिंग ऑफिस सतीराम की सफलता का प्रतीक है. आज बिट्टू टिक्की वाला के  सफलता की कहानी MBA कॉलेजों में केस-स्टडी में पढाई जाती है. सतीराम यादव युवा कारोबारियों के लिए एक प्रेरणास्रोत और मिसाल हैं. सतीराम यादव के सफलता की यह यात्रा कड़ी मेहनत, आत्मविश्वास और लगन की कहानी है.