थायरोइड (Thyroid Gland) की गड़बड़ी की जांच थर्मोमीटर से कैसे करें

By | 21/05/2016

आजकल बहुत सारे व्यक्तियों को थायराइड (Thyroid) संबंधित समस्याएं हो रही हैं. बहुत से लोगों में थाइरोइड का विकार भीतर-ही-भीतर पनपता रहता है लेकिन या तो इसके लक्षण जल्दी प्रकट नहीं होते या वे इसके लक्षणों को सामान्य मानकर नज़रअंदाज़ कर देते हैं.

हाइपोथायराइडिज्म (Hypothyroidism) ऐसी मेडिकल कंडीशन है जिसमें थायराइड ग्रंथि में थायराइड हार्मोन कम मात्रा में बनने लगता है. भारत में करोडों लोग हाइपोथायराइडिज्म से ग्रस्त हैं. चूंकि हमारे शरीर को ठीक से काम करते रहने के लिए निश्चित मात्रा में थायराइड हार्मोन की ज़रूरत होती है इसलिए पिट्यूटरी ग्रंथि थायराइड हार्मोन का उत्पादन कम हो जाने पर थायराइड ग्रंथि को स्टीमुलेट करनेवाला हार्मोन बनाने लगती हैं. इससे शरीर में कई प्रकार की गड़बड़ियां होने लगती हैं. यदि उपचार नहीं किया जाए तो हाइपोथायराइडिज्म के लक्षण उभर के सामने आने लगते हैं.

ये भी पढ़ें   मेडिकल सर्जरी से पहले कुछ भी खाने से मना क्यों किया जाता है, जानिए कारण

हांलांकि पुरुषों और महिलाओं में इसके लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं. हाइपोथायराइडिज्म के प्रमुख लक्षण हैं थकान, ठंडेपन का अहसास, वज़न बढ़ना, कब्ज, डिप्रेशन, चाल-ढाल व सोच-विचार में सुस्ती आना, मांसपेशियों में दर्द और कमजोरी, ड्राइ स्किन, बाल व नाखून का झड़ना या चटखना, कामेच्छा की कमी, उंगलियों में झनझनाहट और मासिक चक्र की गड़बड़ीआदि. बहुत रेयर कंडीशन्स में जीवन को खतरे में डालनेवाला दिल का दौरा या कोमा भी हो सकता है.

थायराइड संबंधित विकार (Thyroid problems) का पता लगाने का सबसे बेहतर तरीका खून की जांच है जिसमें अलग-अलग तरह के थायराइड हार्मोन्स का लेवल पता चल जाता है लेकिन हम आपको यह बताने जा रहे हैं कि साधारण थर्मोमीटर की सहायता से आप अपने शरीर में थायराइड संबंधित गड़बड़ी का पता लगा सकते हैं.

ये भी पढ़ें   बढ़िया और लाजवाब तरबूज खरीदने के लिए ये टिप्स आजमायें

इस टेस्ट को बार्नी टेस्ट (Barney’s Test) कहते हैं. इसे करने के लिए सबसे पहले आप थर्मोमीटर को झटक कर पारा 35C या 95F से नीचे गिराकर रात को सोने से पहले अपने सिरहाने रख लें. सुबह जागने पर सबसे पहले बिस्तर से निकले बिना, अपना ऊपरी कपड़ा निकालकर थर्मोमीटर को अपनी कांख (armpit) में लगाकर दस मिनट लगे रहने दें, फिर निकालकर इसकी रीडिंग लें.

थाइरोइड गडबडी के लक्षण और जाँच

  • यदि टेंपरेचर 5C या 97.7F और 36.8C या 98.2F के बीच है तो थायराइड ग्लैंड ठीक से काम कर रही है.
  • यदि टेंपरेचर 5C या 97.7F से कम है तो थायराइड सामान्य से धीमे काम कर रही है. इस दशा में डिप्रेशन, थकान, इन्फेक्शंस, लंबी अवधि से सरदर्द, ध्यान भटकना, मेमोरी लॉस, और बाल झड़ने की शिकायतें प्रकट हो सकती हैं.
  • यदि टेंपरेचर 8C या 98.2F से अधिक हो तो थायराइड तेजी से काम कर रही है या शरीर में किसी तरह का इन्फेक्शन है.
ये भी पढ़ें   नमक और अजीनोमोटो के अधिक उपयोग से होने वाले नुकसान

इस टेस्ट को सटीकता से जांचने के लिए चार-पांच दिन तक लगातार करें. यदि आपका टेंपरेचर उपर बताई गई लिमिट्स से कम या ज्यादा आए तो अपने डॉक्टर से कन्सल्ट करें.

Source

यह भी पढ़ें :

2 thoughts on “थायरोइड (Thyroid Gland) की गड़बड़ी की जांच थर्मोमीटर से कैसे करें

  1. जमशेद आज़मी

    थायराइड की जांच का आपने बहुत ही साधारण लेकिन प्रभावशाली तरीका बताया है। मैं इसे जरूर अजमाना चाहूंगा।

    Reply
  2. Pingback: युवावस्था से ही स्तन कैंसर के खतरे को बढ़ाने वाले इन 7 फैक्टर्स से बचें 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *