पल्स टॉफी ने कैसे 100 करोड़ कमाए | about Pulse candy in hindi

कच्चे आम के स्वाद वाली टॉफी Pass Pass Pulse Candy ने 8 महीनो में कुल 100 करोड़ का कारोबार करके भारतीय कैंडी बाज़ार में नया कीर्तिमान स्थापित किया है। वैसे तो बाज़ार मे छोटे –बड़े ब्रांड्स की कच्चे आम स्वाद वाली कई सारी टोफियाँ मौजूद हैं, पर DS Group (धरमपाल सत्यपाल ग्रुप) की पास पास पल्स में ऐसा क्या है जिसने 4 ग्राम की इस टॉफी को इतना लोकप्रिय बना दिया। 

पल्स कैंडी – about Pulse Toffee in hindi

पास पास पल्स टॉफी खाने पर पहले आपको मीठा और कच्चे आम का स्वाद आता है, कुछ सेकंड्स चूसने के बाद टॉफ़ी के दोनों सिरों पर छोटे-छोटे छेद हो जाते हैं, जिससे अमचूर, काला नमक, काली मिर्च आदि के मजेदार स्वाद वाला चूर्ण धीरे-धीरे निकलने लगता है। यह पाउडर कच्चे आम और मीठे स्वाद के साथ मिलकर जो लाजवाब स्वाद पैदा करता है वो आपको कच्चे आम के स्वाद वाली किसी अन्य टॉफी में नहीं मिलेगा

Pass Pass Pulse toffee in hindi
Pass Pass Pulse कच्चा आम टॉफी

स्वाद तो बढ़िया और हटके, ठीक है ! पर पास पास पल्स इतनी सफल कैसे ?

1) पूरे देश में हर वर्ग और उम्र के लोग कच्चे आम का स्वाद खाते और पसंद करते हैं। लोग कच्चे आम को चटपटे और मसालेदार स्वाद के साथ ज्यादा पसंद करते हैं। 

2) Surprise किसे पसंद नहीं। जिसने भी पल्स टॉफी पहली बार खाई वो Pulse टॉफी के स्वाद में पल-पल आने वाले Surprise से चकित और खुश दोनों हुआ। जिसकी वजह से उसने दूसरों को भी बताया और लोगो द्वारा ही मुफ्त की मार्केटिंग होती चली गयी।

3) पल्स कैंडी की कीमत 1 रुपए है। 4 ग्राम वजन वाली ज्यादातर टॉफियाँ बाज़ार में 50 पैसे में मिलती है। पर ऐसे स्वाद के लिए 4 ग्राम वजन वाली ही Pulse के लिए 1 रुपया खर्च करना बड़ी बात नहीं। फायदा कंपनी और बेचने वाले दोनों का हुआ। 

4) हरे और काले रंग की पैकिंग अलग ही दिखती है। Pulse के साथ जुड़ा हुआ Pass Pass नाम भी लोगो ने सुना ही था, इसलिए बाज़ार में पास पास पल्स की पहचान तेजी से बनी। 

5) Pulse की सफलता से प्रेरित होकर DS Group ने Pulse Guava (अमरुद) के स्वाद में पेश की है जोकि बाज़ार में उपलब्ध है, साथ ही जामुन के स्वाद में भी Pulse है। DS Group हर महीने करीब 400 टन Pulse टॉफी का उत्पादन कर रहा है, जोकि देश भर के करीब 8,00,000 (आठ लाख) से अधिक रिटेलर्स की दुकानों पर बिक रही है। 

DS Group के बारे में कुछ Facts व Products :

सन 1929 से स्थापित धरमपाल सत्यपाल ग्रुप माउथ फ्रेशनर, फ़ूड एंड बेवरेज, कन्फेक्शनरी, एग्रो फॉरेस्ट्री, रबर थ्रेड, तम्बाकू और इन्फ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में सक्रिय है और सालाना करीब 6500 करोड़ का टर्नओवर करता है। DS ग्रुप की 24 से अधिक मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स नॉएडा, दिल्ली, हिमांचल प्रदेश, असाम, त्रिपुरा आदि जगहों पर स्थित है। 

RajniGandha Pearls Priyanka Chopra ad

DS ग्रुप के प्रमुख उत्पाद कुछ इस प्रकार हैं, माउथ फ्रेशनर वर्ग में पास पास व रजनीगंधा पान मसाला का नाम सभी जानते हैं। रजनीगंधा पान मसाला का नया स्वाद लौंग फ्लेवर के रूप में और रजनीगंधा सिल्वर पर्लस (केशर और चांदी युक्त इलायची के बीज ) अभी हाल में ही लांच किया गया है, जिसके advertisement में आपने फिल्म अभिनेत्री ‘प्रियंका चोपड़ा’ को देखा होगा।

Catch spices Ds group Juhi Chawla
Catch spices ad में जूही चावला

बाबा और तुलसी ब्रांड चबाने वाली तम्बाकू , कैच ब्रांड का सब्जी मसाला, कैच ब्रांड नाम से ही सोडा वाटर, मिनरल वाटर, पियोज़ और योमिल बेवरेज भी DS ग्रुप के अन्य प्रसिद्ध उत्पाद हैं। DS ग्रुप के अनुसार उनके द्वारा ही भारत में पहली बार Electronically beaten चांदी और सोने के वर्क तैयार किये गए जोकि 100 % शुद्ध, हाइजीनिक और वेजेटेरियन हैं। Pass Pass Pulse कैंडी का नाम भी DS Group की अन्य सफलताओं के साथ जुड़ गया है। 

पल्स टॉफी के बारे में ये रोचक जानकारी अपने दोस्तों को बताने के लिए इस पोस्ट को व्हाट्सअप शेयर करें जिससे अन्य लोग भी ये लेख पढ़ सकें। source : https://www.dsgroup.com/our-businesses/confectionery

 यह भी पढ़ें >

क्यों दुनिया के 80% चश्मा 1 ही कम्पनी बनाती है

बिट्टू टिक्की वाला होटल के मालिक सतीराम यादव की कहानी

शेयर बाजार की इन 13 कहानियों से अपनी आर्थिक समझ बढ़ाएं

बुकमायशो के ओनर आशीष हेमराजानी की लाइफ स्टोरी

विजय शेखर शर्मा ने पेटीएम कंपनी कैसे शुरू की

ये लेख दोस्तों को Share करे

शब्दबीज संपादक पिछले 5 वर्षों से हिन्दी में विभिन्न विषयों पर अच्छे लेखों का प्रकाशन कर रही है। हमारा उद्देश्य है कि सही जानकारी, अनुसंधान और गुणवत्ता पूर्ण लेख से हमारे पाठकों का ज्ञानवर्धन हो।

2 thoughts on “पल्स टॉफी ने कैसे 100 करोड़ कमाए | about Pulse candy in hindi”

  1. बहुत रोचक और सूचनापरक पोस्ट. बहुत उपयोगी ब्लॉग.

    ब्लॉग में मानक (standard) हिंदी का प्रयोग सराहनीय है. कृपया स्तर बनाए रखें.

    Reply
    • निशांत जी आपका बहुत धन्यवाद
      आपका ब्लॉग मेरे लिए प्रेरणा स्रोत रहा है.
      आपकी शुभकामना, मेरे लिए आशीर्वाद 🙂

      Reply

Leave a Comment