Best Self help books in hindi | 9 मोटिवेशनल बुक जरूर पढ़ें

हिंदी में 9 बेस्ट सेल्फ हेल्प मोटिवेशनल किताबें जो हर किसी को जरूर पढ़ना चाहिए। ये किताबें अच्छी पर्सनैलिटी डेवलप करने, खुद को बदलने, सफलता के लिए सही सोच बनाने, अमीर होने, जीवन के संघर्षों का सामना करने, सबके लिए जरूरी फाइनैन्शियल समझ जैसे विषयों पर है।   

हिंदी में सेल्फ हेल्प पुस्तकें – Best Motivational books in hindi

1) रिच डैड पुअर डैड – हिंदी में (रोबर्ट टी कियोसाकी) – इस किताब के बारे में क्या कहूँ, ये तो हर स्कूल-कॉलेज के कोर्स में होनी चाहिए। हमें गणित तो खूब पढ़ाई जाती है लेकिन पैसे को बढ़ाने का तरीका, निवेश जैसे जरूरी चीजों के बारे में कुछ भी नहीं पढ़ाया जाता, जिसकी असल लाइफ में हमें बहुत जरूरत पड़ती है।

इस किताब में लेखक ने अपनी लाइफ की कहानी बताई कि कैसे सामान्य परिवार में पैदा होने के बावजूद वो अमीर आदमी बने। कहानी के माध्यम से सीखना बहुत आसान होता है। इस बुक से आप सही चीज पर पैसे खर्च करना, पैसे कमाने का तरीका, आमदनी कैसे बढ़ायें, नौकरी करने वाले अमीर क्यों नहीं बन पाते, बचत पर बेहतरीन ज्ञान सीखते हैं। 

2) अग्नि की उड़ान (डॉ. अब्दुल कलाम) – ये किताब डॉक्टर कलाम की लाजवाब जीवनी है। डॉ कलाम के राष्ट्रपति बनने से पहले, जीवन के शुरुआती दिनों की कहानी इस बुक में बताई गई है। हर आदमी के जीवन में संघर्ष, निगेटिविटी का दौर आता है लेकिन जो इन सबसे दबता नहीं और रुकता नहीं, हर सफलता उसके गले का हार बनती है। इस किताब में डॉ कलाम के कई बेहतरीन कोट्स भी हैं। 

3) एटॉमिक हैबिट्स – छोटे बदलाव, असाधारण परिणाम (जेम्स क्लियर) – हर कोई अपने आप को बेहतर बनाना चाहता है लेकिन खुद को बदलना इतना मुश्किल क्यों है ?। वो इसलिए क्योंकि जैसे कुछ लोग रातोंरात करोड़पति बनने के सपने देखते हैं, हम भी चमत्कारी तरीके से एकदम फटाफट खुद को बदलने की कोशिश करते हैं।

‘एटॉमिक हैबिट्स’ एक लाजवाब किताब है जोकि हमें बदलाव के खास तरीके, अच्छी आदत पक्की करने का उपाय सिखाती है और बदलने के लिए अपनी सोच, नजरिया कैसे ठीक करें, इस तरह के सुझाव देती है।  

4) बड़ी सोच का बड़ा जादू (डेविड श्वार्ट्ज) – 1959 में पहली बार छपी ये किताब आज तक दुनिया भर में बिक रही है। एक सफल और असफल आदमी में सबसे बड़ा अंतर सोच का होता है। अगर सोच सही है तो सही दिशा में सही प्लान से काम होगा, नहीं तो मेहनत एक मजदूर भी बहुत करता है। सफलता पाने और सफल जीवन के लिए जरूरी सोच, पर्सनैलिटी बनाने में इस किताब ने लाखों लोगों का मार्गदर्शन किया है। 

5) अलकेमिस्ट (पाउलो कोएल्हो) – इस किताब ने ‘गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड’ में अपना नाम दर्ज करवाया है क्योंकि इसका सबसे ज्यादा भाषाओं (80 भाषा) में अनुवाद हुआ है। दुनिया के हर देश मे इस किताब ने बेस्टसेलर का अवॉर्ड पाया है। ये किताब एक नॉवेल (उपन्यास) है।

इसकी कहानी एक गरीब चरवाहे के बारे में है जोकि अपने रहस्यमयी सपने को पूरा करने के लिए कई अनोखी परिस्थितियों, मुश्किलों से गुजरता है और हरेक से जो कुछ वो सीखता जाता है, वही आगे चलकर उसके सपने को हकीकत में बदल देता है। जरूर पढ़ें।

6) अति प्रभावकारी लोगों की 7 आदतें (स्टीफेन एंड कोवी)

नाम से ही जाहिर है कि इसमें महान, अमीर, प्रसिद्ध और प्रभावशाली लोगों की उन आदतों के बारे में बताया गया है जिसे अपनाकर उन्होंने ऊंचाइयों को छुआ। केवल अपने बारे ही नहीं, अन्य लोगों के विषय में भी हमारी सोच कैसी होनी चाहिए, ये किताब हमें बतलाती है। एक बड़ा आदमी अपनी सोच से बड़ा बनता है क्योंकि सोच ही कर्म का आधार है। 

7) जीत आपकी (शिव खेड़ा) – इस मोटिवेशनल बुक को पढ़ना-समझना बहुत आसान है क्योंकि इसमें ढेर सारी छोटी-छोटी कहानियाँ, किस्से और बेहतरीन कोट्स हैं। यही वजह है कि हर उम्र, समझ, सोच का व्यक्ति इसे आसानी से पढ़कर इसका लाभ उठा सकता है।

लेखक शिव खेड़ा ने भी अपने जीवन के बारे में बताया है कि कैसे उन्होंने संघर्ष से सफलता का सफर तय किया। हर कोई सफल बन सकता है और हर किसी को सफल होने का अधिकार है, ये सोच इस किताब का आधार है। 

8) रहस्य (रोंडा बायर्न) – अगर आप कोई चीज अपनी लाइफ में चाहते हो तो बस उसी के बारे में सोचो, मगर जो नहीं चाहिए उसे मत सोचो। कहने में बहुत आसान है पर करने में मुश्किल क्योंकि जरा सा कन्डिशन हमारे मन मुताबिक न हुई तो हमारी सोच निगेटिव होने लगती है। 

किसी भी चीज को पाने, सपने सच करने के लिए पहले जरूरी है कि आप माने उसे हासिल करना संभव है। अगर मानने लगेंगे तो फिर आपके लिए आशा की किरण पैदा होगी जो आपको रास्ता दिखाएगी। ये लाजवाब किताब ‘लॉ ऑफ अट्रैक्शन’, पाज़िटिव थिंकिंग के सिद्धांतों पर आधारित है। 

9) सोचो और अमीर हो जाओ (नेपोलियन हिल) – असल दुनिया में सफल होने से पहले लड़ाई तो दिमागी स्तर होती है। ‘सोचो और अमीर हो जाओ’ ये बात सच है लेकिन क्या सोचें ? और क्यों सोचें ? ये जानना जरूरी है।

जिसने अपने दिमाग को सही तरीके से सोचना सिखा दिया, उसके लिए आधी बाजी तो वैसे ही मुट्ठी में आ गई। कई उदाहरणों से भरपूर ये किताब 1937 में पहली बार प्रकाशित हुई और आज भी खूब पढ़ी जाती है। 

सेल्फ-हेल्प मोटिवेशनल पुस्तके क्यों पढ़ें – Self help books in hindi 

हम सभी ने कभी न कभी कोई मोटिवेशन देने वाली पुस्तके जरुर पढ़ी या पलटी होगी। मेरी राय में लोग 2 तरह के होते है एक जो सेल्फ हेल्प बुक पढ़ते है और एक जो नहीं पढ़ते है। 

– नहीं पढने वाले तर्क देते है कि ये लेखक का अपना नजरिया है जरुरी नहीं मेरा भी वैसा हो….क्या हम इस लेखक से कम है….हम भी किताब लिख सकते है इत्यादि। 

Motivational books in hindi

दोनों तरह के लोग गलत नहीं है। जीवन जीने का सबका अपना तरीका होता है. यहाँ कोई भी शोर्ट-कट/ ट्रिक्स नहीं चलता है।लेकिन हाँ ! कुछ सिद्धांत ऐसे है जो शाश्वत सत्य हैं। भले ही उनका विवेकपूर्ण पालन करके देर हो जाये पर अंधेर नहीं होगा।  सफलता अवश्य मिलेगी। 

– इसके अलावा इन Self-help books के पढने से हम अपनी समस्या को किसी दूसरे की नजर से देख पाते है। हमें कुछ छिपी हुई कमजोरियों और कमियों का पता चलता है। इनका सबसे बड़ा फायदा एक Positive energy, नई आशा मिलती है, सोच को नया आयाम मिलता है। 

कौन सी Motivational book चुनें – Benefits of reading self help books :

ये सवाल बड़ा लगता है क्योंकि ऑनलाइन शॉप और दुकानों में हजार किताबें है। ये किताबें अलग अलग तरह की होती है।  कुछ किताबें किसी खास समस्या जैसे भय, निराशा के लिए होती है, कुछ संपूर्ण व्यक्तित्व के विकास को संबोधित करती है, कुछ भारतीय और कुछ विदेशी लेखको की होती है। 

किसी भी प्रसिद्द लेखक और Best-seller किताब से शुरुआत कर सकते है। मोटिवेशनल बुक कभी भी कहानी या नावेल जैसे नहीं पढना चाहिए।

थोडा थोडा पढ़ें, सोचे, समझे, महसूस करें और सब से बड़ी बात पालन करें। बिना लाइफ में इन बातों को उतारे इनके पढने का कोई फायदा नहीं। पढेंगे फिर भूल जायेंगे, वही के वही रह जायेंगे और सोचेंगे किताब फालतू है, इस से अच्छी किताब लेनी चाहिए थी। 

जैसे बनाना कठिन है और बिगड़ना आसान, वैसे ही इन किताबों में बताए गए नियमो का पालन मुश्किल लग सकता है पर हमारी नजर हमेशा हमारे सुनहरे लक्ष्य पर होनी चाहिए फिर हम इन कष्टों को भी पार कर जायेंगे। बीमारी में कडवी गोली भी हमें अच्छे स्वास्थ्य के लिए खानी पड़ती है।

– सत्यम शिव सुन्दरम का अर्थ है : जो सत्य है ,कल्याणकारी है, वही सुन्दर है

कोई भी अच्छी Motivational book लीजिये, पढिये, पालन करके सच और सुख को जीवन में ले आइये। Online सेल्फ हेल्प बुक्स खरीदने के लिए आप ये लिंक देख सकते हैं –> Self Help Books

Self help books in hindi
Self Help books in india

मोटिवेशनल सेल्फ हेल्प किताबों पर यह लेख अच्छा लगा तो Share और Forwrad अवश्य करें, जिससे अन्य लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें। 

यह भी पढ़ें –

विराट कोहली को ये किताब देती है मोटिवेशन

रावण और दैत्यों की अद्भुत रोचक कहानी

सुपर कमांडो ध्रुव के लेखक अनुपम सिन्हा की रोचक जीवनी

गर्दिश के दिन : हरिशंकर परसाई की प्रेरक आत्मकथा

शुक्राचार्य की पुत्री देवयानी की रोचक प्रेम कहानी

शेर को सवा शेर : कैसे मेरे दोस्त की साइकिल कैसे चोरी हुई

ये लेख दोस्तों को Share करे

अरविन्द पाण्डेय हिन्दी में स्वास्थ्य, टेक्नोलोजी, जीवनशैली जैसे विषयों पर Quality और Research से भरपूर लेख लिखते हैं। लेखक तकनीकी स्नातक हैं और उन्हें ऐसे लेख लिखना पसंद है जो पाठक को ज्ञान, मनोरंजन और सहायता प्रदान करे।

2 thoughts on “Best Self help books in hindi | 9 मोटिवेशनल बुक जरूर पढ़ें”

  1. Very good post…..this post is very important for me………Self help books should read for motivation……this is like as medicine……..Read must……..Thanks for share this Article………

    Reply

Leave a Comment