बूमरैंग बिना बैटरी का खिलौना जो हवा में फेंकने पर वापस आ जाता है, जानिए रोचक तथ्य

बूमरैंग (Boomerang) क्या होता है :

Buy Boomerang India Online

अगर आपने दूरदर्शन पर मोगली का जंगल बुक कार्टून देखा हो तो आपको याद होगा कि मोगली के पास एक खिलौना था. जिसे हवा में फेकने पर वह घूम कर वापस उसके हाथ में आ जाता था. इस खिलौने को बूमरैंग कहा जाता है.

Mowgli Boomerang toy

बूमरैंग की खोज ऑस्ट्रेलिया के आदिवासियों ने की थी. आदिवासी इसका प्रयोग मनोरंजन, शिकार करने और युद्ध में किया करते थे.

दुनिया का सबसे पुराना बूमरैंग पोलैंड के कारपेथियन पहाड़ से मिला है जोकि करीब 20,000 हजार साल पुराना माना गया है.

14वीं सदी ईसा पूर्व के राजा तुतेनखामेन के पास कई प्रकार के बूमरैंग का संग्रह था.

पुराने ज़माने में बूमरैंग लकड़ी, जानवरों की सींग से बनाया जाता था. आजकल लकड़ी के अलावा प्लास्टिक, रबर और धातु के बने बूमरैंग बाज़ार में उपलब्ध हैं. बूमरैंग आप ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं.

बूमरैंग कैसे प्रयोग करें :

बूमरैंग से खेलते समय कुछ सावधानियां बरतें. किसी खुले मैदान या पार्क में इसका प्रयोग करें. जहाँ आप इसे प्रयोग करें वह भीड़ भाड़ वाली जगह न हो वरना यह यह किसी को लग कर चोट पहुंचा सकता है.

इसे हाथ में खड़ा मतलब उर्ध्वाधर पकड़ कर फेंके. लोग अक्सर इसे क्षैतिज पकड़कर फेकने की भूल करते हैं. फेकते समय यह लम्बवत से करीब 45 डिग्री का कोण बनाये. सभी खेलों की तरह पहले आपको कुछ अभ्यास की आवश्यकता होगी, जिससे यह घूमकर सीधा आपके पास आपके हाथ में ही आयेगा.

बूमरैंग किस सिद्धांत पर कार्य करता है :

यह विज्ञान के जायरोस्कोपिक प्रीसेशन (Gyroscopic Precession) नियम पर कार्य करने की वजह से फेकने वाले के पास वापस आ जाता है.

हवा में फेकने पर बूमरैंग का एक विंग दूसरे विंग की तुलना में तेजी से घूमता है. तेजी से घूमने वाले विंग पर अन्य विंग से ज्यादा लिफ्ट फ़ोर्स लगता है. दोनों विंग पर फ़ोर्स के इस असंतुलन की वजह से एक अविरोधी Torque उत्पन्न होता है जोकि बूमरैंग की दिशा परिवर्तित करता है. जिसके फलस्वरूप यह गोल चक्कर काट कर वापस अपनी फेंकने वाली जगह पर आ जाता है.