safal business kaise kare in hindi

लिक्विड सोप बनाने वाली छोटी कम्पनी की चालाकी ने कैसे मार्केट लीडर्स के होश उड़ाये | Minnetonka Corp

बिज़नस रणनीति : Minnetonka Corp liquid soap केस

दुनियाभर में Liquid soap तेजी ने सोप बार यानि साबुन की टिकिया की जगह लेता जा रहा है. लोग हाथ धुलने के लिए लिक्विड सोप का प्रयोग करना अधिक पसंद करते हैं. यह लिक्विड सोप एक बोतल में पैक मिलता है, जिसमें एक छोटा सा पंप होता है. इस पंप को दबाकर लिक्विड सोप की मनचाही मात्रा प्रयोग की जाती है. लिक्विड सोप बाज़ार में पहली बार पेश करने वाली कम्पनी P&G, कोलगेट पामोलिव जैसी कोई बड़ी कम्पनी नहीं थी. यह तो एक छोटी सी अमेरिकन कम्पनी Minnetonka Corp थी.

लिक्विड सोप बाज़ार :

सन 1865 में विलियम शेफर्ड ने लिक्विड सोप की खोज की थी. लेकिन Minnetonka Corp ने ही लिक्विड सोप को घर-घर तक पहुँचाने और लोकप्रिय बनाने का काम किया. Minnetonka Corp ने जब लिक्विड सोप बनाने का निर्णय लिया तो वह जानते थे कि यह प्रोडक्ट बहुत सक्सेसफुल हो सकता है, परन्तु उनके सामने कुछ बड़ी चुनौतियाँ थीं.

Minnetonka Corp की सामने क्या चुनौतियाँ थी ?

– लिक्विड सोप बनाने की टेक्नोलॉजी और निर्माण के तरीके का कोई पेटेंट नहीं था. अतः कोई भी आराम से लिक्विड सोप निर्माण शुरू सकता था.

– बाज़ार में कई दिग्गज कम्पनियाँ थीं, जोकि Minnetonka Corp के लिक्विड सोप की कॉपी बनाकर बाज़ार में उतार सकती थीं और अपने महंगे मार्केटिंग, एडवरटाइजिंग बजट से बाजार को कण्ट्रोल कर सकती थीं.

अगर ऐसा होता तो Minnetonka Corp का प्रोडक्ट कुछ ही दिनों में घाटे का सौदा बन जाता.

Minnetonka Corp के मालिक Robet R. Taylor जानते थे कि मार्किट लीडर्स कंपनियों का मुकाबला उनकी छोटी सी कम्पनी नहीं कर सकती. उनका प्रोडक्ट बाज़ार में आने के कुछ दिन बाद ही बड़ी कंपनियाँ मिलते जुलते लिक्विड सोप को बाज़ार में ले आएँगी.

Robert R taylor Minnetonka Corp softsoap
source : Robert R Taylor of Minnetonka Corp

Minnetonka Corp की होशियार रणनीति :

– Robet R. Taylor ने सोचा कि वे बड़ी कंपनियों को रोक तो नहीं सकते, लेकिन अगर उन कंपनियों के प्रोडक्ट को मार्किट में आने से रोका जा सके तो काफी मुनाफा कमाया जा सकता है. भले ही वे कुछ महीनों या अधिकतम एक साल तक ही रोक सकें.

– Minnetonka Corp के मैनेजमेंट ने गौर किया कि लिक्विड सोप प्रयोग करने के अनुभव में पंप वाली बोतल का खास स्थान है. बोतल में लगाये जाने वाला छोटा सा पंप बनाने वाली USA में केवल दो कंपनियाँ थीं. सिर्फ इन्ही दोनों कंपनियों के पास ही यह पंप बनाने का पेटेंट लाइसेंस था.

– Robet R. Taylor ने फिर अपनी चालाकी और सूझबूझ दिखाई. उन्होंने दोनों कंपनियों से कुल मिलाकर 100 मिलियन ( 10 करोड़ ) छोटे बोतल पंप खरीद लिए, जिससे कि कोई भी प्रतिद्वंदी 1 साल तक एक भी बोतल पंप खरीद न पाए.

– इससे Minnetonka Corp को इतना समय मिल जाता कि वे बाज़ार में अपना एकाधिकार जमा सकें और अपना ब्रांड नाम हिट कर दें. भले ही P&G, Unilver जैसी कंपनियां फटाफट लिक्विड सोप बना लें, लेकिन बिना बोतल पंप के वो बाज़ार में अपना लिक्विड सोप लायेंगी कैसे ? और जब तक उन्हें बोतल पंप की सप्लाई होगी तब तक Minnetonka Corp उनसे 1 साल आगे होगा.

Minnetonka Corp की कुशल रणनीति का सुखद परिणाम :

– मिन्नेटोंका कॉर्प ने बाज़ार में अपना Softsoap Liquid soap के नाम से लांच किया. जनरल स्टोर्स और शौपिंग मार्ट की अलमारियों में रखा हुआ सॉफ्टसोप अन्य टिकिया वाले साबुनों के बीच अलग ही नजर आता था. Softsoap बड़ी तेजी से बिकने लगा और 6 महीने में मिन्नेटोंका कॉर्प ने 25 मिलियन डॉलर ( करीब 161 करोड़ रुपये ) कीमत का Liquid soap बेच लिया.

– इस सफलता के दम पर मिन्नेटोंका कॉर्प ने 1987 में अपना Softsoap और Village Bath नामक ब्रांड कोलगेट पामोलिव को 61 मिलियन डॉलर (394 करोड़ रुपये ) में बेचा.

– इसके दो साल बाद Unilver ने Minnetonka Corp को 376 मिलियन डॉलर (2428 करोड़ रुपये) में ख़रीदा.

मिन्नेटोंका कॉर्प के ओनर Robet R. Taylor की मृत्यु सन 2013 में हुई. मशहूर मैगज़ीन INC. ने Robet R. Taylor की यह एकाधिकार रणनीति दुनिया में आज तक की 3 सबसे प्रमुख बिज़नस रणनीति में एक मानी है. सिर्फ एक छोटी सी बात पर गौर करके एक गुमनाम सी कम्पनी कैसे मार्किट लीडर बन गयी, Minnetonka Corp इसका उदाहरण है.

बिज़नस की दुनिया की ऐसे ही रोचक बातें, केस स्टडीज, कहानियाँ पढने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक अवश्य करें. लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर अवश्य करें, जिससे अन्य लोग भी ये लेख पढ़ सकें.

ये भी पढ़ें : 

निरमा वाशिंग पाउडर बेचने के लिए कर्सनभाई पटेल ने क्या चालाक मार्केटिंग ट्रिक अपनाई थी

पास पास पल्स टॉफी ने कैसे 8 महीने में 100 करोड़ का कारोबार किया | Pass Pass Pulse toffee

चौंकिए नहीं ! पूरी दुनिया के 80% से ज्यादा चश्में एक ही कम्पनी बनाती है : Luxottica

भारतीय प्लास्टिक प्लेट में खा रहे हैं और जर्मन पत्तों के बने दोने, पत्तल अपना रहे हैं