प्रार्थना वह शक्ति हमें दो दयानिधे, कर्तव्य मार्ग पर डट जावें के लेखक कौन हैं ?

Vah Shakti Hame Do Dayanidhe –

लगभग सभी उत्तर-भारतीय सरकारी स्कूलों में सुबह सुर-बेसुर प्रार्थना गाते हुए बच्चों में जो एक समानता पायी जाती है, वो है यह प्रार्थना.

वह शक्ति हमें दो दयानिधे, कर्त्तव्य मार्ग पर डट जावें!
पर-सेवा पर-उपकार में हम, जग-जीवन सफल बना जावें!

हम दीन-दुखी निबलों-विकलों के सेवक बन संताप हरें!
जो हैं अटके, भूले-भटके, उनको तारें खुद तर जावें!

छल, दंभ-द्वेष, पाखंड-झूठ, अन्याय से निशिदिन दूर रहें!
जीवन हो शुद्ध सरल अपना, शुचि प्रेम-सुधा रस बरसावें!

निज आन-मान, मर्यादा का प्रभु ध्यान रहे अभिमान रहे!
जिस देश-जाति में जन्म लिया, बलिदान उसी पर हो जावें!

आश्चर्य की बात ये कि इतनी ज्यादा लोकप्रिय प्रार्थना/कविता के लेखक के बारे में लोगों को पता नहीं है. इन्टरनेट पर भी इस कविता के लेखक के बारे में मतभेद पाया गया है। 

– कई वेबसाइट्स पर लिखा है कि इसके लेखक मुरारीलाल शर्मा बालबंधु थे परंतु कई विद्वानों ने कहा है कि ये कविता श्री परशुराम पान्डे जी द्वारा लिखित है। परशुराम पान्डे जी मध्यप्रदेश के रीवा जिले की गुढ तहसील में द्वारी ग्राम के निवासी थे। 

– पं रामसागर शास्त्री, डा कृष्णचन्द्र वर्मा, डा नागेंद्र सिंह ‘कमलेश,  श्री रविरंजन सिंह जैसे लेखक जिन्होंने विंध्य क्षेत्र के साहित्य का अध्ययन किया है, इस बात की पुष्टि प्रमाण सहित की है। अधिक जानकारी के लिए नीचे रमाशंकर शर्मा जी का कमेन्ट देखें। 

मुझे आज भी यह प्रार्थना याद है, शायद आपको भी हो. इसके अलावा हमारे School course में जो सरकारी किताबें पढाई जाती थीं, उनके Back cover पर भी यह कविता प्रिंट होती थी.

कविता की इस जानकारी को Whatsapp, Facebook पर शेयर जरुर करे, जिससे अन्य लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें.

ये लेख दोस्तों को Share करे

शब्दबीज संपादक पिछले 5 वर्षों से हिन्दी में विभिन्न विषयों पर अच्छे लेखों का प्रकाशन कर रही है। हमारा उद्देश्य है कि सही जानकारी, अनुसंधान और गुणवत्ता पूर्ण लेख से हमारे पाठकों का ज्ञानवर्धन हो।

7 thoughts on “प्रार्थना वह शक्ति हमें दो दयानिधे, कर्तव्य मार्ग पर डट जावें के लेखक कौन हैं ?”

  1. निज आन ,बान नहीं निज आन , मान है ।
    कृपया सुधार करें

    Reply
  2. गलत जानकारी है
    ‘ वह शक्ति हमें दो दयानिधे ‘ प्रार्थना ग्राम द्वारी तहसील गुढ जिला रीवा मध्यप्रदेश के श्री परशुराम पान्डे जी की लिखी है , इसका स्पष्ट उल्लेख वयोवृद्ध पं रामसागर शास्त्री जीने अपने ग्रन्थ ” विन्ध्य दर्शन ” भाग १ के पृष्ठ 380 में किया है । इसमें उन्होंने कवि का संक्षिप्त परिचय ,उनकी रुचि ,शिक्षा , वृत्ति ,प्रवृत्ति उनकी कालावधि तथा उनकी लिखी कुछ अन्य रचनाओं का भी मूल पाठ सहित उल्लेख किया है ।
    इसके अतिरिक्त डा कृष्णचन्द्र वर्मा जिन्होंने तत्कालीन और विन्ध्य प्रदेश काल के साहित्य का शोधपूर्ण अनुशीलन , संपादन और प्रकाशन का कार्य किया है , उनकी भी यही मान्यता थी । इसका उल्लेख भी उन्होंने किया है । डा वर्मा साहित्य के प्रमाणिक और गंभीर अन्वेषकों में थे । श्री रविरंजन सिंह जीने अपनी पुस्तक “रीवा तब अउर अब ” में एकाधिक बार उनकी इस भूमिका का उल्लेख किया है । (प्रष्ठ 201 )
    डा नागेंद्र सिंह ‘कमलेश ‘जी की मान्यता का जिक्र तो किसी मित्र ने किया ही है । मैंने इन्हीं आधारों पर लगभग एक दशक पूर्व अकबरपुर (कानपुर ) में आयोजित एक संगोष्ठी में मुख्य वक्ता के रूप में यह बात प्रसंगवश कही थी , और उस सभा में अनेक प्रतिष्ठित , तथा उम्रदराज साहित्यिकों ने न सिर्फ़ मेरे कथन का प्रतिवाद नहीं किया वल्कि इस महत्वपूर्ण जानकारी देने के लिए मेरा आभार माना , क्यों कि उन्होंने बताया कि यही प्रार्थना उस क्षेत्र में भी गाई जाती थी ,जबकि वे इसके रचयिता से अपरिचित थे ।
    फिर जिन किन्हीं ‘बन्धु ‘ के नाम से यह रचना कही जाने का आग्रह है उनकी साहित्यिक खसूसियत क्या है , उन्होंने कुछ और भी लिखा होगा ,जिसे सामने लाया जाना चाहिए जबकि परुशुराम पान्डे जी की ही यह रचना इसके प्रमाण के लिए श्री राम सागर शास्त्री जी का ऊपर सन्दर्भित ग्रन्थ का चार पृष्ठीय लेख पर्याप्त है ।

    Reply

Leave a Comment