सुनार के सोने की पहचान कैसे करें | सोने का गहना कैसे खरीदें

सुनार के यहाँ सोने की पहचान करने का तरीका – Gold quality in hindi 

1) Gold Jewelry (सोने का गहना) लेने से पहले गहने पर Hall Mark (हॉलमार्क) का निशान जरुर Check कर लें। हॉलमार्क सोने की क्वालिटी और शुद्धता का भारत सरकार द्वारा प्रमाणित मानक है। हॉलमार्क निशान के साथ ही लिखे नंबर से आप सोने की क्वालिटी भी जान सकते हैं –

  • 750 नंबर लिखा है तो मतलब सोना 18 कैरट क्वालिटी का है। 
  • अगर 916 अंक लिखा है तो इसका अर्थ हुआ सोना 22 कैरट शुद्धता का है।

कई बार सुनार 18 Carat का सोना 22 Carat का बताकर बेच देते हैं, इसलिए अगली बार ये जरुर चेक कर लें। 

2) ज्वेलरी में बने हॉलमार्क (Hallmark) के निशान में 4 मुख्य जानकारी होती हैं –

  • त्रिभुज का निशान
  • गोल्ड कैरट नम्बर (916 या 750)
  • दुकानदार का लोगो
  • हालमार्किंग सेंटर का लोगो

ये चारों बातें जरुर चेक कर लें। ऐसे निशान बने गहने की क्वालिटी प्रमाणिक होती है और रीसेल भी आसान होती है। 

before buying Indian Gold jwellary

3) कई बड़े Gold jewelry stores बड़ी ऑफर्स पेश करते हैं। सोने का दाम हर दिन सरकार द्वारा निश्चित किया जाता है, तो फिर ये स्टोर्स गहना सस्ता क्यों बेच रहे होते हैं। ये स्टोर्स ऐसे मुनाफा बनाते हैं –

  • ऐसे गहने जिसमें स्टोन, क्रिस्टल, बीड वर्क ज्यादा हो, उसे सोने के दाम पर बेचकर
  • 24 कैरट का दाम लगाना, पर सोना 22 कैरट का ही होगा
  • 22 कैरट का भाव लगाना, पर 18 कैरट का गोल्ड देना

4) Diamond Jewelry (डायमंड ज्वेलरी) खरीदना शौक के लिए ठीक है लेकिन निवेश के लिहाज से ये अच्छा नहीं होता है। हीरा या हीरे के गहने खरीदने से पहले ध्यान दें – 

  • हीरा खरीदते समय IGI सर्टिफिकेट भी अवश्य लें
  • Diamond Jewelry की  रीसेल भी आसान नहीं होता
  • ज्यादातर महंगे ब्रांड्स मनमाने महंगे दामों में हीरे बेचते हैं
  • बड़े ब्रांड्स के बजाय छोटे रिटेल ब्रांड स्टोर्स से ख़रीदे 

5) Gemstones या रत्न हमेशा ज्वेलरी शॉप या स्टोर्स से ही खरीदें। ज्योतिषी या पंडित जी से नहीं। ऐसे रत्न की क्वालिटी या दाम का अंदाजा आप नहीं लगा सकते। महंगे पत्थर या रत्न खरीदने से पहले ध्यान दें – 

  • रत्न खरीदने से पहले 2-3 दुकान से रत्न का प्रति कैरट दाम पता कर लें। 
  • रत्न, महंगे पत्थर खरीदते समय रत्न की क्वालिटी का सर्टिफिकेट भी मांगे।
  • दुकानदार से रीसेल या बायबैक वैल्यू भी पता कर लें, ये जानकारी रत्न दुबारा बेचते समय काम आती है। 
  • एकदम पारदर्शी रत्न या तो नकली होते हैं या बहुत ही महंगे। सामान्यतया रत्नों में बुलबुले या जाली सी होना स्वाभाविक है। रत्न (Gemstones) प्रकृति बनाती है, कोई प्रयोगशाला नहीं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा तो व्हाट्सप्प से शेयर, फॉरवर्ड जरुर करें, जिससे अन्य लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें। 

ये भी पढ़ें :

चूड़ी, बिछिया, पायल पहनने के फायदे जानिए

हिन्दू शादी के सात फेरे सात वचन का अर्थ

बड़ों के पैर छूने के पीछे विज्ञान छुपा है

हफ्ते में कितनी बार बाल धोना चाहिए

ये लेख दोस्तों को Share करे

शब्दबीज संपादक पिछले 5 वर्षों से हिन्दी में विभिन्न विषयों पर अच्छे लेखों का प्रकाशन कर रही है। हमारा उद्देश्य है कि सही जानकारी, अनुसंधान और गुणवत्ता पूर्ण लेख से हमारे पाठकों का ज्ञानवर्धन हो।