X

लाइफ हो या गाड़ी, ब्रेक का काम रोकना नहीं है

ब्रेक का असली काम :

चाहे कार हो या बाइक, हर गाड़ी में ब्रेक जरुर लगा होता है. अगर आपसे पूछा जाये गाड़ी में ब्रेक का क्या उपयोग है, तो आप क्या जवाब देंगे ? ज्यादातर लोग उत्तर देंगे –

– गाड़ी की स्पीड धीमी करने के लिए,

– गाड़ी रोकने के लिए,

– गाड़ी को टक्कर से बचाने के लिए,

लेकिन इस प्रश्न का सबसे सही उत्तर यह है – ब्रेक की वजह से हमें गाड़ी तेज चलाने में मदद मिलती है.

आप सोचेंगे ये क्या बात हुई, कुछ भी. ज्यादातर लोगों की आदत होती है कि कोई भी नयी बात बड़ी अजीब लगती है. लेकिन गौर कीजिये, इस बात में गहरी सच्चाई छुपी है.

एक मिनट को सोचिये – अगर आपकी कार में ब्रेक नहीं है, तो कार कितनी स्पीड पर भगायेंगे ?. भगाना ? क्या बात करते हो, हम तो गाड़ी स्टार्ट भी न करें, न जाने कहाँ जा भिड़े.

असल में ब्रेक होने पर ही हम गाड़ी चलाते हैं, बेफिक्री से स्पीड बढ़ाते हैं, अपने गंतव्य तक पहुँचते हैं. ब्रेक के बिना हमारी हिम्मत और कॉन्फिडेंस ही न बने.

ठीक ऐसे ही हमें जीवन में भी कई ब्रेक मिलते हैं. हमारे माता-पिता, टीचर, जीवन साथी, दोस्त-यार, भाई बहन अक्सर हमारे लाइफ के लक्ष्य, दिशा और प्रगति को लेकर सवाल पूंछते हैं, टोकाटाकी करते रहते हैं. हम सोचते हैं कि अच्छा परेशान करने आ गये ये लोग, मुझे बढ़ने नहीं दे रहे, मेरी लाइफ में ब्रेक लगा रहे हैं. ये सब सोच कर व्यक्ति चिड़चिड़ा जाता है.

मगर ध्यान दीजिये – ये सब सवाल जोकि बार-बार लगने वाले ब्रेक जैसे लगते हैं, यही आपकी आजतक की सफलता का कारण बने हैं. बिना इसके आप कभी खुद से सवाल न करते, कभी खुद को आंकते नहीं, शायद आपका ओवर-कॉन्फिडेंस आपको ले डूबता या आप लापरवाह हो जाते. ये ब्रेक आपके दृढ़-निश्चय की परीक्षा लेता है कि वो कितना पक्का है.

इसीलिए लाइफ के ब्रेक का महत्व समझिये, घबराइए-चिड़चिड़ाइए नहीं. इस ब्रेक की पॉवर समझिये, इसके फायदे तो देखिये. अतः इसका समझदारी से उपयोग कीजिये.

– लेख अच्छा लगा तो शेयर और फॉरवर्ड अवश्य करें, जिससे अन्य लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें –

यह भी पढ़ें :

गुस्सा कैसे आता है Psychology story in hindi

जीवन में सुख-समृद्धि कैसे पायें : अर्जुन और श्री कृष्ण का एक प्रसंग

जीवन का रहस्य क्या है, जीवन क्या शिक्षा देता है ? |  एक किसान की मोटिवेशनल कहानी

शेर को सवा शेर मिल गया : मेरे दोस्त की साइकिल कैसे गुम हुई – Hindi story

दूसरों को सही-गलत साबित करने में जल्दबाजी न करें – 2 प्रेरणादायक कहानियाँ

मुसीबत से घिरे आदमी के मन में उठे ‘मैं ही क्यों’ का जवाब – प्रेरणास्पद कहानी | Arthur Ashe Why me story

This post was last modified on May 12, 2018, 8:30 am