कैकेयी ने राम के लिए 14 वर्ष का वनवास ही क्यों माँगा, 13 या 15 वर्ष क्यों नहीं | Kaikeyi story in hindi

14 वर्ष का वनवास  ही क्यों :

कैकेयी ने अब राजा दशरथ से राम के लिए 14 वर्ष का वनवास माँगा तो इसके पीछे एक प्रशासनिक कारण था. रामायण की कहानी त्रेतायुग के समय की है. उस समय यह नियम था कि अगर कोई राजा 14 वर्ष के लिए अपना सिंहासन छोड़ देता है तो वह राजा बनने का अधिकार खो देता है. यह नियम वाल्मीकि रामायण के अयोध्याखंड में लिखित है.

कैकेयी यह बात जानती थी अतः उसने ठीक 14 वर्ष का वनवास ही माँगा. यह अलग बात है कि बाद में भरत ने सिंहासन पर बैठने से मना कर दिया और वनवास समाप्त करने के बाद राम ही सिंहासन पर बैठे.

Kaikeyi ki kahani

इसी प्रकार अगर द्वापरयुग युग में यह नियम था कि अगर कोई राजा 13 साल के लिए अपना राजकाज छोड़ देता है तो उसका शासन अधिकार खत्म हो जाता है. इसी नियम की वजह से दुर्योधन ने पांडवों के लिए 12 वर्ष वनवास और 1 वर्ष अज्ञातवास की बात रखी.

अब आजकल की बात करते हैं यानिकि कलियुग की. क्या आप जानते हैं कि अगर आप अपनी प्रॉपर्टी के लिए 12 साल की अवधि तक अधिकार का कोई क्लेम नहीं करते हैं तो वह प्रॉपर्टी आपके अधिकार से चली जाती है. यह बाद संवैधानिक संशोधन  (Constitutional Amendment) में भी कही गयी है, जिसकी सत्यता की पुष्टि आप किसी भी क़ानूनी सलाहकार, वकील से कर सकते हैं.

यह भी पढ़िए :

शकुनि की कहानी, शकुनि के पासे का रहस्य

दूसरों को सही-गलत साबित करने में जल्दबाजी न करें – 2 प्रेरणादायक कहानियाँ

सिंधिया वंश और ग्वालियर के गुप्त खज़ाने की अनोखी पर सच्ची कहानी

अमेरिकी राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन के पुनर्जन्म की अदभुत कहानी : कर्म-चक्र का नियम

बृहदीस्वरर मंदिर, तमिलनाडु : प्राचीन भारत के इस अजूबे से जुड़े 9 आश्चर्यजनक तथ्य | Brihadeeswarar Temple facts