दो भिखारियों के चालाकी की कहानी – Chalak Bhikhari kahani in hindi

दो चालाक भिखारी : 2 Clever Beggars

न्यूयॉर्क की एक सड़क पर दो भिखारी भीख मांग रहे थे. एक भिखारी के हाथ में का चिह्न बनी हुई तख्ती थी और दूसरे के हाथ में ईसाई क्रॉस का निशान बनी हुई.

आने जाने वाले लोग ॐ का निशान लिए हुए भिखारी को देखकर मुंह बनाते लेकिन क्रॉस के चिह्न वाले भिखारी को 1$ दे देते. सुबह से यही क्रम चल रहा था.

तभी वहां से एक चर्च के फ़ादर गुजरे, उनका ध्यान दोनों भिखारियों की तरफ गया. उन्हें का निशान लिए हुए भिखारी पर दया आ गयी. फादर उसके पास पहुँच के बोले – भाई ! तुम एक ऐसे देश में हो जहाँ लगभग सभी लोग क्रिश्चियनिटी को मानते हैं. तुम एक हिन्दू को पैसा कौन देगा. बल्कि तुमको जलाने और निराश करने के लिए लोग उस ईसाई भिखारी को पैसा दिए जा रहे हैं.

फ़ादर के जाने के बाद ॐ का निशान लिये भिखारी ने क्रॉस वाले भिखारी से कहा –ओये जिग्नेश भाई !

दूसरा भिखारी बोला – हाँ मनसुख भाई !

क्या अब ये चर्च का फादर हमें अपना बिज़नस करना सिखाएगा !!! 😀

इस छोटी सी कहानी का मूल ये था कि दोनों भिखारी किस तरह लोगों के मनोभावों और छोटी सोच का फायदा उठा रहे थे. है न दिमाग लगाने वाली बात !

– लेख अच्छा लगा तो शेयर और फॉरवर्ड अवश्य करें, जिससे अन्य लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें –

यह भी पढ़ें :

शेर को सवा शेर मिल गया : मेरे दोस्त की साइकिल कैसे गुम हुई – Hindi story

गुरु शुक्राचार्य की पुत्री देवयानी की रोचक कहानी | Shukracharya daughter Devyani story

क्रांतिकारी की कथा : हरिशंकर परसाई का बेहतरीन हास्य व्यंग

चूहा और मैं : हरिशंकर परसाई जी का हास्य व्यंग | Chooha aur Mai

दूसरों को सही-गलत साबित करने में जल्दबाजी न करें – 2 प्रेरणादायक कहानियाँ