स्तन कैंसर होने के 7 कारणों से बचें | about Breast Cancer in hindi

ब्रेस्ट कैंसर होने के कारण – Breast Cancer kaise hota hai :

हम आपको उन बातों के बारे में बताने जा रहे हैं जो स्तन कैंसर (Breast cancer) का कारण बन सकती हैं. आम तौर पर कुछ खास तरह की Lifestyle, आदतें और जीन की गड़बड़ियों के कारण Cancer होने की संभावना होती है लेकिन इनके अलावा भी ऐसे बहुत सी चीजें हैं जो Breast Cancer होने के रिस्क को बढ़ाकर आपके जीवन को खतरे में डाल सकते हैं.

ब्रेस्ट कैंसर क्यों होता है – Breast cancer in hindi language :

कुछ लोगों को कैंसर होने का एक कारण उनके DNA में मौजूद जीन्स में बदलाव आना भी है. इसमें कुछ बदलाव ऐसे होते हैं जो उनकी पीढ़ी-दर-पीढ़ी ट्रांसफर होते जाते हैं और मौका पाकर किसी में इस रोग को उभार देते हैं.

यह जेनेटिक म्यूटेशन के कारण होनेवाला स्तन कैंसर है. इस तरह का स्तन कैंसर माहौल में पाए जानेवाले तरह-तरह के फैक्टर्स से प्रकट हो सकता है.

कुछ विशेष पदार्थ, कंडीशन और कुछ चीजों का एक्सपोज़र (exposures) से कार्सीनोजन (carcinogen) मतलब कैंसर पैदा हो सकता है. कुछ कार्सीनोजन हमारे DNA पर सीधे-सीधे असर नहीं डालते. वे कुछ अन्य कारणों से कैंसर को पैदा करते हैं जिससे कोशिकाएं असामान्य गति से बंटने और बढ़ने लगती हैं.

ये Reason for breast cancer in hindi इस प्रकार है :-

1. अपनी ब्रा में मोबाइल फोन रखना (Breast cancer phone bra) : 

ये बात तो सिद्ध हो चुकी है कि जिन औरतों का X-ray और CT स्कैन बहुत ज्यादा बार हुआ हो, उन्हें ब्रेस्ट कैंसर होने की आशंका बढ़ जाती है.

कुछ ऐसी औरतें जिन्हें बचपन में शरीर के किसी अन्य अंग में कैंसर हुआ और उसके इलाज के लिए छाती के आसपास रेडिएशन का ट्रीटमेंट लेना पड़ा हो उनको भी स्तन कैंसर (Breast cancer) होने की आशंका अधिक देखी गई है.

वैसे तो मोबाइल के ज्यादा प्रयोग से ब्रेस्ट कैंसर होने की बात अभी सिद्ध नहीं हुई है लेकिन मोबाइल से रेडिएशन तो निकलता ही है, इसलिए डॉक्टर भी सलाह देते हैं कि औरतों को अपने ब्लाउज या ब्रा में मोबाइल नहीं रखना चाहिए. 

2. शराब पीने से स्तन कैंसर की सम्भावना (Cancer due to Alcohol consumption) : 

शराब यानि एल्कोहोल का सेवन करनेवाली लड़कियों और औरतों को ब्रेस्ट कैंसर होने का कारण बना सकता है. इसलिए एल्कोहोल का सेवन समझदारी से करें.

breast cancer kaise hota hai

सावधानी बरतें और स्तन कैंसर होने के खतरे से बचें 

3. शरीर में कोलेस्ट्रोल का लेवल हाई होना (High Cholesterol) : 

एक नई स्टडी में ये पता चला है कि जिन औरतों में कोलेस्ट्रोइल का लेवल हाई होता है उनमें स्तन कैंसर होने की आशंका बढ़ जाती है. ऐसे मामलों में उन्हें स्तन कैंसर होने का रिस्क 64 % तक देखा गया है.

4. शरीर में आयोडीन की कमी होना (Iodine deficiency) :

आयोडीन में कई तरह के कैंसर का विरोध करने की खासियतें (AntiCancer Qualities) होती हैं. ये देखा गया है कि आयोडीन स्तन कैंसर और थायरोइड कैंसर (Thyroid Cancer) की कोशिकाओं को नष्ट कर देता है. इसलिए शरीर में आयोडीन की कमी न होने दें. 

पढ़ें > थायरोइड में गड़बड़ी की जांच थर्मोमीटर से कैसे करें

5. सिंथेटिक हार्मोन रिप्लेसमेंट लेना (Synthetic hormone replacement therapy) : 

स्तन कैंसर होने का संबंध एस्ट्रोजन (estrogen) हार्मोन से होता है. हार्मोन रिप्लेसमेंट थैरेपी लेनेवाली औरतों में ब्रेस्ट कैंसर अधिक देखा गया है.

कम उम्र की लड़कियों को गर्भ-निरोधक गोलियां (Birth control pills) लेने से भी स्तन कैंसर होने का खतरा बढ़ता है. 

अगर आपको रजोनिवृत्ति (Menopause) आने के लक्षण समय से पहले आ रहे हों या लक्षण ज्यादा हो रहे हों तो अपनी लेडी डॉक्टर से बायोआइडेंटिकल हार्मोन रिप्लेसमेंट थैरेपी (Bio identical Hormone Replacement Therapy) के बारे में बात करनी चाहिए.

इस थैरेपी में उन हार्मोन का उपयोग किया जाता है जिनकी आणविक संरचना शरीर के द्वारा बनाए जानेवाले हार्मोन के जैसी होती है इसलिए वे शरीर के साथ तालमेल बिठा लेते हैं.

6. गलत तरह के एंटीपर्सपिरेंट का प्रयोग (Wrong Antiperspirant) : 

एंटीपर्सपिरेंट बॉडी स्प्रे बाजुओं के भीतरी सिरे में पसीना बनानेवाले पोर्स को ढ़क देते या बंद कर देते हैं. इनमें धातु के बहुत बारीक कण होते हैं जो स्प्रे या रोल किए जाने पर स्किन के भीतर चले जाते हैं.

एक रिसर्च में यह पता चला है  हमारा शरीर इन स्प्रे में मौजूद एल्यूमीनियम को एब्सॉर्ब नहीं करता है बल्कि वे हमारे ब्रेस्ट टिशू में जमा हो जाता है. इसलिए एंटीपर्सपिरेंट न प्रयोग करें. 

पढ़ें > डिओडोरेंट लगाने के 5 नुकसान जानिए

7. BPA, फ्थैलैट्स (Phthalates) और अन्य ज़ेनोएस्ट्रोजन (Xenoestrogen) : 

एस्ट्रोजन के ही जैसे इन केमिकल के संपर्क में आने से भी स्तन कैंसर होने का खतरा बढ़ सकता है.

बताये गए इन सभी कारणों से बचाव का प्रयास कठिन नहीं है. बस थोड़ी सी सजगता और सावधानी आपको ब्रेस्ट कैंसर (Stan Cancer) से बचाने में कारगर सिद्ध होगी. 

स्तन कैंसर की जानकारी को Whatsapp, facebook पर शेयर करें, जिससे अन्य लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें.

यह भी पढ़ें :

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.