विजय शेखर शर्मा की जीवनी और Paytm की शुरुआत कैसे हुई

By | 26/11/2016

विजय शेखर शर्मा की पढाई और बचपन :

अलीगढ के रहने वाले विजय बचपन से ही पढने में तेज थे. मात्र 15 साल की उम्र में उन्होंने दिल्ली स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग में पढाई शुरू कर दी. यूपी बोर्ड हिन्दी माध्यम से पढ़े विजय को अंग्रेजी से पढाई में बड़ी दिक्कत आई. खाली समय में अंग्रेजी के अखबार, मैगजीन, किताबें पढ़कर विजय ने अपनी अंग्रेजी सुधारी.

अंग्रेजी तो कुछ ठीक हुई पर बी.टेक में ख़राब आ रहे ग्रेड की वजह से विजय का आत्मविश्वास कमजोर पड़ने लगा. विजय का मन क्लास करने में नहीं लगता था और उन्होंने कॉलेज जाना भी कम कर दिया. विजय हॉटमेल के सबीर भाटिया और याहू की काफी सफलता से प्रभावित थे और कुछ ऐसा ही करने का सपना देखते थे.

ये भी पढ़ें   Pass Pass Pulse कैंडी ने 8 महीने में 100 करोड़ का कारोबार किया, जानिए कैसे
Vijay Shekhar sharma ki patni aur bachche

फोटो स्रोत : विजय शेखर शर्मा की पत्नी मृदुला शर्मा और पुत्र

विजय शेखर शर्मा का बिज़नस सफ़र :

विजय ने इस खाली समय का उपयोग सॉफ्टवेयर कोडिंग सीखने में लगा दिया. विजय का बिज़नस सफ़र कॉलेज के दिनों में ही शुरू हुआ जब उन्होंने मित्रों के साथ मिलकर एक कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम indiasite.net बनाया जिसमे इन्वेस्टर्स ने पैसा लगाया था.

दो साल बाद इसको बेचने से मिले 1 मिलियन डॉलर से विजय ने One97 Communications Ltd. नाम की मोबाइल वैल्यू एडेड सर्विस देने वाली कंपनी खोली. One97 Communications Ltd. मोबाइल के लिए तरह तरह के कंटेंट जैसे एग्जाम रिजल्ट्स, रिंगटोन्स, समाचार, क्रिकेट स्कोर, जोक्स प्रदान करती है.

ये भी पढ़ें   भारत की Youtube स्टार ‘निशा मधूलिका’ जी की सफलता की कहानी

अमेरिका की 9/11 त्रासदी का असर मार्केट पर इस कदर पड़ा कि रातोंरात कितने ही बिज़नस तबाह हुए और One97 Communications Ltd. भी इसका शिकार हुआ. Paytm की ग्राहक Hutch और Airtel जैसी बड़ी कम्पनियां समय पर भुगतान नहीं कर पा रही थीं. अपने स्टाफ, कर्मचारियों को सैलरी विजय ने दोस्तों, रिश्तेदारों से 24% की सालाना ब्याज दर पर पैसा लोन लेकर दिया.

विजय के पैसे खत्म हो चुके थे और उन्हें अपने निजी जीवन में भी कई सुविधाओं का त्याग करना पड़ा. विजय कार छोड़कर बस-ऑटो से सफर करने लगे पर सपना देखना नहीं छोड़ा क्योंकि जीतने का राज़ हिम्मत न हारना ही है. पैसे की तंगी बढ़ी तो विजय बतौर कंसलटेंट एक जगह नौकरी करने लगे.

ये भी पढ़ें   जानिए नोटबंदी से कैसे चमक उठा सितारा Paytm का

Paytm की नींव कैसे पड़ी ?

विजय ने गौर किया कि स्मार्टफोन का उपयोग बड़ी तेजी से बढ़ा है तो क्यों न इससे जुड़ा कुछ ऐसा किया जाये, जिससे लोगों की समस्याओ का निदान हो. विजय ने One97 Communications Ltd. के ही अंतर्गत Paytm.com नाम की वेबसाइट खोली और ऑनलाइन मोबाइल रिचार्ज सुविधा शुरू की. बाज़ार में कई अन्य वेबसाइट भी थीं ऑनलाइन जोकि मोबाइल रिचार्ज की सुविधा देती थी पर Paytm का सिस्टम उनकी तुलना में सीधा-साधा और आसान था.

Paytm CEO Vijay Shekhar Sharma biography

फोटो स्रोत

Paytm का बिज़नस बढ़ा तो विजय ने Paytm.com में ऑनलाइन वॉलेट, मोबाइल रिचार्ज, बिल पेमेंट, मनी ट्रान्सफर और शौपिंग फीचर भी जोड़ दिए. विजय को उनके प्रयासों और संघर्ष का फल मिला और आज Paytm भारत का सबसे बड़ा मोबाइल पेमेंट और ई-कॉमर्स प्लेटफार्म बन चुका है.

ज्यादातर सफल व्यक्तियों के जीवन में घोर असफलताएं आती है जोकि उनके धैर्य और सपनो में विश्वास की कड़ी परीक्षा लेती हैं. पर यही मुश्किलें उनमे ऐसे गुणों का जन्म और क्षमताओं का विकास करती हैं कि वो अनुकूल समय आते ही रातोंरात शीर्ष पर जा पहुँचते है और हम कहते हैं ‘ क्या किस्मत पायी है बंदे ने ’.

विजय शर्मा की कहानी पहली बार मैंने श्रद्धा शर्मा की वेबसाइट योरस्टोरी.कॉम पर पढ़ी. योरस्टोरी.कॉम पर मैं बराबर Paytm की सफलताओं की खबर पढ़ता रहा हूँ. देखते ही देखते 2 साल में इतना आगे बढ़ चुका है Paytm कि आश्चर्य नहीं होगा अगर विजय शेखर शर्मा का नाम भी जल्द ही टाटा, अम्बानी जैसो के साथ लिया जाये.

साथ ही जानिए Paytm को फंडिंग कहाँ से मिली और Paytm ने किन किन कंपनियों को ख़रीदा हैं इस लेख में

पढ़िए Paytm को कितना जबर्दस्त फायदा हुआ नोटबंदी से इस लेख में

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *