वह शक्ति हमें दो दयानिधे, कर्तव्य मार्ग पर डट जावें प्रार्थना के लेखक कौन हैं ?

वह शक्ति हमें दो दयानिधे lyrics :

लगभग सभी उत्तर-भारतीय सरकारी स्कूलों में सुबह सुर-बेसुर प्रार्थना गाते हुए बच्चों में जो एक समानता पायी जाती है, वो है यह प्रार्थना वह शक्ति हमें दो दयानिधे, कर्तव्य मार्ग पर डट जावें. मुझे आज भी यह प्रार्थना याद है, संभवतः आपको भी हो. इसके अतिरिक्त हमारे School Course में जो सरकारी किताबें पढाई जाती थीं, उनके Back Cover पर भी यह कविता प्रिंट होती थी.

आश्चर्य की बात यह कि इतनी ज्यादा बोली जाने वाली यह प्रार्थना/कविता के लेखक के बारे में लोगों को पता नहीं है. इन्टरनेट पर बहुत खोजने के बाद कविताकोश.ऑर्ग पर इस कविता के लेखक के बारे में जो थोडा बहुत जानकारी प्राप्त हुई, वह इस प्रकार है :

– इस कविता के लेखक मुरारीलाल शर्मा ‘बालबंधु’ थे. मुरारीलाल शर्मा का जन्म सन 1893, ग्राम – साइमल की टिकड़ी, जिला-मेरठ, उत्तर-प्रदेश में हुआ और निधन 4 नवम्बर 1961 को हुआ.

– लेखक मुरारीलाल शर्मा की प्रमुख कृतियाँ हैं : साहसी बच्चे, होनहार बिरवे, गोदी भरे लाल, ज्ञान गंगा, कोकिला. लेखक मुरारीलाल शर्मा ‘बालबंधु’ का कोई चित्र/फोटोग्राफ कविताकोश.ऑर्ग या अन्यत्र उपलब्ध नहीं है.

   वह शक्ति हमें दो दयानिधे, कर्तव्य मार्ग पर डट जावें

वह शक्ति हमें दो दयानिधे, कर्त्तव्य मार्ग पर डट जावें!
पर-सेवा पर-उपकार में हम, जग-जीवन सफल बना जावें!

हम दीन-दुखी निबलों-विकलों के सेवक बन संताप हरें!
जो हैं अटके, भूले-भटके, उनको तारें खुद तर जावें!

छल, दंभ-द्वेष, पाखंड-झूठ, अन्याय से निशिदिन दूर रहें!
जीवन हो शुद्ध सरल अपना, शुचि प्रेम-सुधा रस बरसावें!

निज आन-बान, मर्यादा का प्रभु ध्यान रहे अभिमान रहे!
जिस देश-जाति में जन्म लिया, बलिदान उसी पर हो जावें!

आपको यह लेख अच्छा लगा तो Share और Forward जरुर करें, जिससे अन्य लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें

यह भी पढ़ें :

कैलाश गौतम की 5 सुप्रसिद्ध कविताएँ | Kailash Gautam Poems

भारतीय स्कूलों में उठक बैठक सजा देने का प्राचीन वैज्ञानिक कारण, विदेशी भी अपना रहे हैं.

जीवन में सुख-समृद्धि कैसे पायें : अर्जुन और श्री कृष्ण का एक प्रसंग

संस्कृत साहित्य के पहले श्लोक की उत्पत्ति वाल्मीकि ऋषि के श्राप से हुई थी

गुरु शुक्राचार्य की पुत्री देवयानी की रोचक कहानी | Shukracharya daughter Devyani story

दूसरों को सही-गलत साबित करने में जल्दबाजी न करें – 2 प्रेरणादायक कहानियाँ

One Response