स्टैंडिंग डेस्क पर काम करने के फायदे | Standing desk health benefits

लगातार बैठे रहने से पीठ का दर्द, पाचन तन्त्र की समस्या, रीढ़ की हड्डी के विभिन्न रोग, गलत पोस्चर से उभरे दर्द जैसी कई स्वास्थ्य समस्याएँ हो जाती है. इन्ही समस्याओं को देखते हुए आजकल कई ऑफिस, कार्यस्थलों पर Standing Desk के प्रयोग का कल्चर बढ़ रहा है.

इतिहास की कई बड़ी हस्तियाँ भी स्टैंडिंग डेस्क की फैन थीं, जैसे कि लेओनार्दो डी विन्ची, विंस्टन चर्चिल, लेखक अर्नेस्ट हेमिंग्वे, बेंजामिन फ्रैंकलिन आदि. ऑफिस में काम करने वाले लोगों का ज्यादातर समय अपनी Desk और Chair पर ही बीतता है. हमारा शरीर दिन भर बैठे रहने के लिए नहीं बना है. चलना-फिरना, सक्रिय रहना हमारे अच्छे स्वास्थय के आवश्यक है. अच्छी Ergonomic chair खरीदकर आप लगातार बैठे रहने के नुकसानों को कम कर सकते हैं, पूर्णतया खत्म नही कर सकते.

हाल ही में अमिताभ बच्चन जी ने अपने Instagram अकाउंट पर एक फोटो शेयर की है जिसमें वो Standing Desk पर खड़े होकर काम कर रहे हैं. अमिताभ जी ने फोटो के नीचे लिखा है – जब बैठे-बैठे काम करते हुए थक जाएँ तो खड़े होकर काम करें…इसके लिए मैंने एक स्पेशल टेबल बनवाई है…अपने पिता से मैंने यह सीखा है..जोकि ऐसे काम करते थे..अपने माता-पिता से सीखी हुई बातें कभी नहीं भूलना.

amitabh bachchan standing table

स्टैंडिंग डेस्क पर कार्य करने के कई फायदे हैं :-

– खड़े होकर कार्य करने से रक्तसंचार बेहतर तरीके से कार्य करता है. बैठने की अपेक्षा स्टैंडिंग डेस्क पर कार्य करने से ज्यादा कैलोरीज बर्न होती है. अतः मोटापे की समस्या को कम करता है यह तरीका.

– स्टैंडिंग डेस्क पर कार्य करने से शरीर की मांसपेशियां सुगठित होती हैं, शरीर का पोस्चर सुधरता है. इससे पीठ दर्द, बैड पोस्चर के दर्द की सम्भावनायें घटती हैं.

– ह्रदय समस्या, डायबिटीज, मोटापा, ब्लड शुगर बढ़ना जैसी बिमारियों को दूर रखने के लिए स्टैंडिंग डेस्क पर काम करना एक बढ़िया उपाय है.

standing desk health benefits in hindi

– स्टैंडिंग डेस्क पर कम करने से एनर्जी लेवल हाई रहता है, आलस नहीं आता. मूड सही रहता है और आप खुद को ज्यादा सक्रिय महसूस करेंगे. जिससे निश्चित रूप से आपकी प्रोडक्टिविटी बेहतर होगी.

– स्टैंडिंग पोजीशन में काम करने से मेटाबोलिज्म (उपापचय) प्रक्रिया तेज होती है, जिससे पाचन प्रणाली सही से काम करती है.

जैसा कि हम जानते हैं कि दिन भर स्टैंडिंग पोजीशन में काम करना भी सम्भव नहीं है. एक स्टडी में यह पाया गया है कि 8 घंटे की एक शिफ्ट में 2 घंटे खड़े होकर कार्य करना, फिर 4 घंटे बैठकर कार्य करना सही तरीका है. बाजार में कई ऐसी स्टैंडिंग डेस्क भी आती हैं, जिसमे एक्सटेंशन की सुविधा होती है. जब चाहें ऊंचाई कम ज्यादा करके सिटिंग या स्टैंडिंग डेस्क बना लें. कई नामी टॉप आईटी, सॉफ्टवेयर कम्पनीज में स्टैंडिंग डेस्क का तेजी से बढ़ता प्रचलन, इसके उपर्युक्त फायदों का प्रमाण है.

ये भी पढ़िए :

फोटो खींचने के अलावा ये 3 कमाल भी कर सकता है आपका मोबाइल कैमरा  

ज्यादा सोने के नुकसान | Oversleeping is bad for health

साल्ट लैंप क्या होता है, साल्ट लैंप जलाने के फायदे

फोटो खींचने के अलावा ये 3 कमाल भी कर सकता है आपका मोबाइल कैमरा  

Cool look : मिलिट्री स्टाइल में शर्ट कैसे पहनें

देसी कुत्ते : इंडिया में जीरो, लेकिन विदेशों में हीरो बन रहे हैं देसी नस्ल के कुत्ते

Comments