Notebandi paytm profits

कैसे नोटबंदी के फायदे से चमका सितारा Paytm का – Paytm Demonetization effect

कैसे Paytm को नोटबंदी से फायदा हुआ :

8 नवम्बर को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नोटबंदी का निर्णय काले धन वालों और जनता के लिए तो कष्टप्रद रहा परन्तु विजय शेखर शर्मा की तो चांदी हो गयी. विजय इस अवसर के लिए तैयार थे और इसका बखूबी फायदा Paytm ने उठाया. 500 और 1000 के नोट बंद हो जाने और एटीएम के बाहर लम्बी लाइन लगाने से बचने के लिए लोग बड़ी संख्या में Paytm का उपयोग करने लगे. Paytm.com के ऑनलाइन वॉलेट, मोबाइल रिचार्ज, बिल पेमेंट, मनी ट्रान्सफर और शौपिंग फीचर से लाखों नए लोग जुड़े  और पुराने ग्राहकों ने भी जम कर उपयोग किया.

Paytm profits notebandi se fayda

नोटबंदी के 10 दिनों में पेटीएम ने 4.5 करोड़ लोगों को अपनी सुविधाएँ दी और 50 लाख नए कस्टमर्स जोड़े. इस समय Paytm के मोबाइल वॉलेट का उपयोग करने वालों की संख्या 15 करोड़ है. देश भर के 10 लाख से ज्यादा दुकानदार, ऑटो-टैक्सी, पेट्रोल पंप, शॉपिंग माल, रेस्टोरेंट, मल्टीप्लेक्स और पार्किंग लॉट पेटीएम से भुगतान स्वीकार करते हैं.

नोटबंदी से Paytm को कितना Profit हुआ ?

लोगों की भीड़ Paytm.com पर इस कदर उमड़ी कि हर रोज 70 लाख लेन-देन के सौदे होने लगे, जिससे Paytm का प्रतिदिन बिज़नस 120 करोड़ रूपए का होने लगा.

आजकल पेटीएम पर भारत में प्रतिदिन होने वाले क्रेडिट और डेबिट कार्ड के लेनदेन से ज्यादा ट्रांजैकशन हो रहा है.

सन 2010 में स्थापित Paytm.com की वैल्यूएशन साल 2015 तक 3 बिलियन थी जोकि उसकी तेजी से बढती हुई सफलता की वजह से मार्च 2017 तक 5 बिलियन होने वाली थी.

नोटबंदी से आई तेजी से Paytm को इतना फायदा हुआ कि 5 बिलियन के बिज़नस का लक्ष्य समय से 4 महीने पहले ही पूरा हो गया. विजय शेखर शर्मा का कहना है कि आजकल उन्हें नींद की जरुरत नहीं पड़ती, वो जागती आँखों से सपना देख रहे हैं. विजय शेखर शर्मा कौन हैं ? उनके Paytm.com तक पहुँचने का सफ़र और संघर्ष की कहानी पढ़िए.  साथ ही जानिए पेटीएम को फंडिंग कहाँ से मिली और Paytm ने किन किन कंपनियों को ख़रीदा हैं.