पीने के पानी में फ्लोराइड होने से शरीर को होने वाले नुकसान

By | 18/10/2016

कई देशों जैसे सं. रा. अमेरिका आदि में पीने के पानी के फ्लोरिडेशन (Fluoridation) की नीति इतने लंबे समय से प्रभावी है कि अधिकांश लोग इसपर ध्यान ही नहीं देते.

लेकिन अब बहुत से वैज्ञानिक और जनस्वास्थ्य अधिकारी यह प्रश्न उठा रहे हैं कि राष्ट्रव्यापी फ्लोरिडेशन का क्या औचित्य है और पानी में फ्लोराइड की उपस्थिति के मानव शरीर पर कौन से प्रतिकूल दूरगामी प्रभाव हो सकते हैं. नीचे दिए गए बिंदुओं में हम आपको बताने जा रहा हैं कि पानी में फ्लोराइड की मौजूदगी के विषय में आपको कौन सी बातों की जानकारी होनी चाहिएः-

फ्लोराइड क्या है ? यह हानिकारक क्यों है ? 

फ्लोराइड प्रदूषण का प्रतिउत्पाद है (Fluoride is a By-Product of Pollution) – फ्लोराइड के प्रोमोटर्स जनता को यह बात नहीं जानने देना चाहते हैं कि पब्लिक वाटर सिस्टम में मिलाए जानेवालाफ्लोराइड प्राकृतिक रूप से प्राप्त नहीं किया गया है. पानी में अलग से मिलाया गया फ्लोराइड अक्सर ही हाइड्रोफ्लुओरोसीलिसिक एसिड (hydrofluorosilicic acid) का रूप ले लेता है.

यह एसिड प्रायः फॉस्फेट की खदानों और निर्माण प्रक्रिया के प्रतिउत्पाद (by-product) के रूप में मिलता है जहां धरती से निकाली गई चट्टानों को सल्फ्यूरिक एसिड (sulfuric acid) से भरी नांदों में शुद्धिकरण के लिए रखा जाता है ताकि उसके अवांछित तत्व अलग हो जाएं.

ये भी पढ़ें   नमक और अजीनोमोटो के अधिक उपयोग से होने वाले नुकसान

फ्लोराइड कई देशों में प्रतिबंधित है (Fluoridation has been Banned in Many Countries) – हांलांकि CDC (Center for Disease control) फ्लोराइड के उपयोग को बीसवीं शताब्दी की सबसे प्रमुख दस जन स्वास्थ्यकारी उपलब्धियों के रूप में प्रचारित करती है लेकिन दुनिया के अनेक देश इस नीति से सहमत नहीं हैं. अनेक महत्वपूर्ण देशों जैसे फ्रांस, जर्मनी, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, डेनमार्क, और ग्रीस में पानी का फ्लोरिडेशन प्रतिबंधित कर दिया गया है. कुछ अन्य देशों जैसे स्विट्ज़रलैंड, यू.के., नॉर्वे और स्पेन में घरों में सप्लाई होनेवाले लगभग 90% पानी में अब फ्लोराइड की उपस्तिथि शून्य होती है.

फ्लोराइड एक संभावित न्यूरोटॉक्सिन है (Fluoride is a Suspected Neurotoxin) – द लांसेट (The lancet) की गिनती विश्व के सबसे पुराने व प्रतिष्ठित मेडिकल जर्नल्स में होती है. इसने बहुत मुखर होकर कहा है किफ्लोराइड एक न्यूरोटॉक्सिन है अर्थात यह हमारे शारीरिक व मानसिक विकास के लिए खतरनाक है.

इसने अपने लेख में यह बताया है कि पूरे विश्व में बच्चों को प्रभावित करनेवाले न्यूरोडेवलेपमेंटल मामले जैसे कि ऑटिज़्म (autism), अटेंशन डेफ़िसिट डिसॉर्डर (attention deficit disorder) और अन्य विकृतियां फ्लोराइड तथा इसी प्रकार के अन्य औद्योगिक प्रतिउत्पादों के उपयोग के कारण हो रही हैं और इनके बीच का संबंध अब स्पष्ट हो गया है.

ये भी पढ़ें   सुन्दर और स्वस्थ बनना है तो अलसी के बीज खाइए

फ्लोराइड अन्य उपयोगी यौगिकों से प्रतिक्रिया करता है (Fluoride Interferes with other Biologically Necessary Compounds) – नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट (National Cancer Institute) के भूतपूर्व प्रधान कैमिस्ट डॉ. डीन बर्क ने यह पाया कि शरीर में कोशिकाओं की बढ़त, फैटी एसिड्स (fatty acid) का निर्माण, और एमीनो एसिड्स के मेटाबोलिज़्म के लिए आवश्यक यौगिक बायोटिन (biotin) फ्लोराइड की उपस्थिति में सही तरीके से अपना काम नहीं कर पाता. डॉ. बर्क फ्लोरिडेशन की नीति के प्रबल विरोधी थे और उन्होंने अपने एक पेपर में साफ़-साफ़ लिखा कि “किसी भी अन्य रसायन की तुलना में फ्लोराइड के प्रयोग से सबसे अधिक मौतें कैंसर से हो रही हैं”.

Fluoride in toothpaste and mouthwash

आपके द्वारा उपयोग किए जानेवाले अनेक पदार्थों मेंफ्लोराइड है (You Are Already Exposed to Fluoride in Other Products)फ्लोराइड के उपयोग को प्रोमोट करनेवाले लोग इस प्रश्न का उत्तर नहीं देते कि जब हमारे टूथपेस्ट, माउथवॉश और अन्य हेल्थ प्रोटक्ट्स में फ्लोराइड होने के साथ ही पानी में प्राकृतिक रूप में भी सूक्ष्म मात्रा में फ्लोराइड होता है तो उसे पीने के पानी में अलग से मिलाए जाने की क्या ज़रूरत है? आज दुनिया भर में करोड़ों लोग अपने बाथरूम में ऐसे अनेक प्रोडक्ट्स इस्तेमाल करते हैं जिनमें फ्लोराइड मिला होता है.

भारत में हमें पानी के फ्लोरिडेशन को लेकर चिंतित होने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि यहां पानी में फ्लोराइड नहीं मिलाया जाता. परन्तु पानी में प्राकृतिक फ्लोराइड की बहुत अधिक मात्रा होने के कारण भारत के 20 राज्यों में हजारों लोग हड्डी और दांतों के विकारों से ग्रस्त हैं.

भारत में फ्लोराइड की अधिकतम मान्य मात्रा 1.2 mg/L है और सरकार ने ऐसे क्षेत्रों में पानी से फ्लोराइड निकालने के लिए रिवर्स ऑस्मॉसिस (reverse-osmosis filter) प्लांट लगाए हैं. वर्ष 2014 तक 19 राज्यों की 14,132 बस्तियों में पानी में फ्लोराइड का स्तर सामान्य से अधिक देखा गया.

ये भी पढ़ें   पेशाब में झाग आना कितना गंभीर हो सकता है ?

सरकार ने वर्ष 2008-09 में National Programme for Prevention and Control of Fluorosis चलाया जिसे 2013-14 में National Rural Health Mission के आधीन कर दिया गया. इसने अभी तक 111 जिलों में फ्लोराइड के कारण होनेवाले फ्लोरोसिस (fluorosis) के निदान, उपचार और रोकथाम के लिए कदम उठाए हैं.

Source and Wikipedia

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *