डॉ श्रीकांत जिचकर : भारत के सर्वाधिक शिक्षित व्यक्ति के बारे में जानिए

डॉ श्रीकांत जिचकर के नाम भारत के सबसे अधिक शिक्षित व्यक्ति होने का रिकॉर्ड दर्ज है. 49 वर्षीय डॉ श्रीकांत का निधन 2004 में नागपुर में एक कार दुर्घटना में हो गया. डॉ श्रीकांत जिचकर आज हमारे बीच में नहीं हैं, लेकिन उनके बनाये हुए रिकॉर्ड को शायद ही कोई कभी चुनौती दे पाए.

– डॉ श्रीकांत जिचकर ने 40 से अधिक यूनिवर्सिटी से 20 डिग्रीयाँ अर्जित की. श्रीकांत जिचकर ने ज्यादातर में प्रथम श्रेणी हासिल की और 28 गोल्ड मैडल जीते. सन 1972 से 1990 के बीच में उन्होंने हर साल गर्मी में और ठंडी में कुल मिलाकर 42 यूनिवर्सिटी परीक्षाएँ दीं.

Dr Shrikant Jichkar degrees

– श्रीकांत जिचकर ने अपने करियर की शुरुआत एक डॉक्टर के रूप में की, इसके लिए उन्होंने MBBS, MD की डिग्री हासिल की.

– इसके बाद उन्होंने कानून की पढाई के लिए LL.B., पोस्ट ग्रेजुएशन इन इंटरनेशनल लॉ LL.M. की डिग्री ली.

– मास्टर्स इन बिज़नस एडमिनिस्ट्रेशन DBM, MBA की डिग्री ली.

– पत्रकारिता के क्षेत्र में B.Journ की डिग्री ली.

– श्रीकांत जिचकर ने इन 10 विषयों में मास्टर्स की डिग्री हासिल की. M.A. (लोक प्रशासन) ; M.A. (Sociology) ; M.A. (अर्थशास्त्र); M.A. (संस्कृत); M.A. (इतिहास ); M.A.(इंग्लिश साहित्य); M.A. (दर्शनशास्त्र); M.A. (राजनीति शास्त्र ) ; M.A. (प्राचीन भारतीय इतिहास, संस्कृति और पुरातत्व ); M.A (मनोविज्ञान ).

– संस्कृत में D.Litt (डॉक्टर ऑफ़ लेटर्स) की डिग्री ली.

– डॉ श्रीकांत जिचकर ने 1978 में सिविल सर्विसेज परीक्षा दी, जिसमें उन्हें IPS (इंडियन पुलिस सर्विस) विभाग मिला. उन्होंने IPS ज्वाइन नहीं किया और पुनः 1980 में सिविल सर्विसेज परीक्षा दी. इस बार उन्हें IAS (इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेज) मिला. डॉ जिचकर इस नौकरी में भी ज्यादा दिन नहीं टिके और मात्र 4 महीने बाद ही उन्होंने इस पद से इस्तीफ़ा देकर चुनाव लड़ने का फैसला किया.

– सन 1980 में डॉ श्रीकांत जिचकर ने महज 25 की उम्र में MLA बनकर सबसे कम उम्र में MLA बनने का रिकॉर्ड बनाया. आगे चलकर डॉ जिचकर गवर्नमेंट मिनिस्टर भी बने. मिनिस्टर के रूप में एक समय डॉ जिचकर 14 से अधिक विभागों का काम देखते थे. इस प्रकार डॉ श्रीकांत का राजनीतिक सफर भी शानदार रहा.

Dr. shrikant jichkar most qualified person
source: डॉ श्रीकांत जिचकर : बाएं से तीसरे

– डॉ श्रीकांत को पढने का बहुत शौक था, उनके पास 52,000 से अधिक किताबों की पर्सनल लाइब्रेरी थी. डॉ श्रीकांत को गीता, उपनिषद, वेद-पुराण आदि ग्रन्थों का भी गहरा ज्ञान था.

– ऐसा नहीं हैं कि डॉ श्रीकांत जिचकर सिर्फ एक किताबी कीड़ा ही थे. बहुमुखी प्रतिभा के धनी डॉ. जिचकर एक पेंटर, प्रोफेशनल फोटोग्राफर, स्टेज एक्टर, शिक्षाविद भी थे.

हमें गर्व है कि इतने ज्ञानी और प्रतिभावान व्यक्ति होने के बावजूद भी डॉ श्रीकांत जिचकर ने भारत को ही अपनी कर्मभूमि बनाई और देशवासियों की सेवा करने का फैसला किया.

यह भी पढ़िए :

वेबसाइट में बग खोजकर हैकर आनंद प्रकाश कमाते हैं करोड़ों

देवदत्त पटनायक : जानें धार्मिक-पौराणिक पुस्तकों के बेस्टसेलर लेखक के बारे में

Unacademy : UPSC, SSC, Banking exams की तैयारी का यूट्यूब चैनल, वेबसाइट जरूर देखें

नागा कटारू : गूगल के पूर्व इंजीनियर जो अब खेती करते हैं और कमाते हैं करोड़ों

Pomodoro Technique : पढाई में मन लगाने और कार्य क्षमता बढ़ाने की तकनीक

Comments