बॉलीवुड के 5 लाजवाब चरित्र अभिनेता जोकि अपने रोल को यादगार बना देते हैं

Bollywood की ज्यादातर फिल्में एक मुख्य हीरो के ही इर्द-गिर्द चलती है. फिल्मों में कुछ ऐसे साइड रोल होते हैं जैसे कि हीरो का दोस्त, हीरोइन का पिता या माँ आदि. कई बार ऐसा होता है कि यह पात्र निभाने वाले कलाकार अपनी खास अदाकारी, अलग तरह के पात्र-चित्रण से फिल्म के मुख्य हीरो/हीरोइन के रोल पर भारी पड़ते हैं. ऐसे रोल को निभाने वाले कलाकार को ‘चरित्र अभिनेता’ (Character Actor) कहा जाता है. इस पोस्ट में हम आपको बॉलीवुड के 5 बेहतरीन चरित्र अभिनेताओं के बारे में बतायेंगे.

संजय मिश्रा (Sanjay Mishra) :

भले ही आप अभिनेता संजय मिश्रा को उनके द्वारा किये गए कॉमेडी रोल्स से पहचानते हो पर उन्होंने इस संजीदगी से फिल्म ‘आँखों देखी’ में राजे बाउजी के रोल को निभाया कि उन्हें Filmfare Critics Award के बेस्ट एक्टर का अवार्ड मिला. अगर आपने संजय मिश्रा की फिल्म ‘आँखों देखी’ नहीं देखी तो क्या देखा.

पटना बिहार में जन्मे संजय मिश्रा ने महान अभिनेताओं की ही तरह नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा से ग्रेजुएशन किया है. एक ऐसा अभिनेता जिसने अपने करियर के शुरुआत में, चाणक्य सीरियल की शूटिंग के पहले सीन में 28 रीटेक लिए, आज बॉलीवुड के जाने पहचाने चेहरों में से एक है.

sanjay mishra संजय मिश्रा bollywood

संजय मिश्रा ने अपनी पहली फिल्म ओ डार्लिंग ये है इंडिया में एक हारमोनियम बजाने वाले का रोल किया था. ऑफिस ऑफिस सीरियल के पान चबाते हुए शुक्ला जी के रोल में संजय मिश्रा की पहचान बनी. दिल से फिल्म में टेररिस्ट और बंटी और बबली फिल्म में Q Q कुरैशी रोल के बाद संजय को फिल्मों के ऑफर मिलने लगे. संजय मिश्रा ने खासकर इन फिल्मों में अपनी बढ़िया अदाकारी का उदाहरण पेश किया.

अपना सपना मनी मनी के असली सरजू  महाराज बनारसवाले, धमाल फिल्म के बाबूभाई, फस गए रे ओबामा के भाईसाब, बिन बुलाये बाराती के हजारी, दम लगा के हइसा में आयुष्मान खुराना के पिता और दिलवाले के ऑस्कर भाई. आल द बेस्ट फिल्म में RGV के रोल का डायलाग ‘Dhondu Just Chill’ तो बहुत ही पसंद किया गया.

राजेश शर्मा (Rajesh Sharma) :

तनु वेड्स मनु रिटर्न्स फिल्म में हरयाणवी छोरी दत्तो के बड़े भाई ओमी का रोल हो, स्पेशल 26 में अक्षय के साथी जोगिन्दर का, नो वन किल्ड जेसिका फिल्म के इन्वेस्टिगेटिंग पुलिस ऑफिसर N.K. का रोल या लव शव ते चिकन खुराना के टीटू मामा हो, अपने हर एक रोल में राजेश शर्मा ने बेहतरीन अभिनय का प्रदर्शन करके यादगार बना दिया.

राजेश शर्मा Rajesh Sharma बॉलीवुड

दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा से अभिनय का प्रशिक्षण लेने वाले राजेश शर्मा को पहला ब्रेक सन 1996 में गुलज़ार की फिल्म ‘माचिस’ में मिला. कलकत्ता में पले बढे राजेश शर्मा ने कई बंगाली फिल्मों में भी काम किया है. Bollywood की जिन अन्य फिल्मों में राजेश शर्मा ने यादगार रोल निभाए हैं वो हैं खोसला का घोसला, बजरंगी भाईजान, इश्किया, चिल्लर पार्टी, बी.ए. पास, डर्टी पिक्चर, घनचक्कर, तेवर, डॉली की डोली आदि.

विजय राज (Vijay Raaz) :

कौवा बिरयानी, छोटी गंगा, गोबर बाबा यह तीन शब्द सुन कर आपके दिमाग में जो पहला चेहरा उभरेगा वही कलाकार हैं बॉलीवुड अभिनेता विजय राज. अभिषेक बच्चन और भूमिका चावला की फिल्म ‘रन’ का भले ही आपको कोई सीन न याद हो पर उस फिल्म के जबर्दस्त कॉमेडी सीन हम सबने बीसों बार YouTube पर देखी और Download की होगी. कॉमेडी के अलावा डेल्ही बेली के गैंगस्टर, डेढ़ इश्किया के जान मोहम्मद के रोल में विजय राज़ ने गंभीर अभिनय का प्रदर्शन भी किया है.

विजय राज Vijay Raaz bollywood

दिल्ली के रहने वाले विजय राज़ किरोड़ीमल कॉलेज से पढाई करते समय से ही थिएटर प्ले करने में सक्रिय थे. बॉलीवुड में विजय को रामगोपाल वर्मा की फिल्म जंगल में मिला. मीरा नायर की फिल्म मानसून वेडिंग में फूलवाले ‘दुबे जी’ के रोल में विजय को खासा पसंद किया गया और विजय को ढेरों फिल्मों के ऑफर मिलने लगे.

मुख्य अभिनेता के रोल में उन्हें रघु रोमियो फिल्म मिली, जिसमे विजय राज ने एक कन्फ्यूज्ड निम्नवर्गीय व्यक्ति का रोल किया है जोकि टीवी सीरियल को हकीकत समझता है. अगर आपने यह फिल्म न देखी होतो इस YouTube लिंकर जाकर यह लाजवाब फिल्म अवश्य देखे. विजय राज़ की मुख्य बॉलीवुड फिल्मे हैं दिल पे मत ले यार, कंपनी, युवा, धमाल, डेल्ही बेली, बिन बुलाये बाराती, क्या दिल्ली क्या लाहौर, डेढ़ इश्किया आदि.

सौरभ शुक्ला (Saurabh Shukla) :

दूरदर्शन के जासूसी धारावाहिक ‘तहकीकात’ के जासूस सैम के सेक्रटरी गोपी के रोल में पहली बार सौरभ शुक्ला दिखे. सौरभ शुक्ला के यादगार रोल हैं पीके के तपस्वी महाराज, जॉली एल एल बी के जस्टिस त्रिपाठी, बर्फी में सुधांशु दत्ता, ये साली जिंदगी का मेहता, करीब फिल्म में बिरजू के पिता का रोल, होम डिलीवरी के पाण्डेय जी आदि.

bollywood pk saurabh shukla सौरभ शुक्ला

गोरखपुर में जन्मे सौरभ शुक्ला, दिल्ली के खालसा कॉलेज से पढाई के दौरान नाटकों में अभिनय किया करते थे. उनके अभिनय से प्रभावित होकर डायरेक्टर शेखर कपूर ने उन्हें अपनी फिल्म बैंडिट क्वीन में रोल दिया. कम ही लोग जानते होंगे कि रामगोपाल वर्मा की फिल्म सत्या में ‘कल्लू मामा’ का रोल निभाने के अतिरिक्त उन्होंने सत्या की स्क्रिप्ट भी अनुराग कश्यप के साथ मिलकर लिखी थी.

ब्रिजेन्द्र काला (Brijendra Kala) :

एक ऐसा एक्टर जिसके रोल कई बार बस कुछेक मिनट के होते हैं पर वो यादगार होते हैं, वो हैं बॉलीवुड एक्टर ब्रिजेन्द्र काला. मथुरा उत्तर प्रदेश के रहने वाले ब्रिजेन्द्र काला को पहला रोल तिग्मांशु धुलिया की फिल्म ‘हासिल’ में एक अख़बार वाले के रूप में मिला. जब वी मेट के सुस्त और मौजी ड्राईवर के रोल में तो ब्रिजेन्द्र क्या खूब ही जमे और खूब शोहरत बटोरी.

Brijendra kala ब्रिजेन्द्र काला बॉलीवुड

ब्रिजेन्द्र काला द्वारा किये गए कुछ यादगार रोल हैं, गफला में स्टॉक ब्रोकर, दसविदानिया में विनय पाठक का सहकर्मी शिराज़, फस गए रे ओबामा के पुलिस इंस्पेक्टर, मेरे ब्रदर की दुल्हन का वेडिंग प्लानर, अग्निपथ में मुनीम, पान सिंह तोमर में लोकल रिपोर्टर, जॉली LLB में अरशद वारसी का साथी वकील, आँखों देखी में मामा जी और पीके फिल्म का मूर्ति बेचने वाला.

Shabdbeej 2015-2016 © All rights reserved.